• CBSE Class 10th

CBSE Class 12th

  • UP Board 10th
  • UP Board 12th
  • Bihar Board 10th
  • Bihar Board 12th
  • Top Schools in India
  • Top Schools in Delhi
  • Top Schools in Mumbai
  • Top Schools in Chennai
  • Top Schools in Hyderabad
  • Top Schools in Kolkata
  • Top Schools in Pune
  • Top Schools in Bangalore

Products & Resources

  • JEE Main Knockout April
  • Free Sample Papers
  • Free Ebooks
  • NCERT Notes

NCERT Syllabus

  • NCERT Books
  • RD Sharma Solutions
  • Navodaya Vidyalaya Admission 2024-25

NCERT Solutions

  • NCERT Solutions for Class 12
  • NCERT Solutions for Class 11
  • NCERT solutions for Class 10
  • NCERT solutions for Class 9
  • NCERT solutions for Class 8
  • NCERT Solutions for Class 7
  • JEE Main 2024
  • MHT CET 2024
  • JEE Advanced 2024
  • BITSAT 2024
  • View All Engineering Exams
  • Colleges Accepting B.Tech Applications
  • Top Engineering Colleges in India
  • Engineering Colleges in India
  • Engineering Colleges in Tamil Nadu
  • Engineering Colleges Accepting JEE Main
  • Top IITs in India
  • Top NITs in India
  • Top IIITs in India
  • JEE Main College Predictor
  • JEE Main Rank Predictor
  • MHT CET College Predictor
  • AP EAMCET College Predictor
  • GATE College Predictor
  • KCET College Predictor
  • JEE Advanced College Predictor
  • View All College Predictors
  • JEE Main Question Paper
  • JEE Main Cutoff
  • JEE Main Advanced Admit Card
  • AP EAPCET Hall Ticket
  • Download E-Books and Sample Papers
  • Compare Colleges
  • B.Tech College Applications
  • KCET Result
  • MAH MBA CET Exam
  • View All Management Exams

Colleges & Courses

  • MBA College Admissions
  • MBA Colleges in India
  • Top IIMs Colleges in India
  • Top Online MBA Colleges in India
  • MBA Colleges Accepting XAT Score
  • BBA Colleges in India
  • XAT College Predictor 2024
  • SNAP College Predictor
  • NMAT College Predictor
  • MAT College Predictor 2024
  • CMAT College Predictor 2024
  • CAT Percentile Predictor 2023
  • CAT 2023 College Predictor
  • CMAT 2024 Admit Card
  • TS ICET 2024 Hall Ticket
  • CMAT Result 2024
  • MAH MBA CET Cutoff 2024
  • Download Helpful Ebooks
  • List of Popular Branches
  • QnA - Get answers to your doubts
  • IIM Fees Structure
  • AIIMS Nursing
  • Top Medical Colleges in India
  • Top Medical Colleges in India accepting NEET Score
  • Medical Colleges accepting NEET
  • List of Medical Colleges in India
  • List of AIIMS Colleges In India
  • Medical Colleges in Maharashtra
  • Medical Colleges in India Accepting NEET PG
  • NEET College Predictor
  • NEET PG College Predictor
  • NEET MDS College Predictor
  • NEET Rank Predictor
  • DNB PDCET College Predictor
  • NEET Admit Card 2024
  • NEET PG Application Form 2024
  • NEET Cut off
  • NEET Online Preparation
  • Download Helpful E-books
  • Colleges Accepting Admissions
  • Top Law Colleges in India
  • Law College Accepting CLAT Score
  • List of Law Colleges in India
  • Top Law Colleges in Delhi
  • Top NLUs Colleges in India
  • Top Law Colleges in Chandigarh
  • Top Law Collages in Lucknow

Predictors & E-Books

  • CLAT College Predictor
  • MHCET Law ( 5 Year L.L.B) College Predictor
  • AILET College Predictor
  • Sample Papers
  • Compare Law Collages
  • Careers360 Youtube Channel
  • CLAT Syllabus 2025
  • CLAT Previous Year Question Paper
  • NID DAT Exam
  • Pearl Academy Exam

Predictors & Articles

  • NIFT College Predictor
  • UCEED College Predictor
  • NID DAT College Predictor
  • NID DAT Syllabus 2025
  • NID DAT 2025
  • Design Colleges in India
  • Top NIFT Colleges in India
  • Fashion Design Colleges in India
  • Top Interior Design Colleges in India
  • Top Graphic Designing Colleges in India
  • Fashion Design Colleges in Delhi
  • Fashion Design Colleges in Mumbai
  • Top Interior Design Colleges in Bangalore
  • NIFT Result 2024
  • NIFT Fees Structure
  • NIFT Syllabus 2025
  • Free Design E-books
  • List of Branches
  • Careers360 Youtube channel
  • IPU CET BJMC
  • JMI Mass Communication Entrance Exam
  • IIMC Entrance Exam
  • Media & Journalism colleges in Delhi
  • Media & Journalism colleges in Bangalore
  • Media & Journalism colleges in Mumbai
  • List of Media & Journalism Colleges in India
  • CA Intermediate
  • CA Foundation
  • CS Executive
  • CS Professional
  • Difference between CA and CS
  • Difference between CA and CMA
  • CA Full form
  • CMA Full form
  • CS Full form
  • CA Salary In India

Top Courses & Careers

  • Bachelor of Commerce (B.Com)
  • Master of Commerce (M.Com)
  • Company Secretary
  • Cost Accountant
  • Charted Accountant
  • Credit Manager
  • Financial Advisor
  • Top Commerce Colleges in India
  • Top Government Commerce Colleges in India
  • Top Private Commerce Colleges in India
  • Top M.Com Colleges in Mumbai
  • Top B.Com Colleges in India
  • IT Colleges in Tamil Nadu
  • IT Colleges in Uttar Pradesh
  • MCA Colleges in India
  • BCA Colleges in India

Quick Links

  • Information Technology Courses
  • Programming Courses
  • Web Development Courses
  • Data Analytics Courses
  • Big Data Analytics Courses
  • RUHS Pharmacy Admission Test
  • Top Pharmacy Colleges in India
  • Pharmacy Colleges in Pune
  • Pharmacy Colleges in Mumbai
  • Colleges Accepting GPAT Score
  • Pharmacy Colleges in Lucknow
  • List of Pharmacy Colleges in Nagpur
  • GPAT Result
  • GPAT 2024 Admit Card
  • GPAT Question Papers
  • NCHMCT JEE 2024
  • Mah BHMCT CET
  • Top Hotel Management Colleges in Delhi
  • Top Hotel Management Colleges in Hyderabad
  • Top Hotel Management Colleges in Mumbai
  • Top Hotel Management Colleges in Tamil Nadu
  • Top Hotel Management Colleges in Maharashtra
  • B.Sc Hotel Management
  • Hotel Management
  • Diploma in Hotel Management and Catering Technology

Diploma Colleges

  • Top Diploma Colleges in Maharashtra
  • UPSC IAS 2024
  • SSC CGL 2024
  • IBPS RRB 2024
  • Previous Year Sample Papers
  • Free Competition E-books
  • Sarkari Result
  • QnA- Get your doubts answered
  • UPSC Previous Year Sample Papers
  • CTET Previous Year Sample Papers
  • SBI Clerk Previous Year Sample Papers
  • NDA Previous Year Sample Papers

Upcoming Events

  • NDA Application Form 2024
  • UPSC IAS Application Form 2024
  • CDS Application Form 2024
  • CTET Admit card 2024
  • HP TET Result 2023
  • SSC GD Constable Admit Card 2024
  • UPTET Notification 2024
  • SBI Clerk Result 2024

Other Exams

  • SSC CHSL 2024
  • UP PCS 2024
  • UGC NET 2024
  • RRB NTPC 2024
  • IBPS PO 2024
  • IBPS Clerk 2024
  • IBPS SO 2024
  • Top University in USA
  • Top University in Canada
  • Top University in Ireland
  • Top Universities in UK
  • Top Universities in Australia
  • Best MBA Colleges in Abroad
  • Business Management Studies Colleges

Top Countries

  • Study in USA
  • Study in UK
  • Study in Canada
  • Study in Australia
  • Study in Ireland
  • Study in Germany
  • Study in China
  • Study in Europe

Student Visas

  • Student Visa Canada
  • Student Visa UK
  • Student Visa USA
  • Student Visa Australia
  • Student Visa Germany
  • Student Visa New Zealand
  • Student Visa Ireland
  • CUET PG 2024
  • IGNOU B.Ed Admission 2024
  • DU Admission 2024
  • UP B.Ed JEE 2024
  • LPU NEST 2024
  • IIT JAM 2024
  • IGNOU Online Admission 2024
  • Universities in India
  • Top Universities in India 2024
  • Top Colleges in India
  • Top Universities in Uttar Pradesh 2024
  • Top Universities in Bihar
  • Top Universities in Madhya Pradesh 2024
  • Top Universities in Tamil Nadu 2024
  • Central Universities in India
  • CUET Exam City Intimation Slip 2024
  • IGNOU Date Sheet
  • CUET Mock Test 2024
  • CUET Admit card 2024
  • CUET PG Syllabus 2024
  • CUET Participating Universities 2024
  • CUET Previous Year Question Paper
  • CUET Syllabus 2024 for Science Students
  • E-Books and Sample Papers
  • CUET Exam Pattern 2024
  • CUET Exam Date 2024
  • CUET Syllabus 2024
  • IGNOU Exam Form 2024
  • IGNOU Result
  • CUET City Intimation Slip 2024 Live

Engineering Preparation

  • Knockout JEE Main 2024
  • Test Series JEE Main 2024
  • JEE Main 2024 Rank Booster

Medical Preparation

  • Knockout NEET 2024
  • Test Series NEET 2024
  • Rank Booster NEET 2024

Online Courses

  • JEE Main One Month Course
  • NEET One Month Course
  • IBSAT Free Mock Tests
  • IIT JEE Foundation Course
  • Knockout BITSAT 2024
  • Career Guidance Tool

Top Streams

  • IT & Software Certification Courses
  • Engineering and Architecture Certification Courses
  • Programming And Development Certification Courses
  • Business and Management Certification Courses
  • Marketing Certification Courses
  • Health and Fitness Certification Courses
  • Design Certification Courses

Specializations

  • Digital Marketing Certification Courses
  • Cyber Security Certification Courses
  • Artificial Intelligence Certification Courses
  • Business Analytics Certification Courses
  • Data Science Certification Courses
  • Cloud Computing Certification Courses
  • Machine Learning Certification Courses
  • View All Certification Courses
  • UG Degree Courses
  • PG Degree Courses
  • Short Term Courses
  • Free Courses
  • Online Degrees and Diplomas
  • Compare Courses

Top Providers

  • Coursera Courses
  • Udemy Courses
  • Edx Courses
  • Swayam Courses
  • upGrad Courses
  • Simplilearn Courses
  • Great Learning Courses

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Wonder of Science Essay in Hindi) - 100 - 200 शब्द के निबंध, प्रस्तावना

English Icon

हमारे दैनिक जीवन से लेकर ब्रह्मांड में घटित होने वाली सभी घटनाओं के पीछे कोई न कोई विज्ञान छिपा हुआ है। हमें बस जरूरत है, तो उसे समझने और सामने लाने की। विज्ञान अपने आप में एक विशाल विषय है। हमारे जीवन के हर पहलू में विज्ञान के चमत्कार (wonder of science in hindi) देखने को मिलते हैं। इसके हर पहलू को कवर कर पाना लगभग असंभव है। विज्ञान के चमत्कार पर लिखे गए इस निबंध में हम आप लोगों को नवीनतम विज्ञान के चमत्कारों (wonders of science in hindi) से अवगत करवाने का प्रयास करेंगे। हिंदी में पत्र लेखन सीखें ।

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Essay on Vigyan ke chamatkar in Hindi) - प्रस्तावना (Introduction)

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (essay on vigyan ke chamatkar in hindi) - 100 - 200 शब्द, विज्ञान के चमत्कार (essay wonder of science in hindi) - अंतरिक्ष के क्षेत्र में, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science essay in hindi) - सूचना और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science essay in hindi) - शिक्षा के क्षेत्र में, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science) - कंप्यूटर के क्षेत्र में, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science) - मनोरंजन के क्षेत्र में, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science essay in hindi) - चिकित्सा के क्षेत्र में, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science) - 2022 के नोबल पुरस्कार विजेता और उनके अनुसंधान, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science) - 2021 के नोबल पुरस्कार विजेता और उनके अनुसंधान, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science) - 2020 के नोबल पुरस्कार विजेता और उनके अनुसंधान, विज्ञान के चमत्कार (wonder of science) - 2019 के नोबल पुरस्कार विजेता और उनके अनुसंधान, विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (wonder of science essay in hindi) - विज्ञान के चमत्कार लाभ और हानि, विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (wonder of science essay in hindi) - विज्ञान के चमत्कार से लाभ, विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (wonder of science essay in hindi) - विज्ञान के चमत्कार से हानि, विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (wonder of science essay in hindi) - क्या है भविष्य.

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Wonder of Science Essay in Hindi) - 100 - 200 शब्द के निबंध, प्रस्तावना

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (vigyan ke chamatkar nibandh) में हम आपको विज्ञान की परिभाषा के साथ-साथ विश्व में होने वाले नए अनुसंधानों, खोज तथा अविष्कारों और प्रयोगों से अवगत कराने का प्रयास करेंगे। विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (vigyan ke chamatkar par nibandh) विशेष इस लेख से आपकी जानकारी तो समृद्ध होगी ही और साथ ही आपको परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने में भी मदद करेगा।

अन्य निबंध पढ़ें-

  • प्रदूषण पर निबंध
  • वायु प्रदूषण पर निबंध
  • जलवायु परिवर्तन पर निबंध

हमेशा से कहा जाता रहा है कि ‘आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है’, जैसे-जैसे मानव जाति की आवश्यकता बढती गई, वैसे-वैसे ही उसने अपनी सुविधा के लिए अविष्कार करना आरंभ किया। विज्ञान से तात्पर्य एक ऐसे व्यवस्थित ज्ञान से है जो विचार, अवलोकन और प्रयोगों से प्राप्त किया जाता है जो कि किसी अध्ययन की प्रकृति या सिद्धांतो की जानकारी प्राप्त करने के लिए किए जाते हैं। विज्ञान शब्द का प्रयोग ज्ञान की ऐसी शाखा के लिए भी किया जाता है, जो तथ्य, सिद्धांत और तरीको का प्रयोग और परिकल्पना से स्थापित और व्यवस्थित करता है।

ये भी पढ़ें:

  • होली पर निबंध
  • गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर भाषण
  • हिंदी दिवस पर भाषण
  • बाल दिवस पर हिंदी में भाषण
  • हिंदी दिवस पर कविता

किसी भी वस्तु के बारे में जानकारी प्राप्त करना और जानकारी को सही तरीके से लागू करना तथा किसी भी वस्तु का सही अवलोकन अथवा विश्लेषण करना ही विज्ञान है। ‘वि’ का अर्थ है विकास करना, इससे तात्पर्य है कि विकास करने वाले ज्ञान को ही विज्ञान कहते हैं। आज विज्ञान के चमत्कार (vigyan ke chamatkar par nibandh) के माध्यम से ही मानव जाति इतनी समृद्ध हो पाई है। यदि प्राचीन काल की बात करें, तो मानव विकास उसकी चेतना के जागृत होने तथा उसकी जिज्ञासा का समुद्र की तरह विशाल होने के कारण ही हो पाया है। सबसे पहले मानव ने अपनी कमजोरियों को समझा और उसके बाद अपनी सीमाओं को, फिर मानव ने अपने दृढ़ निश्चय से अपनी कमजोरियों को दूर करने तथा अपनी सीमाओं को पार करने का अथक प्रयास किया।

इसमें मानव की चेतना ने मानव का बहुत साथ दिया। मानव चेतना ने स्वयं की कमजोरियों के बारे में उसे आभास कराया जैसे कि वह जंगली जानवरों से कमजोर है, मानव को उनसे लड़ने और अपनी रक्षा करने के लिए औजारों की आवश्यकता है, आदि तथा मानव की जिज्ञासा ने मानव को नई-नई वस्तुओं के बारें में जानकारी एकत्र करने के लिए प्रेरित किया जैसे वह किस वस्तु के माध्यम से एक मजबूत औजार बना सकता है जो उसके और उसकी परिवार की रक्षा कर सकता है। यही वह समय था जब पुरातन काल से मानव की चेतना और जिज्ञासा ने मानव को प्रगति की राह पर बढ़ते रहने को प्रेरित किया। इसके पश्चात मानव ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा और निरंतर अपना और अपने समाज का विकास करता चला गया।

मानव द्वारा अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए किए गए अथक प्रयासों की वजह से और विज्ञान के चमत्कार (wonder of science in hindi) से ही ऐसा संभव हो पाया है। मानव ने हर क्षेत्र में अपना विकास किया, पृथ्वी से लेकर ब्रह्मांड तक मानव ने विज्ञान के चमत्कार के माध्यम से अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने का प्रयास किया। हमारे वैज्ञानिकों ने ऐसे प्रयोगों को सफल बनाया है, जो मानव जाति के लिए बहुत महत्वपूर्ण थे। उन्होंने शिक्षा, यातायात, संचार, चिकित्सा, आदि सभी क्षेत्रों में चमत्कार किए हैं।

यदि हम यातायात के साधनों की बात करें, तो एक समय ऐसा था जब मनुष्य अपने पैरों के माध्यम से ही विचरण करता था और उसे किसी भी स्थान पर पहुँचने में बहुत समय लगता था। इस आवश्यकता पर ध्यान केंद्रित करते हुए इंसान ने पहिए का अविष्कार किया और आज वह इससे बहुत आगे निकल चुका है। एक समय था जब मनुष्य के लिए उड़ना कल्पना मात्र था, परंतु मनुष्य ने विज्ञान की सहायता से इस कल्पना को यथार्थ में परिवर्तित किया और हवाई जहाज का निर्माण किया। अब हम इसे विज्ञान का चमत्कार नहीं कहेंगे, तो और भला क्या कहेंगे। यातायात के क्षेत्र में विज्ञान के ऐसे बहुत से वंडर ऑफ साइंस हैं जो अकल्पनीय हैं, जैसे पानी के बड़े-बड़े जहाज, बुलेट ट्रेन, मेट्रो ट्रेन, हवाई जहाज, अंतरिक्ष में पहुँचने के लिए स्पेस क्राफ्ट आदि जो आज इस समाज के विकास में अपना योगदान दे रहे हैं।

कक्षा 10वीं के बाद करियर बनाने में सहायक कुछ महत्वपुर्ण लेख पढ़ें

  • बी.टेक क्या है? (फुल फार्म)
  • एमबीए (MBA - Full Form)
  • इंजीनियर कैसे बन सकते हैं?
  • डॉक्टर कैसे बनें (How to become a doctor)

भारत की विज्ञान के क्षेत्र में उपलब्धियां बढ़ती ही जा रहीं हैं। हमारा चंद्रयान-3 चंद्रमा की दक्षिणी सतह पर सफलतापूर्वक उतरने वाला यान बन गया है। इसके अलावा सूर्य के बारे में अनुसंधान करने वाला आदित्य एल-1 विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारतीय वैज्ञानिकों क्षमता को प्रदर्शित करता है।

वंडर ऑफ साइंस की वजह से हमारा देश भारत भी अंतरिक्ष के क्षेत्र में काफी आगे बढ़ता जा रहा है भारत ने भी एक साथ 104 उपग्रह लांच करके नया कीर्तिमान स्थापित किया है, साथ ही पिछले वर्ष हमारे देश के विज्ञानिकों ने उपग्रह को अंतरिक्ष में ही समाप्त करने के लिए मिसाइल का सफल परीक्षण किया। भारत ने एंटी-सैटेलाइट मिसाइल के लिए पृथ्वी एयर डिफेंस (पैड) सिस्टम को विकसित किया है। इसे प्रद्युम्न बैलिस्टिक मिसाइल इंटरसेप्टर भी कहते हैं। यह एक्सो-एटमॉसफियरिक (पृथ्वी के वातावरण से बाहर) और एंडो-एटमॉसफियरिक (पृथ्वी के वातावरण से अंदर) लक्ष्यों को नष्ट करने में सक्षम हैं।

हमारे देश ने विज्ञान के चमत्कार के माध्यम से अंतरिक्ष के क्षेत्र में बहुत से कीर्तिमान स्थापित किए है जिसमे से भारत का मंगल मिशन सफलता की नई उच्चाईयों को छु रहा है। यह मंगल गृह पर पहला ऐसा मिशन था जो सफल रहा था। साथ ही भारत के चंद्रयान प्रथम ने ही चंद्रमा पर पानी होने की पुष्टि की थी। हालांकि हमारा चंद्रयान द्वितीय सफल नहीं हो पाया पर हमारे वैज्ञानिकों ने अथक प्रयास कर इन चमत्कारों को आत्मसात करने का प्रयास किया है। साथ ही हमने ‘नाविक’ नामक अपना मैप नेविगेशन सिस्टम भी तैयार किया है जिससे भविष्य में हमारी गूगल मैप पर निर्भरता समाप्त होगी।

इसके साथ पिछले साल ही यह ज्ञात हुआ है कि ब्लैक होल के भीतर रोशनी होती है। अमेरिकी और यूरोपीय टेलिस्कोप द्वारा की गई खोज ने दुनिया को यह बताया है कि अंतरिक्ष में ब्लैक होल के आसपास बहुत तेज विकिरण एक्स-रे उत्सर्जन होता है। यह पहली बार है जब किसी ब्लैक होल से प्रकाश की खोज की गई है। इस रिसर्च में यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी से एक्सएमएम-न्यूटन और नासा से नूस्टार-न्यूक्लियर स्पेक्ट्रोस्कोपिक टेलीस्कोप ऐरे का प्रयोग किया गया था। इस मिशन का नेतृत्व अमेरिका के डैन विल्किंस ने किया।

आज का युग अंतरिक्ष का युग है और वहां की यात्रा पर्यटन का एक नया माध्यम बन चुकी है। पिछले वर्ष ब्रिटेन के रिचर्ड ब्रैनसन ने 71 वर्ष की आयु में अंतरिक्ष की यात्रा की। उनकी कंपनी वर्जिन गैलेटिक्स ने यूनिटी नाम का रॉकेट शटल बनाया जिसमें उन्होंने बाहरी अंतरिक्ष की 85 किलोमीटर यात्रा की।

दूसरी ओर अमेज़न कंपनी के संस्थापक जेफ़ बेजोस ने ब्लू ऑरिजिन कंपनी के स्पेस शटल न्यू शेपर्ड से अपनी अंतरिक्ष यात्रा की थी।

एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स ने स्टारशिप नाम का विश्व का सबसे बड़ा राकेट बनाया है। 2021 में उनकी कंपनी के जरिए 4 यात्रियों ने अंतरिक्ष की यात्रा की।

कहा जाता है कि आज का युग सूचना और प्रौद्यागिकी का युग है। आज मानव ने दूर-संचार तथा इन्टरनेट को आत्मसात कर लिया इसके साथ ही कंप्यूटर, मोबाइल आज मानव के जीवन का हिस्सा बन गए है। दूर संचार और इन्टरनेट को सुचारू रूप से चलाने के लिए फाइबर ऑप्टिकल नामक नई तकनीक का प्रयोग अब किया जा रहा है।फाइबर-ऑप्टिक संचारण एक प्रणाली है जिसमें सूचनाओं की जानकारी एक स्थान से दूसरे स्थान में ऑप्टिकल फाइबर के माध्यम से प्रकाश बिन्दुओं के रूप में भेजी जाती हैं। प्रकाश एक विद्युत चुम्बकीय तरंग वाहक विकसित करता है जो विधिवत् रूप से जानकारी को साथ ले जाते हैं। 1970 के दशक में इसे सबसे पहले विकसित किया गया, फाइबर-ऑप्टिक संचार प्रणाली ने दूरसंचार उद्योग में क्रांतिकारी परिवर्तन किया है और सूचना युग के आगमन में एक प्रमुख भूमिका निभाई है। विद्युत संचरण पर इसके फायदे के कारण, विकसित दुनिया में कोर नेटवर्क में ताबें की तारों के स्थान पर ऑप्टिकल फाइबर का प्रयोग किया जा रहा है।

शिक्षा के क्षेत्र में विज्ञान का बहुत अधिक महत्व है, आज इस कोरोना काल में विज्ञान के माध्यम से ही छात्र अपनी पढाई को जारी रखने में सक्षम हुए हैं। आज हम लैपटॉप, कंप्यूटर, मोबाइल और इंटरनेट के माध्यम से अपने घर बैठे ही अपने स्कूल की कक्षा ले सकते हैं। इन्टरनेट के माध्यम से वीडियो कॉल के जरिए हम अपनी कक्षा बिना रुके ले सकते हैं। साथ ही दुनिया भर की जानकारी हम मोबाइल पर एक क्लिक करके ही प्राप्त कर सकते हैं।

कंप्यूटर के क्षेत्र में भी सुपर कंप्यूटर की अवधारणा आज के युग में जन्म ले चुकी है। यह विश्व का सबसे तेज़ कंप्यूटर होता है जो डेटा को बहुत तेज़ी से प्रोसेस करता है। यह सामान्य कंप्यूटर की तुलना में बहुत तेज़ी से गणना करता है। सुपर कंप्यूटर की कंप्यूटिंग परफॉरमेंस को MIPS के स्थान पर FLOPS (Floating-point operations per second) में मापा जाता है। विश्व में सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर का नाम ‘फुगाकू’ है जोकि एक जापानी कंप्यूटर है तथा भारत के सबसे तेज़ सुपर कंप्यूटर का नाम ‘परम सिद्धि’ है।

विज्ञान के चमत्कारों ने हमेशा से मानव जीवन को सरल बनाने का प्रयास किया है। यही कारण है कि मानव आज तकनीक पर बहुत निर्भर हो गया है। आज हम घर बैठे-बैठे किसी से भी मोबाइल के माध्यम से बात कर सकते है। कंप्यूटर के माध्यम से हमारा कार्य सरल हो गया है और यातायात के विभिन्न साधनों के माध्यम से हमारी यात्रा सुखद हो गई है। यह विज्ञान के चमत्कार ही है जिनके वजह से मानव ने अपना जीवन सरल बना लिया है।

विज्ञान ने मनोरंजन के क्षेत्र में अद्भुत भूमिका निभाई है। आज विज्ञान के चमत्कारों के कारण ही मानव के पास मनोरंजन के बहुत सारे विकल्प हैं। मोबाइल, टीवी, कंप्यूटर, लैपटॉप, गेम्स आदि कुछ उदाहरण है जिससे मानव अपना मनोरंजन कर सकता है। इसके अलावा फेसबुक, इन्स्टाग्राम, यूट्यूब, टिकटॉक, ट्विटर आदि कुछ ऐसे ऐप हैं जो मानव का मनोरंजन करने में सहायता करते हैं। जुलाई 2023 में मार्क जकरबर्ग ने 'थ्रेड्स' नामक एक नया सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म लॉंच किया है, जो विश्व का 24 घंटे के अंदर सबसे ज्यादा डाउनलोड किए जाने वाला एप बन गया है।

मनुष्य ने चिकित्सा के क्षेत्र में भी बहुत से चमत्कार किए हैं। एक समय था जब छोटी-छोटी बीमारियाँ मनुष्य की मृत्यु का कारण बनती थी। परन्तु आज इंसान ने विज्ञान के माध्यम से इस क्षेत्र में बहुत अधिक सफलता प्राप्त की है। यदि पिछले कुछ वर्षो के चिकित्सा के क्षेत्र में नोबल पुरस्कारों की बात करें, तो हमें नए-नए विज्ञान के चमत्कार देखने को मिलते हैं -

2022 का नोबल पुरस्कार भौतिकी मे एलेन एस्पेक्ट, जॉन एफ क्लॉजर और एंटोन जेलिंगर को दिया गया। यह पुरस्कार जटिल फोटॉनों के साथ प्रयोगों, बेल असमानताओं के उल्लंघन की स्थापना और एडवांस क्वांटम सूचना विज्ञान के लिए दिया गया है। रसायन विज्ञान 2022 में नोबेल पुरस्कार संयुक्त रूप से कैरोलिन बर्टोज़ज़ी, मोर्टन मेल्डल और के. बैरी शार्पलेस को "क्लिक केमिस्ट्री और बायोऑर्थोगोनल केमिस्ट्री के विकास के लिए" प्रदान किया गया। फिजियोलॉजी या मेडिसिन 2022 में नोबेल पुरस्कार स्वांटों पाबों को "विलुप्त होमिनिन और मानव विकास के जीनोम से संबंधित उनकी खोजों के लिए" प्रदान किया गया।

2021 का नोबल पुरस्कार अमेरिकी वैज्ञानिक डेविड जूलियस और अर्देम पटापाउटियन को दिया गया। उन्हें तापमान और स्पर्श के लिए रिसेप्टर्स की अपनी खोजों के लिए यह पुरस्कार दिया गया है। यह खोज यह समझने में मदद करेगी कि कैसे गर्मी, ठंड और यांत्रिक बल तंत्रिका आवेगों (nerve impulses ) को शुरू करते हैं जो बदले में मनुष्यों को दुनिया को समझने और अनुकूलित करने की अनुमति देते हैं।

2020 के लिए यह पुरस्कार दो अमेरिकन वैज्ञानिक हार्वे जे ऑल्टर और माइकल हॉफटन व ब्रिटिश वैज्ञानिक चार्ल्स एम राइस को संयुक्त रूप से दिया गया है। उन्हें यह सम्मान हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज के लिए दिया किया गया।

इस बीमारी के कारण दुनिया भर में लोगों को सिरोसिस और लीवर कैंसर जैसी गंभीर बीमारी के शिकार हो जाते थे। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनिया भर में हेपेटाइटिस वायरस के करीब 7 करोड़ से अधिक मरीज हैं और इस वायरस के कारण हर साल करीब चार लाख लोग को मौत का सामना करना पड़ता है। हेपेटाइटिस सी वायरस की खोज के बाद खून का परीक्षण और जरूरी दवाइयों का निर्माण संभव हुआ है जिससे कई लोगों की जान बचाई जा सकी है।

2019 का चिकित्सा के क्षेत्र में नोबल पुरस्कार संयुक्त रूप से विलियम जी.कैलिन जूनियर, सर पीटर जे.रेटक्लिफ, ग्रेग एल. सेमेंज़ा को दिया गया। इन तीनों विजेताओं को शरीर की कोशिकाओं में जीवन और ऑक्सीजन को ग्रहण करने की क्षमता के संबंध में महत्वपूर्ण खोज करने के लिए पुरस्कार दिया गया है। इस खोज से यह ज्ञात होगा कि किस तरह ऑक्सिजन के स्तर कोशिकीय चयापचय और शारीरिक कार्यप्रणाली को प्रभावित करते हैं।' इससे अनीमिया, कैंसर आदि जैसे अन्य कई रोगों से लड़ने के लिए नई रणनीतियों का मार्ग प्रशस्त होगा।

कहते हैं ना कि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं। ठीक उसी तरह, विज्ञान के चमत्कार का सकारात्मक पक्ष भी है और नकारात्मक भी है। जहाँ विज्ञान ने मानव जाति का जीवन सरल किया है वही इसने मानव के विनाश का मार्ग भी प्रशस्त किया है। मानव ने बड़े-बड़े हथियार बनाए हैं। जिसने हमारी प्रकृति और पर्यावरण को नष्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। हमने बड़े-बड़े एटम बम, हाइड्रोजन बम बनायें है, जिससे मानव जाति के साथ-साथ इस पृथ्वी पर रहने वाले हर जीव का सर्वनाश हो सकता है।

विज्ञान से हमें अनेक लाभ प्राप्त हुए हैं। विज्ञान ने मानव का जीवन पहले के मुक़ाबले बेहद आसान बना दिया है। एक समय था जब मानव का जीवन बहुत कठिन था, परन्तु मानव ने अपने सामने आने वाली कठिनाइयों पर विज्ञान की मदद से विजय प्राप्त की है। मानव ने कष्ट देने वाले रोगों से लेकर विश्व के प्रत्येक जीव को विज्ञान के चमत्कार के माध्यम से नियंत्रण करने का प्रयास किया है। विज्ञान के माध्यम से ही आज हम टेक्नोलॉजी से जुड़ पाए हैं, जिसका उपयोग हम समाज के विकास और आम जन-जीवन को सरल बनाने के लिए करते हैं। आज के दौर में हम जो कुछ भी करते, देखते या सीखते हैं उसमे कहीं न कहीं विज्ञान का योगदान है। बात किसी स्मार्ट गैजेट की हो या फिर या फिर हमारे दैनिक जीवन में उपयोग किए जाने वाले किसी भी वस्तु की हर जगह आप आपने आस पास विज्ञान को पाएंगे।

जिस तरह से किसी भी वस्तु का कोई सकारात्मक पहलु होता है, उसी तरह उसका नकारात्मक पहलु भी होता है। विज्ञान के चमत्कार से जितनी हमारी सुविधाएं बढ़ी हैं, हमारी मुश्किलें भी उतनी ही बढ़ी हैं। विज्ञान का योगदान आज के दौर में इतना अधिक बढ़ गया है कि हम विज्ञान पर ही निर्भर रहते हैं। समाज को नुकसान पहुँचाने के लिए कुछ ऐसे घातक हथियारों का निर्माण हो चूका है जिससे पुरे विश्व को कुछ क्षणों में ही नष्ट किया जा सकता है। साथ ही कुछ ऐसी वस्तुएं भी हैं जिनका हम अपने दैनिक जीवन में निरंतर उपयोग करते हैं जिससे हमारा वातावरण, पर्यावरण और जन-जीवन खतरे के तरफ बढ़ता हुआ नजर आ रहा है।

जैसा कि हम समझ चुके हैं कि विज्ञान ने जहाँ मानव जीवन को सुंदर, सुखद तथा आरामदायक बनाने का काम किया है, वहीं हिरोशिमा और नागासाकी के रूप में इसके विनाश की क्षमता को भी हमने देखा है। महाविनाश के लिए बनाए गए हथियार, जैविक हथियार चुटकियों में विज्ञान के चमत्कारों को मिट्टी में मिलाने में सक्षम है। विज्ञान के चमत्कारों का वास्तविक लाभ तभी मिलेगा जब उनका प्रयोग जगत कल्याण के लिए किया जाए, नहीं तो विज्ञान के अभिशाप की विभीषिका पूरी दुनिया को झेलनी पड़ेगी।

Frequently Asked Question (FAQs)

विज्ञान से तात्पर्य ऐसे ज्ञान से है जो विचार अवलोकन और प्रयोगों से प्राप्त होता है । निरंतर विकसित होने वाला ज्ञान विज्ञान कहलाता हैं।

मानव जाति का विकास मानव की जिज्ञासा और चेतना के माध्यम से हुआ जिसने मानव को निरंतर अविष्कार करने के लिए प्रेरित किया।

जेफ़ बेज़ोस ने न्यू शेपर्ड नामक अंतरिक्ष यान से अंतरिक्ष की यात्रा की ।

एलन मास्क की कंपनी का नाम स्पेस एक्स है और उसने विश्व के सबसे बड़े स्पेस शटल स्टारशिप का निर्माण किया है।

2021 का नोबल पुरस्कार अमेरिकी वैज्ञानिक डेविड जूलियस और अर्देम पटापाउटियन को प्रदान किया गया है।

  • Latest Articles
  • Popular Articles

Upcoming School Exams

National institute of open schooling 12th examination.

Admit Card Date : 28 March,2024 - 22 May,2024

National Institute of Open Schooling 10th examination

Madhya pradesh board 10th examination.

Application Date : 01 May,2024 - 20 May,2024

Madhya Pradesh Board 12th Examination

Uttar pradesh board 12th examination.

Application Date : 07 May,2024 - 31 May,2024

Applications for Admissions are open.

JEE Main Important Physics formulas

JEE Main Important Physics formulas

As per latest 2024 syllabus. Physics formulas, equations, & laws of class 11 & 12th chapters

ALLEN Digital Scholarship Admission Test (ADSAT)

ALLEN Digital Scholarship Admission Test (ADSAT)

Register FREE for ALLEN Digital Scholarship Admission Test (ADSAT)

Aakash iACST Scholarship Test 2024

Aakash iACST Scholarship Test 2024

Get up to 90% scholarship on NEET, JEE & Foundation courses

JEE Main Important Chemistry formulas

JEE Main Important Chemistry formulas

As per latest 2024 syllabus. Chemistry formulas, equations, & laws of class 11 & 12th chapters

PACE IIT & Medical, Financial District, Hyd

PACE IIT & Medical, Financial District, Hyd

Enrol in PACE IIT & Medical, Financial District, Hyd for JEE/NEET preparation

ALLEN JEE Exam Prep

ALLEN JEE Exam Prep

Start your JEE preparation with ALLEN

Explore on Careers360

  • Board Exams
  • Top Schools
  • Navodaya Vidyalaya
  • NCERT Solutions for Class 10
  • NCERT Solutions for Class 9
  • NCERT Solutions for Class 8
  • NCERT Solutions for Class 6

NCERT Exemplars

  • NCERT Exemplar
  • NCERT Exemplar Class 9 solutions
  • NCERT Exemplar Class 10 solutions
  • NCERT Exemplar Class 11 Solutions
  • NCERT Exemplar Class 12 Solutions
  • NCERT Books for class 6
  • NCERT Books for class 7
  • NCERT Books for class 8
  • NCERT Books for class 9
  • NCERT Books for Class 10
  • NCERT Books for Class 11
  • NCERT Books for Class 12
  • NCERT Notes for Class 9
  • NCERT Notes for Class 10
  • NCERT Notes for Class 11
  • NCERT Notes for Class 12
  • NCERT Syllabus for Class 6
  • NCERT Syllabus for Class 7
  • NCERT Syllabus for class 8
  • NCERT Syllabus for class 9
  • NCERT Syllabus for Class 10
  • NCERT Syllabus for Class 11
  • NCERT Syllabus for Class 12
  • CBSE Date Sheet
  • CBSE Syllabus
  • CBSE Admit Card
  • CBSE Result
  • CBSE Result Name and State Wise
  • CBSE Passing Marks

CBSE Class 10

  • CBSE Board Class 10th
  • CBSE Class 10 Date Sheet
  • CBSE Class 10 Syllabus
  • CBSE 10th Exam Pattern
  • CBSE Class 10 Answer Key
  • CBSE 10th Admit Card
  • CBSE 10th Result
  • CBSE 10th Toppers
  • CBSE Board Class 12th
  • CBSE Class 12 Date Sheet
  • CBSE Class 12 Admit Card
  • CBSE Class 12 Syllabus
  • CBSE Class 12 Exam Pattern
  • CBSE Class 12 Answer Key
  • CBSE 12th Result
  • CBSE Class 12 Toppers

CISCE Board 10th

  • ICSE 10th time table
  • ICSE 10th Syllabus
  • ICSE 10th exam pattern
  • ICSE 10th Question Papers
  • ICSE 10th Result
  • ICSE 10th Toppers
  • ISC 12th Board
  • ISC 12th Time Table
  • ISC Syllabus
  • ISC 12th Question Papers
  • ISC 12th Result
  • IMO Syllabus
  • IMO Sample Papers
  • IMO Answer Key
  • IEO Syllabus
  • IEO Answer Key
  • NSO Syllabus
  • NSO Sample Papers
  • NSO Answer Key
  • NMMS Application form
  • NMMS Scholarship
  • NMMS Eligibility
  • NMMS Exam Pattern
  • NMMS Admit Card
  • NMMS Question Paper
  • NMMS Answer Key
  • NMMS Syllabus
  • NMMS Result
  • NTSE Application Form
  • NTSE Eligibility Criteria
  • NTSE Exam Pattern
  • NTSE Admit Card
  • NTSE Syllabus
  • NTSE Question Papers
  • NTSE Answer Key
  • NTSE Cutoff
  • NTSE Result

Schools By Medium

  • Malayalam Medium Schools in India
  • Urdu Medium Schools in India
  • Telugu Medium Schools in India
  • Karnataka Board PUE Schools in India
  • Bengali Medium Schools in India
  • Marathi Medium Schools in India

By Ownership

  • Central Government Schools in India
  • Private Schools in India
  • Schools in Delhi
  • Schools in Lucknow
  • Schools in Kolkata
  • Schools in Pune
  • Schools in Bangalore
  • Schools in Chennai
  • Schools in Mumbai
  • Schools in Hyderabad
  • Schools in Gurgaon
  • Schools in Ahmedabad
  • Schools in Uttar Pradesh
  • Schools in Maharashtra
  • Schools in Karnataka
  • Schools in Haryana
  • Schools in Punjab
  • Schools in Andhra Pradesh
  • Schools in Madhya Pradesh
  • Schools in Rajasthan
  • Schools in Tamil Nadu
  • NVS Admit Card
  • Navodaya Result
  • Navodaya Exam Date
  • Navodaya Vidyalaya Admission Class 6
  • JNVST admit card for class 6
  • JNVST class 6 answer key
  • JNVST class 6 Result
  • JNVST Class 6 Exam Pattern
  • Navodaya Vidyalaya Admission
  • JNVST class 9 exam pattern
  • JNVST class 9 answer key
  • JNVST class 9 Result

Download Careers360 App's

Regular exam updates, QnA, Predictors, College Applications & E-books now on your Mobile

student

Certifications

student

We Appeared in

Economic Times

a scientist essay in hindi

25,000+ students realised their study abroad dream with us. Take the first step today

Here’s your new year gift, one app for all your, study abroad needs, start your journey, track your progress, grow with the community and so much more.

a scientist essay in hindi

Verification Code

An OTP has been sent to your registered mobile no. Please verify

a scientist essay in hindi

Thanks for your comment !

Our team will review it before it's shown to our readers.

a scientist essay in hindi

  • Essays in Hindi /

Scientist Essay in Hindi: वैज्ञानिक पर 100, 200 और 500 शब्दों में निबंध

' src=

  • Updated on  
  • मार्च 2, 2024

Scientist Essay in Hindi

Scientist Essay in Hindi: वैज्ञानिकों के जीवन और योगदान को समझने से छात्र विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित जैसे विषयों के प्रति रुचि लेते है। प्रसिद्ध वैज्ञानिकों के सामने आई चुनौतियों, सफलताओं को समझकर वैज्ञानिक सिद्धांतों और पद्धतियों की गहरी समझ विकसित कर सकते हैं। वैज्ञानिकों पर निबंध छात्रों के लिए प्रेरणा के स्रोत के रूप में काम करते हैं। इसलिए कई बार छात्रों को वैज्ञानिक पर निबंध तैयार करने को दिया जाता है। Scientist Essay in Hindi के बारे में जानने के लिए इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें। 

This Blog Includes:

वैज्ञानिक पर 100 शब्दों में निबंध , वैज्ञानिक पर 200 शब्दों में निबंध, एक अच्छे वैज्ञानिक के गुण, वैज्ञानिकों का समाज में योगदान, महान वैज्ञानिकों के नैतिक उत्तरदायित्व, वैज्ञानिक पर 10 लाइन्स, भारत के महान वैज्ञानिक.

Scientist Essay in Hindi 100 शब्दों में निबंध नीचे दिया गया है:

वैज्ञानिक ज्ञान को बढ़ाने और हमारे जीवन को बेहतर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे ब्रह्मांड के रहस्यों का पता लगाते हैं, नई तकनीक विकसित करते हैं और जटिल समस्याओं का समाधान ढूंढते हैं। अपने अनुसंधान और खोजों के माध्यम से वैज्ञानिक चिकित्सा सफलताओं, पर्यावरण संरक्षण और तकनीकी के नवाचार में भी अपना योगदान देते हैं। उनका काम जीवविज्ञान से भौतिकी तक इंजीनियरिंग तक विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति को प्रेरित करता है। वैज्ञानिक समाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। आज के समय में अंतरिक्ष में जा पाना वैज्ञानिकों के प्रयासों के कारण ही सफल हो पाया है। वैज्ञानिकों की वजह से ही मेडिकल के क्षेत्र ने इतनी तरक्की की है। वैज्ञानिकों के कारण ही आज हम एक आने जाने के लिए आधुनिक वाहनों का प्रयोग कर पाते हैं। वैज्ञानिक आने वाले कल के अग्रदूत हैं, जो अपने समर्पण, रचनात्मकता और ज्ञान की निरंतर खोज के माध्यम से भविष्य को आकार दे रहे हैं। 

Scientist Essay in Hindi 200 शब्दों में निबंध नीचे दिया गया है:

वैज्ञानिक ज्ञान के महासागर हैं। वे लगातार ब्रह्मांड के रहस्यों की खोज कर रहे हैं और अनगिनत क्षेत्रों में प्रगति कर रहे हैं।  उनका काम और खोज व्यापक रूप से फैला हुआ है। मानव शरीर के रहस्यों को उजागर करने से लेकर ब्रह्मांड के रहस्यों को उजागर करने तक। सूक्ष्म अनुसंधान और प्रयोग के माध्यम से वैज्ञानिक प्राकृतिक घटनाओं को समझने और वैश्विक चुनौतियों के लिए नए और बेहतर समाधान विकसित करने का प्रयास करते हैं।

चिकित्सा के क्षेत्र में, वैज्ञानिक बीमारियों के नए उपचार और इलाज खोजने, स्वास्थ्य देखभाल में सुधार करने और जीवन बचाने के लिए अथक प्रयास करते हैं। टीके विकसित करने से लेकर आधुनिक सर्जिकल तकनीकों तक, उनके योगदान ने चिकित्सा पद्धति में क्रांति ला दी है और मानव स्वास्थ्य को बढ़ाया है।

चिकित्सा के अलावा, वैज्ञानिक पर्यावरणीय मुद्दों से निपटने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण और जैव विविधता के नुकसान का अध्ययन करते हैं, और भावी पीढ़ियों के लिए हमारे ग्रह की सुरक्षा के लिए स्थायी समाधान विकसित करने का प्रयास करते हैं।

वैज्ञानिक तकनीक के नवाचार को बढ़ावा देते हैं, अत्याधुनिक तकनीकों का विकास करते हैं जो हमारी आधुनिक दुनिया को आकार देते हैं। स्मार्टफोन से लेकर अंतरिक्ष की खोज तक, उनके आविष्कारों ने हमारे जीने, काम करने और संचार करने के तरीके को बदल दिया है।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि वैज्ञानिक जिज्ञासा और आलोचनात्मक सोच को प्रेरित करते हैं। हमें अपने आस-पास की दुनिया पर सवाल उठाने और अवलोकन और प्रयोग के लिए प्रोत्साहित करते हैं। ज्ञान की खोज के प्रति उनका समर्पण प्रेरणा की किरण के रूप में कार्य करता है। जो भावी पीढ़ियों को उनके नक्शेकदम पर चलने के लिए प्रेरित करता है।

वैज्ञानिक समाज के गुमनाम सुपरहीरो हैं, जो चिकित्सा से लेकर प्रौद्योगिकी और पर्यावरण विज्ञान तक के क्षेत्रों में प्रगति और नवाचार को बढ़ावा दे रहे हैं। 

Scientist Essay in Hindi 500 शब्दों में

Scientist Essay in Hindi 500 शब्दों में निबंध नीचे दिया गया है:

वैज्ञानिक आधुनिक समय के खोजकर्ता हैं। वे हमारे समाज में ज्ञान के स्तंभ के रूप में खड़े हैं। ज्ञान और समझ की अपनी निरंतर खोज के माध्यम से, वैज्ञानिक ब्रह्मांड के रहस्यों को सुलझाते हैं, प्रकृति के रहस्यों को खोलते हैं, और मानवता को अज्ञात क्षेत्रों में आगे बढ़ाते हैं। उनका काम जीव विज्ञान से लेकर भौतिकी से रसायन विज्ञान तक लगभग सभी विषयों तक फैला हुआ है उनकी खोजों ने दुनिया की हमारी समझ में क्रांति ला दी है और हमारे जीवन जीने के तरीके को बदल दिया है। इस निबंध में हम वैज्ञानिकों के दुनिया में उनके योगदान, प्रेरणाओं और समाज और दुनिया पर उनके गहरे प्रभाव की खोज करेंगे।

अच्छे वैज्ञानिकों के पास गुणों की भरमार होती है जो उन्हें अपने क्षेत्र में उत्कृष्टता प्राप्त करने और ज्ञान में महत्वपूर्ण योगदान देने में सक्षम बनाता है। अच्छे वैज्ञानिकों में अपने आसपास की दुनिया के बारे में स्वाभाविक जिज्ञासा होती है।  वे यह समझने की इच्छा से प्रेरित होते हैं कि चीजें कैसे काम करती हैं और नए ज्ञान को उजागर करते हैं। वैज्ञानिकों के लिए डेटा का विश्लेषण करने, साक्ष्य का मूल्यांकन करने और निष्कर्ष निकालने के लिए आलोचनात्मक सोच होती है।  अच्छे वैज्ञानिक समस्याओं को संदेह के साथ देखते हैं और अपने द्वारा निकाले गए निष्कर्षों की वैधता को कठोरता से सिद्ध करते हैं। नए विचारों, परिकल्पनाओं और अनुसंधान को उत्पन्न करने के लिए रचनात्मकता महत्वपूर्ण है। अच्छे वैज्ञानिक अच्छे विचारक भी होते हैं जो नए रास्ते तलाशने और स्थापित सिद्धांतों को चुनौती देने से नहीं डरते। नई खोज चुनौतीपूर्ण हो सकती है और इसमें अक्सर असफलताएं और विफलताएं शामिल होती हैं। अच्छे वैज्ञानिक बाधाओं के सामने दृढ़ता और दृढ़ संकल्प का प्रदर्शन करते हैं, चुनौतियों पर काबू पाने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए लगातार प्रयास करते हैं। अच्छे वैज्ञानिक अपने काम में संपूर्ण और व्यवस्थित होते हैं, अपने प्रयोग और विश्लेषण भी सटीकता से करते हैं। अच्छे वैज्ञानिक अपनी बात को समझने में कुशल होते हैं जो जटिल विचारों और अवधारणाओं को स्पष्ट और प्रेरक ढंग से बता सकते हैं। वैज्ञानिक उच्च नैतिक चरित्र वाले होते हैं, जिनमें ईमानदारी, पारदर्शिता और अनुसंधान विषयों और सहकर्मियों के प्रति सम्मान शामिल है। वैज्ञानिक सहयोगी होते हैं और विशेषज्ञता के मूल्य को पहचानते हुए दूसरों के साथ काम करने के लिए तैयार रहते हैं। वे बदलाव को स्वीकार करते हैं और लगातार सीखने और अपने करियर में आगे बढ़ने का प्रयास करते हैं।

वैज्ञानिक विभिन्न क्षेत्रों में समाज में अमूल्य योगदान देते हैं, हमारे जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाते हैं। वे तकनीकी प्रगति करते हैं और दुनिया के बारे में हमारी समझ का विस्तार करते हैं। वैज्ञानिकों ने चिकित्सा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण प्रगति की है, जीवन रक्षक उपचार, टीके और चिकित्सा प्रौद्योगिकियों का विकास किया है। उनके शोध से चेचक जैसी बीमारियों का खात्मा और कैंसर, मधुमेह और एचआईवी/एड्स बीमारियों के उपचार का विकास हुआ है। वैज्ञानिक तकनीकी नवाचार को बढ़ावा देते हैं, नई प्रौद्योगिकियों का विकास करते हैं जो विभिन्न क्षेत्रों में सुविधा और पहुंच में सुधार करती हैं।  स्मार्टफोन से लेकर नई ऊर्जा टेक्नोलॉजी से लेकर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तक, वैज्ञानिक प्रगति ने हमारे जीने, काम करने और बात करने के तरीके को बदल दिया है। जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण और जैव विविधता हानि जैसी पर्यावरणीय चुनौतियों से निपटने में वैज्ञानिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वैज्ञानिक पारिस्थितिक तंत्र की रक्षा, प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण और समाज पर पर्यावरणीय गिरावट के प्रभावों को कम करने के लिए स्थायी समाधान के विकास में योगदान देते हैं। वैज्ञानिक फसल सुधार, कीट प्रबंधन और टिकाऊ कृषि पद्धतियों पर अनुसंधान के माध्यम से कृषि उत्पादकता और खाद्य सुरक्षा में भी योगदान करते हैं।  उनका काम किसानों को फसल की पैदावार बढ़ाने, भोजन की गुणवत्ता में सुधार करने और बदलती पर्यावरणीय परिस्थितियों के अनुकूल ढलने में मदद करता है, जिससे दुनिया भर के समुदायों के लिए एक स्थिर खाद्य आपूर्ति सुनिश्चित होती है। वैज्ञानिक अंतरिक्ष खोज के माध्यम से ब्रह्मांड के रहस्यों का पता लगाते हैं, ब्रह्मांड के बारे में हमारे ज्ञान का विस्तार करते हैं। वैज्ञानिक शिक्षा और ज्ञान प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, पब्लिकेशन, लेक्चर्स और एकेडमिक प्रोग्राम्स के माध्यम से अपने परिणामों को लोगों के साथ बांटते हैं। उनका काम जिज्ञासा और आलोचनात्मक सोच आजीवन सीखने के लिए प्रेरित करता है। वैज्ञानिक स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नीति और निर्णय लेने की जानकारी देने के लिए साक्ष्य-आधारित विशेषज्ञता प्रदान करते हैं। उनका शोध सरकारों को सार्वजनिक स्वास्थ्य, पर्यावरण संरक्षण और आपदा तैयारी जैसे सामाजिक मुद्दों के समाधान के लिए सूचित नीतियां और रणनीतियां विकसित करने में मदद करता है।

महान वैज्ञानिक अपने क्षेत्र में प्रभावशाली शख्सियत के रूप में महत्वपूर्ण नैतिक जिम्मेदारियाँ निभाते हैं। महान वैज्ञानिक अपने शोध अभ्यासों में ईमानदारी के उच्चतम मानकों को कायम रखते हैं। जिससे उनकी खोजों की सटीकता और विश्वसनीयता सुनिश्चित होती है। वे अपने परिणामों की रिपोर्ट सच्चाई और पारदर्शिता से करते हैं। महान वैज्ञानिक मानवों जानवरों और पर्यावरण की भलाई और अधिकारों को प्राथमिकता देते हैं। वे सुनिश्चित करते हैं कि मानव विषयों से जुड़ी खोज नैतिक रूप से और सहमति से आयोजित किए जाएं। वे अपने अध्ययन में जानवरों और पारिस्थितिक तंत्र को होने वाले नुकसान को कम करते हैं। महान वैज्ञानिक सहकर्मियों और सहयोगियों के योगदान सम्मान करते हैं। वे व्यक्तिगत लाभ या बाहरी दबाव से ऊपर अपने काम में निष्पक्षता को प्राथमिकता देते हैं। वे सत्यनिष्ठा, ईमानदारी, सम्मान और सामाजिक जिम्मेदारी के सिद्धांतों को बरकरार रखते हैं। वे विज्ञान की उन्नति और समाज की बेहतरी में योगदान देते हैं।

वैज्ञानिक पर 10 लाइन्स नीचे दी गई हैं:

  • वैज्ञानिक ऐसे व्यक्ति होते हैं जो ब्रह्मांड के रहस्यों का पता लगाते हैं और हमारे आसपास की दुनिया को समझने का प्रयास करते हैं।
  • वे हमारे ज्ञान का विस्तार करने और खोज करने के लिए अनुसंधान करते हैं, प्रयोग करते हैं और डेटा का विश्लेषण करते हैं।
  • ब्रह्मांड के अध्ययन से लेकर मानव शरीर की जटिलताओं की जांच तक, वैज्ञानिक कई प्रकार के विषयों को कवर करते हैं।
  • अपने काम के माध्यम से, वैज्ञानिक नई तकनीकें, चिकित्सा उपचार और वैश्विक चुनौतियों का समाधान विकसित करते हैं।
  • वे सहकर्मियों के साथ सहयोग करते हैं, अपने निष्कर्षों को वैज्ञानिक समुदाय के साथ बांटते करते हैं।
  • वैज्ञानिक जलवायु परिवर्तन, बीमारी की रोकथाम और तकनीकी नवाचार जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों से निपटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  • सबूत पर आधारित जांच और आलोचनात्मक सोच के प्रति उनका समर्पण समाज में प्रगति और नवाचार को प्रेरित करता है।
  • वैज्ञानिकों को अक्सर चुनौतियों और असफलताओं का सामना करना पड़ता है लेकिन वे ज्ञान और समझ की तलाश में लगे रहते हैं।
  • वे भावी पीढ़ियों को विज्ञान में करियर बनाने और मानवता की उन्नति में योगदान देने के लिए प्रेरित करते हैं।
  • वैज्ञानिक खोज के पथप्रदर्शक हैं, जो अपनी जिज्ञासा, सरलता और प्रतिबद्धता के माध्यम से दुनिया को आकार दे रहे हैं।

वैज्ञानिक ज्ञान और प्रगति के अग्रदूत होते हैं। उनकी समझ और नवाचार की खोज दुनिया को लगातार आकार देती है जिसमें हम रहते हैं। अपने समर्पण, जिज्ञासा और सत्य के प्रति अटूट प्रतिबद्धता के माध्यम से, वैज्ञानिक ब्रह्मांड के रहस्यों को सुलझाते हैं। अपने नेतृत्व के माध्यम से समास्याओं का समाधान विकसित करते हैं। उनका योगदान चिकित्सा से लेकर पर्यावरण संरक्षण और अंतरिक्ष की खोज तक, हमारे जीवन को समृद्ध बनाने और सामाजिक उन्नति को बढ़ावा देने तक विविध क्षेत्रों में फैला हुआ है।

भारत के महान वैज्ञानिकों के नाम नीचे दिए गए हैं:

सी. वी. रमन

 सर चन्द्रशेखर वेंकट रमन एक भौतिक विज्ञानी थे जो प्रकाश प्रकीर्णन में अपने अभूतपूर्व कार्य के लिए जाने जाते हैं, जिसके कारण रमन प्रभाव की खोज हुई। उन्होंने 1930 में भौतिकी में नोबेल पुरस्कार प्राप्त किया था। उन्होंने प्रकाशिकी के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया और विज्ञान में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहले एशियाई थे।

जगदीश चंद्र बोस

जगदीश चंद्र बोस ने भौतिकी, जीव विज्ञान और पुरातत्व सहित विभिन्न क्षेत्रों में महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने रेडियो और माइक्रोवेव ऑप्टिक्स की जांच कार्य किया था। उनके काम ने वायरलेस संचार के विकास की नींव रखी।  बोस को अक्सर आधुनिक भारतीय विज्ञान का जनक माना जाता है।

श्रीनिवास रामानुजन

श्रीनिवास रामानुजन एक स्वयं से सीखे हुए गणितज्ञ थे जिनके संख्या सिद्धांत, अनंत श्रृंखला और निरंतर भिन्नों में काम ने गणित के क्षेत्र में क्रांति ला दी। कई चुनौतियों का सामना करने के बाद उनकी प्रतिभा को जी.एच. हार्डी जैसे गणितज्ञों ने पहचाना और वह 20वीं सदी के सबसे प्रसिद्ध गणितज्ञों में से एक बन गए।

सत्येंद्र नाथ बोस

सत्येन्द्र नाथ बोस एक सैद्धांतिक भौतिक विज्ञानी थे जिन्हें बोस-आइंस्टीन सांख्यिकी के सिद्धांत और बोस-आइंस्टीन कंडेनसेट की अवधारणा को विकसित करने में अल्बर्ट आइंस्टीन के साथ सहयोग के लिए जाना जाता है। उनके काम ने क्वांटम सांख्यिकी के क्षेत्र की नींव रखी और मौलिक कणों की हमारी समझ में योगदान दिया।

होमी जे. भाभा

होमी जहांगीर भाभा एक परमाणु भौतिक विज्ञानी थे जिन्होंने भारत के परमाणु कार्यक्रम के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्हें अक्सर भारतीय परमाणु कार्यक्रम के जनक के रूप में जाना जाता है और उन्होंने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (टीआईएफआर) और परमाणु ऊर्जा प्रतिष्ठान, ट्रॉम्बे सहित कई शोध संस्थानों की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

वैज्ञानिक ज्ञान को आगे बढ़ाने, नई प्रौद्योगिकी को विकसित करने और गंभीर वैश्विक चुनौतियों का समाधान करके समाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे चिकित्सा, प्रौद्योगिकी, पर्यावरण संरक्षण और अंतरिक्ष खोज, प्रगति जैसे क्षेत्रों में योगदान देते हैं।

वैज्ञानिक अपने कार्यों के व्यवस्थित अवलोकन, प्रयोग और विश्लेषण के माध्यम से अपना अनुसंधान करते हैं। वे नई परिकल्पनाएँ बनाते हैं, उनका परीक्षण करने के लिए प्रयोग या अध्ययन डिज़ाइन करते हैं, डेटा एकत्र करते हैं, परिणामों का विश्लेषण करते हैं और निष्कर्ष निकालते हैं। इस प्रक्रिया में कठोर कार्यप्रणाली का पालन शामिल है।

अच्छे वैज्ञानिकों में जिज्ञासा, आलोचनात्मक सोच, रचनात्मकता, दृढ़ता, ध्यान, संचार का कौशल, नैतिक आचरण, सहयोग और अनुकूलनशीलता जैसे गुण होते हैं।  ये गुण वैज्ञानिकों को अपने काम में उत्कृष्टता प्राप्त करने और अपने क्षेत्र में सार्थक योगदान देने में सक्षम बनाते हैं।

वैज्ञानिक अनुसंधान महत्वपूर्ण है क्योंकि यह दुनिया के बारे में हमारी समझ का विस्तार करता है, तकनीकी नवाचार को बढ़ावा देता है और सामाजिक चुनौतियों का समाधान करता है। इससे चिकित्सा, प्रौद्योगिकी, कृषि और पर्यावरणीय स्थिरता में प्रगति होती है, जीवन की गुणवत्ता में सुधार होता है और मानवता के भविष्य को आकार मिलता है।

आशा है कि आपको इस ब्लाॅग में Scientist Essay in Hindi के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी। इसी प्रकार के निबंध के ब्लॉग्स पढ़ने के लिए Leverage Edu के साथ बने रहें।

' src=

Team Leverage Edu

प्रातिक्रिया दे जवाब रद्द करें

अगली बार जब मैं टिप्पणी करूँ, तो इस ब्राउज़र में मेरा नाम, ईमेल और वेबसाइट सहेजें।

Contact no. *

browse success stories

Leaving already?

8 Universities with higher ROI than IITs and IIMs

Grab this one-time opportunity to download this ebook

Connect With Us

25,000+ students realised their study abroad dream with us. take the first step today..

a scientist essay in hindi

Resend OTP in

a scientist essay in hindi

Need help with?

Study abroad.

UK, Canada, US & More

IELTS, GRE, GMAT & More

Scholarship, Loans & Forex

Country Preference

New Zealand

Which English test are you planning to take?

Which academic test are you planning to take.

Not Sure yet

When are you planning to take the exam?

Already booked my exam slot

Within 2 Months

Want to learn about the test

Which Degree do you wish to pursue?

When do you want to start studying abroad.

September 2024

January 2025

What is your budget to study abroad?

a scientist essay in hindi

How would you describe this article ?

Please rate this article

We would like to hear more.

Lekh Sutra

My Favourite Scientist Essay In Hindi | मेरा प्रिय वैज्ञानिक निबंध

आज हम आपको अपने पसंदीदा वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल कलाम (My Favourite Scientist Essay In Hindi) पर एक छोटे निबंध के माध्यम से उनके जीवन और योगदान की दुनिया में एक सफल यात्रा पर ले जाते हैं। यह निबंध हिंदी में आपको उनके महत्त्वपूर्ण क्षणों को साझा करने का एक सुनहरा अवसर प्रदान करता है। चलिए आज हम आपको वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल कलाम पर निबंध के बारे में बताते है।

My Favourite Scientist Essay In Hindi

Table of Contents

किसी देश को शक्तिशाली और आधुनिक देश बनाने में वैज्ञानिक की सबसे महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। वैज्ञानिक ही अपने देश को ऊंचाइयों पर पहुँचाने का काम करता है। वैज्ञानिकों के महत्त्वपूर्ण योगदान की वजह से लगभग सभी स्कूलों में वैज्ञानिक पर निबंध लिखने को दिया जाता है। वैसे तो भारत में एक से बढ़कर एक वैज्ञानिक हुए है लेकिन वर्तमान में अधिकतर लोगों की पहली पसंद वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल कलाम है।

वैज्ञानिक कौन होता है ?

वैज्ञानिक उस व्यक्ति को कहते है जो वैज्ञानिक अध्ययन करने के बाद अपने देश के लिए नई-नई खोज करता है। वैज्ञानिक विभिन्न वैज्ञानिक क्षेत्रों जैसे भौतिक विज्ञान, रसायन शास्त्र, जीव विज्ञान, गणित और खगोल विज्ञान इत्यादि में काम कर सकते हैं। वैज्ञानिक अपने शोध और विश्लेषण से नए-नए तथ्यों को उजागर करते हैं। वैज्ञानिक विशेष रूप से नए और अज्ञात क्षेत्रों की खोज करते हैं। वैज्ञानिक लगातार ऐसी चीजों का शोध करते है जिससे देश शक्तिशाली और प्रभावशाली बने।

मेरे प्रिय वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल कलाम (My Favourite Scientist Essay In Hindi)

वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल कलाम वह नाम है जिसे भारत का बच्चा-बच्चा जानता है और देश में डॉ. अब्दुल कलाम को सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है। अब्दुल कलाम को भारत के मिसाइल मैन के रूप में जाना जाता है। डॉ. अब्दुल कलाम को भारतीय वैज्ञानिक के साथ-साथ राष्ट्रपति के पद पर काम कर चुके है। कलाम के नेतृत्व में ही भारत ने चंद्रयान मिशन को सफलतापूर्वक पूर्ण किया था।

उनकी सोच, विचार और योगदान ने भारतीय युवाओं में ज्ञान और प्रेरणा का स्रोत बनाया है, आज भी लाखो युवा उनसे प्रेरित होकर वैज्ञानिक बनने की चाहत रखते है। भारत में आधुनिक मिसाइल प्रोग्राम की शुरुआत अब्दुल कलाम जी के डायरेक्शन से हुई थी। देश की अग्नि मिसाइल और पृथ्वी जैसी कई सारी मिसाइल का निर्माण करने में कलाम का सबसे ज्यादा योगदान रहा था।

डॉ. अब्दुल कलाम का जन्म कब और कहाँ हुआ था ?

भारत के प्रमुख वैज्ञानिक डा0 अब्दुल कलाम का जन्म तमिलनाडु राज्य के रामेश्वरम के धनुषकोडी गाँव में 15 अक्टूबर 1931 को हुआ था। अधिकतर इंसानो को डॉ कलाम का पूरा नाम नहीं पता होता है, इसलिए हम आपको बता दें की डॉ कलाम का पूरा नाम डा0 अबुल पकीर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम है। डॉ कलाम का जन्म मध्यमवर्ग मुस्लिम परिवार में हुआ था और उनके पिता का नाम श्री जैनुलाबदीन और माता का नाम आशियम्मा था। जैनुलाबदीन से कलाम ने ईमानदारी और आत्मानुशासन विरासत में मिला था।

कलाम ने वैज्ञानिक बनाने का निर्णय कब लिया

जब कलाम पांचवी कक्षा में पढ़ते थे, तब उनके टीचर क्लास में पक्षी के उड़ने के तरीके के बारे में पढ़ा रहे थे, लेकिन बच्चो को कुछ समझ में नहीं आया। टीचर बच्चो को अच्छी तरह से समझाने के उद्देश्य से टीचर सभी बच्चो को समुद्र तट पर ले गए। समुद्र तट पर उड़ने वाले पक्षियों को दिखा कर बच्चो को अच्छी तरह से समझाया। इस बात से प्रेरित होकर कलाम ने उसी समय विमान विज्ञान में जाने का निर्णय लिया था।

कलाम की शिक्षा

कलाम ने अपनी शुरूआती पढ़ाई गाँव के प्राइमरी स्कूल में की थी। उन्हें बचपन से पढ़ने का बहुत ज्यादा शोक था, प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद कलाम ने तिरुचिरापल्ली के सेंट जोसेफ कॉलेज से वर्ष 1950 में बीएससी की परीक्षा पास की थी। फिर अब्दुल कलाम ने एरोनोटिकल इंजीनियरिंग में डिग्री प्राप्त करने के बाद वर्ष 1958 में उन्होंने तकनीकी केंद्र में वरिष्ठ वैज्ञानिक सहायक के पद पर नौकरी प्राप्त की।

यह भी पढ़ें: टेक्नोलॉजी पर निबंध

डॉ अब्दुल कलाम को मिलने वाले सम्मान

डॉ अब्दुल कलाम को उनके महान योगदान की वजह से अनेको सम्मान दिए गए, वर्ष 1981 में डा0 कलाम को ‘पद्म भूषण’ से सम्मानित किया गया था। उसके बाद भारत सरकार ने वर्ष 1990 में पद्म विभूषण दिया, फिर वर्ष 1997 में उन्हें भारत रत्न दिया गया था।

उसके बाद वर्ष 2002 में उन्होंने राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली थी, उन्होंने अपनी दृढ़ इच्छा, निरंतर प्रयास और समर्पण के बल पर वैज्ञानिक समुदाय में अपनी विशेष पहचान बनाई थी। अब्दुल कलाम देश के तीसरे ऐसे राष्ट्रपति थे, जिन्हें राष्ट्रपति बनने से पहले भारत रत्न का सम्मान प्राप्त हुआ था।

वैज्ञानिक का महत्त्व

किसी देश के लिए वैज्ञानिक का महत्त्व बहुत ज्यादा होता है, वैज्ञानिक देश को विकसित करने के साथ-साथ शक्तिशाली बनाने में अहम किरदार निभाता है। आसान भाषा में समझे तो वैज्ञानिक ही देश के लिए नए नए अस्त्र शस्त्र का निर्माण करने के साथ साथ नए नए प्रयोग के माध्यम से ऐसे उपकरण का निर्माण करने में मदद करता है जिससे देश शक्तिशाली बन सकता है। वैज्ञानिक किसी भी महामारी या घातक बिमारी से निजात दिलाने के लिए कई प्रकार के टेस्ट करके उस महामारी से बचने के लिए दवा का निर्माण करते है।

निष्कर्षतः, किसी देश को एक शक्तिशाली और आधुनिक राष्ट्र में बदलने में वैज्ञानिकों की भूमिका निर्विवाद रूप से महत्वपूर्ण है। वैज्ञानिक अपने समर्पित प्रयासों से अपने राष्ट्रों को नई ऊंचाइयों तक ले जाते हैं। विभिन्न वैज्ञानिक विषयों में फैले वैज्ञानिकों के महत्वपूर्ण योगदान, लगभग सभी स्कूलों में वैज्ञानिकों पर निबंध लिखने पर जोर देने से स्पष्ट होते हैं। जबकि भारत ने कई प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों का उदय देखा है, डॉ. अब्दुल कलाम समकालीन समय में सबसे प्रशंसित व्यक्ति के रूप में सामने आते हैं।

उनके नेतृत्व ने, विशेषकर मिसाइल विकास के क्षेत्र में, देश की प्रगति पर एक अमिट छाप छोड़ी है। डॉ. कलाम, जिन्हें अक्सर “भारत के मिसाइल मैन” के रूप में जाना जाता है, ने न केवल तकनीकी प्रगति में योगदान दिया है बल्कि अपने विचारों और दृष्टि से पीढ़ियों को प्रेरित भी किया है। एक साधारण पृष्ठभूमि से भारत के राष्ट्रपति बनने तक की उनकी यात्रा ज्ञान, ईमानदारी और आत्म-अनुशासन की शक्ति को दर्शाती है। डॉ. अब्दुल कलाम की विरासत अनगिनत युवा दिमागों को वैज्ञानिक उत्कृष्टता की आकांक्षा रखने और राष्ट्र की प्रगति में योगदान करने के लिए प्रेरित करती रहती है।

हम आशा करते है कि आपको हमारे लेख वैज्ञानिक पर निबंध में दी गई जानकारी पसंद आई होगी। अगर आपको हमारे लेख में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो इस लेख को अधिक से अधिक शेयर करके ऐसे छात्रों के पास तक पहुँचाने में मदद करें जिन्हे वैज्ञानिक पर निबंध (My Favourite Scientist Essay In Hindi) लिखना है।

ऊपर हमने भारत में प्रसिद्ध और प्रमुख वैज्ञानिक डॉ अब्दुल कलाम के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई है। अगर आपको कोई और वैज्ञानिक पसंद है तो आप कलाम की जगह पर उस वैज्ञानिक के बारे में जानकारी लिख सकते है।

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निबंध (Essay Science And Technology in Hindi) 100, 150, 200, 250, 300, 500, शब्दों मे

a scientist essay in hindi

Essay Science And Technology in Hindi –   विज्ञान और प्रौद्योगिकी इस समय की परम आवश्यकता है जो जीवन के प्रति मानव के समग्र दृष्टिकोण को बदल दे। सदियों से, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नए आविष्कार हुए हैं जो आधुनिकीकरण में मदद करते हैं। लोगों से जुड़ने से लेकर डिजिटल उत्पादों का उपयोग करने तक, हर चीज में विज्ञान और प्रौद्योगिकी शामिल है। दूसरे शब्दों में, इसने जीवन को आसान और सरल बना दिया है। इसके अलावा, मनुष्य को अब एक साधारण जीवन जीना है। तकनीकी विशेषज्ञों द्वारा भविष्य के लिए कुछ नया खोजने के लिए आधुनिक उपकरणों की खोज की गई है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने अब चिकित्सा, शिक्षा, विनिर्माण और अन्य क्षेत्रों में अपने पंख फैला लिए हैं। इसके अलावा, वे केवल शहरों तक ही सीमित नहीं हैं, बल्कि शैक्षिक उद्देश्यों के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में भी हैं। हर दिन नई तकनीकें आती रहती हैं, जिससे जीवन आसान और अधिक आरामदायक हो जाता है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी निबंध 10 लाइन्स  (Science and Technology Essay 10 Lines in Hindi) 

  • 1) विज्ञान चीजों का विधिपूर्वक अध्ययन है, और प्रौद्योगिकी परिणाम है।
  • 2) विज्ञान और तकनीक ने हमारे जीवन को हर तरह से बेहतर बनाया है।
  • 3) वे आज लोगों की जरूरतों और चाहतों को पूरा करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।
  • 4) विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने जीवन को सरल, सुगम और त्वरित बना दिया है।
  • 5) हर देश के आधुनिकीकरण के हर हिस्से में इसका इस्तेमाल हुआ है।
  • 6) शिक्षा में, विज्ञान और प्रौद्योगिकी बहुत महत्वपूर्ण हैं।
  • 7) खेती के क्षेत्र में विज्ञान ने भी बहुत मदद की है।
  • 8) कई बीमारियाँ जो पहले लोगों को मारती थीं अब ठीक हो सकती हैं।
  • 9) तकनीक के साथ, हम कुछ ही घंटों में दुनिया के दूसरी तरफ पहुंच सकते हैं।
  • 10) विज्ञान और प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग विनाशकारी सिद्ध हो सकता है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निबंध 100 शब्द (Essay on Science and Technology 100 words in Hindi) 

कई क्षेत्रों में विज्ञान और प्रौद्योगिकी की प्रगति ने लोगों के जीवन को प्राचीन काल की तुलना में अधिक उन्नत बना दिया है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी में उन्नति एक ओर लोगों के जीने के तरीके को प्रत्यक्ष और सकारात्मक रूप से प्रभावित कर रही है; हालाँकि, यह दूसरी ओर अप्रत्यक्ष और नकारात्मक रूप से लोगों के स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर रहा है। ऐसी आधुनिक दुनिया में एक देश के मजबूत और दूसरों की तुलना में अधिक विकसित होने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी में नए आविष्कार आवश्यक हैं। इस प्रतिस्पर्धी दुनिया में, हमें आगे बढ़ने और जीवन में सफल व्यक्ति बनने के लिए और अधिक तकनीक की आवश्यकता है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निबंध 150 शब्द (Essay on Science and Technology 150 words in Hindi) 

मानव या देश का विकास कई तरह से प्रौद्योगिकी के उचित विकास और विकास से जुड़ा हुआ है। तकनीकी प्रगति तब होती है जब अत्यधिक कुशल और पेशेवर वैज्ञानिकों द्वारा विज्ञान में नए आविष्कार होते हैं। हम कह सकते हैं कि प्रौद्योगिकी, विज्ञान और विकास समान अनुपात में हैं। किसी भी राष्ट्र के लोगों के लिए अन्य देशों के लोगों के साथ-साथ चलने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी में विकास आवश्यक है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी का विकास तथ्यों के विश्लेषण और उचित समझ पर निर्भर करता है। प्रौद्योगिकी का विकास सही दिशा में विभिन्न वैज्ञानिक ज्ञान के अनुप्रयोग के तरीके पर निर्भर करता है।

अर्थव्यवस्था को बढ़ाने और किसी भी राष्ट्र के लोगों की बेहतरी के लिए अद्यतन ज्ञान, प्रौद्योगिकी, विज्ञान और इंजीनियरिंग मूलभूत आवश्यकताएं हैं। एक राष्ट्र पिछड़ा हो सकता है, और एक विकसित देश होने की संभावना विज्ञान और प्रौद्योगिकी के अभाव में न्यूनतम हो जाती है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निबंध 200 शब्द (Essay on Science and Technology 200 words in Hindi) 

एक मजबूत राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी आवश्यक हैं। सकल घरेलू उत्पाद विकास अर्थव्यवस्था को तकनीकी रूप से आगे बढ़ने में मदद करता है। वे उच्च तकनीक उद्योगों के विकास को प्रोत्साहित करते हैं, उत्पादकता को बढ़ावा देते हैं, पूंजी का निर्माण करते हैं और स्वस्थ वैश्विक प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देते हैं। कृषि उद्योग पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी का वास्तविक प्रभाव है। यह बिना कहे चला जाता है कि उनकी सगाई से फसल की पैदावार में वृद्धि हुई है। इसके अलावा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी शारीरिक श्रम को कम करने के लिए नए तरीकों और उपकरणों को लागू करने में किसानों की सहायता कर रहे हैं।

चिकित्सा, शैक्षिक, आर्थिक, खेल, रोजगार, पर्यटन और अन्य क्षेत्र विज्ञान और प्रौद्योगिकी के उदाहरण हैं। ये सभी विकास दर्शाते हैं कि दोनों हमारे जीवन के लिए कितने समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। प्राचीन दुनिया और आधुनिक दुनिया की जीवन शैली में सीधे अंतर करके, हम अपने जीवन के तरीके में अंतर देख सकते हैं। चिकित्सा में उच्च स्तर के वैज्ञानिक और तकनीकी विकास ने पहले की तुलना में कई बीमारियों का इलाज करना आसान बना दिया है। यह दवाओं और ऑपरेशन के माध्यम से विभिन्न बीमारियों के इलाज में चिकित्सा पेशेवरों द्वारा कुशल उपचार में सहायता करता है और कैंसर, एड्स, मधुमेह, अल्जाइमर, पक्षाघात आदि जैसी बीमारियों के अनुसंधान में सहायता करता है।

हर दिन, विज्ञान और प्रौद्योगिकी में प्रगति लोगों को एक दूसरे के करीब लाती है। परिवहन और दूरसंचार विभाग में, हम स्पष्ट विकास देखते हैं। भौतिक दूरी अब इंटरनेट और मेट्रो नेटवर्क के लिए एक बाधा नहीं है। हमारे जीवन के हर पहलू को उनकी वजह से एक आभासी बदलाव मिला है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निबंध 250 शब्द (Essay on Science and Technology 250 words in Hindi) 

विज्ञान और प्रौद्योगिकी के मामले में हमारा देश भारत तेजी से विकास कर रहा है। देश को सही तरीके से बढ़ने और विकसित करने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी को साथ-साथ चलना चाहिए। वैज्ञानिक खोजों और आधुनिक तकनीकों से हर किसी का जीवन बहुत प्रभावित होता है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी अब ऐसी चीजें हैं जिनके बारे में लोग ज्यादातर बात करते हैं।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लाभ

किसी देश को मजबूत और अच्छी तरह से विकसित होने के लिए, उसे विज्ञान और प्रौद्योगिकी में नए विचारों के साथ आने की जरूरत है। विज्ञान लोगों के लिए चीजों को आसान बना रहा है। सामाजिक और सांस्कृतिक स्तर पर हम बढ़े हैं। मलेरिया और तपेदिक, जो मार सकते हैं, का अब सफलतापूर्वक इलाज किया जा सकता है। कंप्यूटर और इंटरनेट ने हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन को कट्टर और बेहतर बना दिया है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी में प्रगति के कारण दुनिया तेजी से बदल रही है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी के नुकसान

विज्ञान और तकनीक की मदद से लोगों ने ऐसे हथियार बना लिए हैं जो इतने बड़े और खतरनाक हैं कि कभी भी लोगों को चोट पहुंचा सकते हैं। विज्ञान के अलावा लोग तकनीक का भी गलत इस्तेमाल करते हैं। टेलीविजन, सेल फोन और इंटरनेट सभी मौज-मस्ती करने के बेहतरीन तरीके हैं, लेकिन उनमें कुछ बुरी चीजें भी हैं। प्रदूषण एक और चीज है जिसे विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने लाया है। जैसे-जैसे विज्ञान और तकनीक बेहतर होती गई है, वैसे-वैसे लोग कम सक्रिय होते गए हैं।

विज्ञान और तकनीक ने हमें चीजों को इतना उन्नत बनाने में मदद की है कि उनके बारे में सोचा भी नहीं जा सकता है। भले ही विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने हमें बहुत कुछ दिया है, हमें उन पर बहुत अधिक निर्भर नहीं होना चाहिए। अगर हम इसका सही इस्तेमाल करते हैं, तो यह लोगों के जीवन को परिपूर्ण बना देगा, इसलिए हमें इस बारे में स्मार्ट होना चाहिए कि हम इसका इस्तेमाल कैसे करते हैं। हम किस तरफ रहना चाहते हैं यह हम पर निर्भर है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निबंध 300 शब्द (Essay on Science and Technology 300 words in Hindi)  

सिंधु घाटी सभ्यता के समय से लोगों के जीवन में विज्ञान और प्रौद्योगिकी का प्रभाव बहुत पुराना है। आग और पहिए के बारे में पता चलने पर यह लगभग पहला आविष्कार था। इन दोनों आविष्कारों को आधुनिक समय के सभी तकनीकी नवाचारों की जननी माना जाता है। आग के आविष्कार से सबसे पहले लोगों ने ऊर्जा की शक्ति के बारे में जाना। तब से लोगों की जिज्ञासा बढ़ी है, और वे जीवन को आसान और सरल बनाने के लिए विभिन्न उपायों पर शोध करने के लिए कठिन प्रयास करने लगे हैं।

भारत प्राचीन काल से ही विश्व का सर्वाधिक प्रसिद्ध देश रहा है; हालाँकि, ब्रिटिश शासन के तहत इसकी गुलामी के बाद, इसने अपनी पहचान और ताकत खो दी। 1947 में आजादी मिलने के बाद इसे फिर से भीड़ में अपनी खोई हुई पहचान मिलनी शुरू हो गई थी। यह विज्ञान और प्रौद्योगिकी है जिसने भारत को पूरी दुनिया में वास्तविक पहचान दिलाने में मदद की है। विज्ञान और तकनीकी उन्नति में नए आविष्कारों के माध्यम से भारत अत्यधिक विकास करने वाला देश बन गया है। विज्ञान और प्रौद्योगिकियां आधुनिक लोगों की जरूरतों और आवश्यकताओं को पूरा करने में एक बड़ी भूमिका निभाती हैं।

तकनीकी प्रगति के कुछ उदाहरण रेलवे प्रणाली, मेट्रो प्रणाली, रेलवे आरक्षण प्रणाली, इंटरनेट, सुपर कंप्यूटर, मोबाइल, स्मार्टफोन, लगभग हर क्षेत्र में लोगों के लिए ऑनलाइन पहुंच आदि की स्थापना कर रहे हैं। भारत सरकार अंतरिक्ष संगठनों और कई के लिए अधिक अवसर पैदा कर रही है। देश में बेहतर तकनीकी विकास और विकास के लिए शैक्षणिक संस्थान (इंडियन एसोसिएशन फॉर द एडवांसमेंट ऑफ साइंस)। भारत के कुछ प्रसिद्ध वैज्ञानिक जिन्होंने भारत में तकनीकी प्रगति को संभव बनाया है (विभिन्न क्षेत्रों में उनके उल्लेखनीय वैज्ञानिक अनुसंधान के माध्यम से) सर जेसी बोस, एसएन बोस, सीवी रमन, डॉ. होमी जे. भाभा, श्रीनिवास रामानुजन, के पिता हैं। भारत के परमाणु शक्ति, डॉ. हर गोविंद सिंह खुराना, विक्रम साराभाई, आदि।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निबंध 500 शब्द (Essay on Science and Technology 500 words in Hindi)  

विज्ञान और प्रौद्योगिकी हमारे दैनिक जीवन के महत्वपूर्ण अंग हैं। हम अपनी अलार्म घड़ियों की घंटी से सुबह उठते हैं और रात को अपनी लाइट बंद करके बिस्तर पर चले जाते हैं। ये सभी विलासिताएं जो हम वहन करने में सक्षम हैं, विज्ञान और प्रौद्योगिकी का परिणाम हैं। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम यह सब कम समय में कैसे कर सकते हैं, यह विज्ञान और प्रौद्योगिकी की उन्नति के कारण ही है। विज्ञान और प्रौद्योगिकी के बिना अब हमारे जीवन की कल्पना करना कठिन है। वास्तव में हमारा अस्तित्व ही अब इस पर निर्भर करता है। हर दिन नई तकनीकें आ रही हैं जो मानव जीवन को आसान और अधिक आरामदायक बना रही हैं। इस प्रकार, हम विज्ञान और प्रौद्योगिकी के युग में रहते हैं।

अनिवार्य रूप से, विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने हमें आधुनिक सभ्यता की स्थापना के लिए पेश किया है। यह विकास हमारे दैनिक जीवन के लगभग हर पहलू में बहुत योगदान देता है। इसलिए, लोगों को इन परिणामों का आनंद लेने का मौका मिलता है, जो हमारे जीवन को और अधिक आराम और आनंदमय बनाते हैं।

अगर हम इसके बारे में सोचें तो विज्ञान और प्रौद्योगिकी के कई फायदे हैं। इनमें छोटी से लेकर बड़ी तक शामिल हैं। उदाहरण के लिए, सुबह का अखबार जिसे हम पढ़ते हैं जो हमें विश्वसनीय जानकारी प्रदान करता है वह वैज्ञानिक प्रगति का परिणाम है। इसके अलावा, बिजली के उपकरण जिनके बिना रेफ्रिजरेटर, एसी, माइक्रोवेव और अन्य जैसे जीवन की कल्पना करना कठिन है, तकनीकी प्रगति का परिणाम हैं।

इसके अलावा, यदि हम परिवहन परिदृश्य को देखें, तो हम देखते हैं कि कैसे विज्ञान और प्रौद्योगिकी यहाँ भी एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। उन्नत प्रौद्योगिकी के कारण हम घंटों के भीतर जल्दी से पृथ्वी के दूसरे हिस्से तक पहुँच सकते हैं।

इसके अलावा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने मनुष्य को हमारे ग्रह से आगे देखने में सक्षम बनाया है। नए ग्रहों की खोज और अंतरिक्ष में उपग्रहों की स्थापना इसी विज्ञान और प्रौद्योगिकी के कारण है। इसी तरह, विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने भी चिकित्सा और कृषि क्षेत्रों पर प्रभाव डाला है। रोगों के लिए खोजे जा रहे विभिन्न उपचारों ने विज्ञान के माध्यम से लाखों लोगों की जान बचाई है। इसके अलावा, प्रौद्योगिकी ने किसानों को बड़े पैमाने पर लाभान्वित करने वाली विभिन्न फसलों के उत्पादन में वृद्धि की है।

भारत और विज्ञान और प्रौद्योगिकी

ब्रिटिश शासन के बाद से ही भारत की चर्चा पूरी दुनिया में होती रही है। स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद, यह विज्ञान और प्रौद्योगिकी ही है जिसने भारत को समय के साथ आगे बढ़ने में मदद की। अब, यह पूरी दुनिया में रचनात्मक और मूलभूत वैज्ञानिक विकास का एक अनिवार्य स्रोत बन गया है। दूसरे शब्दों में, हमारे देश की सभी अविश्वसनीय वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति ने भारतीय अर्थव्यवस्था को बढ़ाया है।

इसके बाद, विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने गणित, खगोल भौतिकी, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, परमाणु ऊर्जा और अन्य सहित विभिन्न क्षेत्रों को आगे बढ़ाने में सहायता की है। इन विकासों के कुछ बेहतरीन उदाहरण हैं रेलवे प्रणाली, स्मार्टफोन, मेट्रो प्रणाली, और बहुत कुछ।

सबसे हालिया उपलब्धि को देखते हुए, भारत ने चंद्रयान 2 को सफलतापूर्वक लॉन्च किया। भारत के इस चंद्र अन्वेषण ने दुनिया भर से आलोचनात्मक प्रशंसा अर्जित की है। एक बार फिर यह उपलब्धि विज्ञान और प्रौद्योगिकी के कारण संभव हो पाई है।

अंत में, हमें यह स्वीकार करना चाहिए कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी ने मानव सभ्यता को जीवन जीने में पूर्णता प्राप्त करने के लिए प्रेरित किया है। हालाँकि, हमें हर चीज़ का बुद्धिमानी से और सीमित सीमा तक उपयोग करना चाहिए। विज्ञान और प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग हानिकारक परिणाम उत्पन्न कर सकता है। इसलिए, हमें उपयोग की निगरानी करनी चाहिए और अपने कार्यों में समझदार होना चाहिए।

 विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

Q.1 क्या विज्ञान और प्रौद्योगिकी एक ही हैं.

उत्तर. विज्ञान अवलोकन और प्रयोग के माध्यम से ज्ञान प्राप्त करने और कौशल में सुधार करने का एक व्यवस्थित तरीका है। दूसरी ओर, प्रौद्योगिकी विज्ञान का व्यावहारिक अनुप्रयोग है जो जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद करता है।

Q.2 विज्ञान की पहली खोज क्या थी?

उत्तर. पहिए और अग्नि को विज्ञान की पहली खोज माना जाता है।

Q.3 सबसे नवीन देश कौन सा है?

उत्तर. स्विट्जरलैंड दुनिया का सबसे इनोवेटिव देश है।

Q.4 भारत में कुछ नवीनतम तकनीकें कौन सी हैं?

उत्तर. IoT (इंटरनेट ऑफ थिंग्स), रोबोट, ब्लॉकचेन, AR (संवर्धित वास्तविकता), VR (वर्चुअल रियलिटी), आदि भारत में कुछ नवीनतम प्रौद्योगिकियां हैं।

दा इंडियन वायर

विज्ञान पर निबंध

a scientist essay in hindi

By विकास सिंह

essay on science in hindi

विज्ञान एक विशाल क्षेत्र है। इसकी विभिन्न शाखाएँ हैं जिन्हें मोटे तौर पर प्राकृतिक विज्ञान, औपचारिक विज्ञान और सामाजिक विज्ञान में विभाजित किया गया है। इन्हें मौलिक विज्ञान के रूप में जाना जाता है जो लागू और अंतःविषय विज्ञान का आधार बनते हैं।

विषय-सूचि

विज्ञान पर निबंध, Essay on science in hindi (200 शब्द)

विज्ञान में प्राकृतिक और भौतिक दुनिया के व्यवहार का व्यापक अध्ययन शामिल है। अध्ययन का संचालन अनुसंधान, अवलोकन और प्रयोग के माध्यम से किया जाता है। विज्ञान की कई शाखाएँ हैं। इनमें प्राकृतिक विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और औपचारिक विज्ञान शामिल हैं। इन व्यापक श्रेणियों को आगे उप-श्रेणियों और उप-उप श्रेणियों में विभाजित किया गया है।

भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान पृथ्वी विज्ञान और खगोल विज्ञान प्राकृतिक विज्ञान, इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र, मनोविज्ञान, सामाजिक अध्ययन और मानव विज्ञान का एक हिस्सा है, सामाजिक विज्ञान का एक हिस्सा है और औपचारिक विज्ञान में गणित, तर्क, सांख्यिकी शामिल हैं , निर्णय सिद्धांत, सिस्टम सिद्धांत और कंप्यूटर विज्ञान आदि शामिल हैं।

विज्ञान ने दुनिया को अच्छे के लिए बदल दिया है। समय-समय पर कई वैज्ञानिक आविष्कार हुए हैं और इनने मानव जीवन को सुविधाजनक बनाया है। इनमें से कई आविष्कार हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गए हैं और हम उनके बिना अपने जीवन की कल्पना नहीं कर सकते हैं।

दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने प्रयोग करना जारी रखा है और हर समय नए आविष्कार करते रहते हैं और उनमें से कुछ दुनिया भर में क्रांति लाते हैं। हालाँकि, यह जितना उपयोगी है, विज्ञान का भी कुछ लोगों द्वारा दुरुपयोग किया गया है, मुख्य रूप से सत्ता में उन लोगों द्वारा, जो हथियारों की दौड़ को बढ़ावा देने और पर्यावरण को ख़राब करने के लिए उत्सुक हैं।

विज्ञान और धर्म की विचारधाराओं को कोई मिलन का आधार नहीं मिला है। इन विचारों के विपरीत विचारों ने अतीत में कई संघर्षों को जन्म दिया है और ऐसा करना जारी रखा है।

विज्ञान पर निबंध, Science essay in hindi (300 शब्द)

विज्ञान दुनिया के प्राकृतिक और भौतिक पहलुओं के साथ अध्ययन, समझने, विश्लेषण और प्रयोग करने का एक साधन है और उन्हें नए आविष्कारों के साथ आने के लिए उपयोग करने के लिए डाल दिया है जो मानव जाति के लिए जीवन को अधिक सुविधाजनक बनाते हैं। विज्ञान के क्षेत्र में अवलोकन और प्रयोग किसी विशेष पहलू या विचार तक सीमित नहीं है; यह व्यापक है।

विज्ञान के उपयोग:

हमारे दैनिक जीवन में हम जो कुछ भी उपयोग करते हैं, वह लगभग विज्ञान की देन है। कारों से लेकर वाशिंग मशीन, मोबाइल फोन से लेकर माइक्रोवेव तक, रेफ्रिजरेटर से लेकर लैपटॉप तक – सब कुछ वैज्ञानिक प्रयोग का नतीजा है। यहां बताया गया है कि विज्ञान हमारे रोजमर्रा के जीवन को कैसे प्रभावित करता है: खाना बनाना सिर्फ माइक्रोवेव, ग्रिलर और रेफ्रिजरेटर ही नहीं, गैस स्टोव जो आमतौर पर भोजन तैयार करने के लिए उपयोग किए जाते हैं, एक वैज्ञानिक आविष्कार भी हैं।

चिकित्सकीय इलाज़: 

विज्ञान में उन्नति के कारण कई बीमारियों और बीमारियों का इलाज संभव हो गया है। इस प्रकार विज्ञान स्वस्थ जीवन को बढ़ावा देता है और जीवन काल को बढ़ाने में योगदान दिया है।

संचार: 

मोबाइल फोन और इंटरनेट कनेक्शन जो हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गए हैं, इन दिनों विज्ञान के सभी आविष्कार हैं। इन आविष्कारों ने संचार को आसान बना दिया है और दुनिया को करीब लाया है।

ऊर्जा का स्रोत:

परमाणु ऊर्जा की खोज ने ऊर्जा के विभिन्न रूपों के आविष्कार और तैनाती का मार्ग प्रशस्त किया है। बिजली इसके मुख्य आविष्कारों में से एक है और यह जिस तरह से हमारे रोजमर्रा के जीवन को प्रभावित करता है वह सभी को पता है।

भोजन की विविधता: 

भोजन की विविधता भी बढ़ी है। कई फल और सब्जियां अब सभी वर्ष के माध्यम से उपलब्ध हैं। विशिष्ट भोजन का आनंद लेने के लिए आपको किसी विशेष मौसम की प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है। विज्ञान के क्षेत्र में हुए प्रयोगों ने इस बदलाव को जन्म दिया है।

निष्कर्ष:

विज्ञान इस प्रकार हमारे रोजमर्रा के जीवन का एक हिस्सा है। विज्ञान में उन्नति के बिना हमारा जीवन बहुत अलग और कठिन होता। हालाँकि, हम इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकते कि कई वैज्ञानिक आविष्कारों से पर्यावरण का क्षरण हुआ है और इससे मानव जाति के लिए कई स्वास्थ्य समस्याएं भी हुई हैं।

विज्ञान वरदान या अभिशाप पर निबंध, essay on science boon or curse in hindi (400 शब्द)

विज्ञान मूल रूप से तीन व्यापक शाखाओं में विभाजित है। इनमें प्राकृतिक विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और औपचारिक विज्ञान शामिल हैं। इन शाखाओं को आगे विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करने के लिए उप-श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है। यहाँ इन श्रेणियों और उप श्रेणियों पर एक विस्तृत नज़र है।

विज्ञान की शाखाएँ:

प्राकृतिक विज्ञान:   जैसा कि नाम से पता चलता है, यह प्राकृतिक घटनाओं का अध्ययन है। यह अध्ययन करता है कि दुनिया और ब्रह्मांड कैसे काम करते हैं। प्राकृतिक विज्ञान को आगे भौतिक विज्ञान और जीवन विज्ञान में वर्गीकृत किया गया है।

ए) भौतिक विज्ञान भौतिक विज्ञान में निम्नलिखित उप श्रेणियां शामिल हैं:

  • भौतिकी: ऊर्जा और पदार्थ के गुणों का अध्ययन।
  • रसायन: किस पदार्थ के पदार्थों का अध्ययन किया जाता है।
  • खगोल विज्ञान: अंतरिक्ष और आकाशीय पिंडों का अध्ययन।
  • पारिस्थितिकी: अपने भौतिक परिवेश के साथ-साथ एक-दूसरे के साथ जीवों के संबंध का अध्ययन।
  • भूविज्ञान: यह पृथ्वी की भौतिक संरचना और पदार्थ से संबंधित है।
  • पृथ्वी विज्ञान: पृथ्वी के भौतिक संविधान और उसके वातावरण का अध्ययन।
  • समुद्रशास्त्र: समुद्र के जैविक और भौतिक तत्वों और घटनाओं का अध्ययन।
  • मौसम विज्ञान: यह वायुमंडल की प्रक्रियाओं से संबंधित है

b) जीवन विज्ञान निम्नलिखित उप श्रेणियां जीवन विज्ञान का एक हिस्सा बनाती हैं:

  • जीव विज्ञान: जीवित जीवों का अध्ययन।
  • वनस्पति विज्ञान: पौधे के जीवन का अध्ययन।
  • प्राणीशास्त्र: पशु जीवन का अध्ययन।
  • सामाजिक विज्ञान इसमें सामाजिक पैटर्न और मानव व्यवहार का अध्ययन शामिल है। इसे आगे विभिन्न उप-श्रेणियों में विभाजित किया गया है। इसमें शामिल है:
  • इतिहास: अतीत में हुई घटनाओं का अध्ययन
  • राजनीति विज्ञान: सरकारी और राजनीतिक गतिविधियों की प्रणाली का अध्ययन।
  • भूगोल: पृथ्वी की भौतिक विशेषताओं और वातावरण का अध्ययन।
  • सामाजिक अध्ययन: मानव समाज का अध्ययन।
  • समाजशास्त्र: समाज के विकास और कामकाज का अध्ययन।
  • मनोविज्ञान: मानव व्यवहार का अध्ययन।
  • नृविज्ञान: वर्तमान और अतीत समाजों के भीतर मनुष्यों के विभिन्न पहलुओं का अध्ययन।
  • अर्थशास्त्र: धन के उत्पादन, खपत और संचलन का अध्ययन।

औपचारिक विज्ञान:

यह विज्ञान की वह शाखा है जो औपचारिक प्रणालियों जैसे गणित और तर्क का अध्ययन करती है। इसमें निम्नलिखित उप-श्रेणियां शामिल हैं:

  • गणित: संख्याओं का अध्ययन।
  • तर्क: तर्क का अध्ययन।
  • सांख्यिकी: यह संख्यात्मक डेटा के विश्लेषण से संबंधित है।
  • निर्णय सिद्धांत: लाभ और हानि के बारे में निर्णय लेने की क्षमता को बढ़ाने के लिए गणितीय अध्ययन।
  • सिस्टम सिद्धांत: अमूर्त संगठन का अध्ययन।
  • कंप्यूटर विज्ञान: कंप्यूटर के डिजाइन और उपयोग के लिए आधार बनाने के लिए प्रयोग और इंजीनियरिंग का अध्ययन।

विज्ञान की विभिन्न शाखाओं के विशेषज्ञ नए सिद्धांतों, आविष्कारों और खोजों के साथ आने वाले विभिन्न पहलुओं पर लगातार गहनता से अध्ययन कर रहे हैं। इन खोजों और आविष्कारों ने हमारे लिए जीवन को आसान बना दिया है; हालांकि, एक ही समय में ये पर्यावरण के साथ-साथ जीवित प्राणियों के लिए एक अपरिवर्तनीय क्षति भी बने हैं।

विज्ञान का महत्व पर निबंध, essay on importance of science in hindi (500 शब्द)

विज्ञान विभिन्न भौतिक और प्राकृतिक पहलुओं की संरचना और व्यवहार का अध्ययन है। वैज्ञानिक इन पहलुओं का अध्ययन करते हैं, उन्हें अच्छी तरह से देखते हैं और निष्कर्ष पर आने से पहले प्रयोग करते हैं। अतीत में कई वैज्ञानिक खोजें और आविष्कार हुए हैं जो मानव जाति के लिए एक वरदान साबित हुए हैं।

विज्ञान और धर्म की अवधारणा:

जहां एक ओर विज्ञान के क्षेत्र में नए विचारों और आविष्कारों के साथ तार्किक और व्यवस्थित दृष्टिकोण का पालन किया जाता है, वहीं दूसरी ओर, धर्म विशुद्ध रूप से विश्वास प्रणाली और विश्वास पर आधारित है। विज्ञान में, एक संपूर्ण अवलोकन, विश्लेषण और प्रयोग एक परिणाम प्राप्त करने के लिए किया जाता है जबकि धर्म की बात करें तो शायद ही कोई तर्क हो। चीजों को देखने का उनका दृष्टिकोण इस प्रकार एक दूसरे से पूरी तरह अलग है।

विज्ञान और धर्म के बीच संघर्ष:

विज्ञान और धर्म को अक्सर कुछ चीजों पर उनके परस्पर विरोधी विचारों के कारण लॉगरहेड्स में देखा जाता है। अफसोस की बात है कि कई बार ये टकराव समाज में अशांति पैदा करते हैं और मासूमों को पीड़ित करते हैं। यहाँ कुछ प्रमुख संघर्ष हैं जो धर्म के पैरोकारों और वैज्ञानिक पद्धति के विश्वासियों के बीच हुए हैं।

विश्व का निर्माण:  कई रूढ़िवादी ईसाई मानते हैं कि भगवान ने 4004 और 8000 ईसा पूर्व के बीच छह दिनों में दुनिया का निर्माण किया। दूसरी ओर, कॉस्मोलॉजिस्ट कहते हैं कि ब्रह्मांड लगभग 13.7 बिलियन साल पुराना है और पृथ्वी लगभग 4.5 बिलियन साल पहले उभरी थी।

ब्रह्मांड के केंद्र के रूप में पृथ्वी:  यह सबसे प्रसिद्ध संघर्षों में से एक है। रोमन कैथोलिक चर्च पृथ्वी को ब्रह्मांड का केंद्र मानता था। उनके अनुसार, सूर्य, चंद्रमा, तारे और अन्य ग्रह इसके चारों ओर घूमते हैं। जब इटली के प्रसिद्ध खगोलशास्त्री और गणितज्ञ गैलीलियो गैलीली ने हेलीओसेंट्रिक प्रणाली की खोज की, जिसमें सूर्य सौरमंडल का केंद्र बन गया और पृथ्वी और अन्य ग्रह उसके चारों ओर घूमते हैं।

दुर्भाग्य से, गैलीलियो को एक विधर्मी के रूप में दोषी ठहराया गया था और उन्हें जीवन भर के लिए गिरफ्तार कर लिया गया था।

सूर्य और चंद्र ग्रहण:  सबसे शुरुआती संघर्ष इराक में हुआ। वहां के पुजारियों ने स्थानीय लोगों को बताया था कि चंद्र ग्रहण देवताओं की बेचैनी के कारण होता है। ये अशुभ माने जाते थे और राजाओं को नष्ट करने के उद्देश्य से होते थे। संघर्ष तब हुआ जब स्थानीय खगोलविद ग्रहण के पीछे वैज्ञानिक कारण के साथ आए।

हालांकि खगोलविदों ने सूर्य और चंद्र ग्रहण की घटनाओं के बारे में एक मजबूत और तार्किक कारण बताया है, लेकिन दुनिया भर के विभिन्न हिस्सों में मिथक और अंधविश्वास अभी भी जारी हैं।

प्रजातियों का विकास:  उत्पत्ति की बाइबिल की किताब से संदर्भ लेते हुए, रूढ़िवादी ईसाइयों का मानना ​​है कि वनस्पतियों और जीवों की सभी प्रजातियों को छह दिनों की अवधि के दौरान बनाया गया था जब भगवान ने दुनिया बनाई थी। दूसरी ओर, जीवविज्ञानी तर्क देते हैं कि पौधों और जानवरों की विभिन्न प्रजातियां प्राकृतिक चयन की प्रक्रियाओं के माध्यम से सौ और लाखों वर्षों में विकसित हुई हैं।

इनके अलावा, कई अन्य अखाड़े हैं जिनमें वैज्ञानिकों और धार्मिक अधिवक्ताओं के विरोधाभासी विचार हैं। भले ही वैज्ञानिकों / खगोलविदों / जीवविज्ञानियों ने अपने सिद्धांतों के लिए समर्थन किया हो, ज्यादातर लोग धार्मिक विचारों का गहराई से पालन करते हैं।

यह न केवल धार्मिक अधिवक्ताओं है जो अक्सर वैज्ञानिक पद्धति और विचारधाराओं के खिलाफ आवाज उठाते हैं, विज्ञान की समाज के कई अन्य वर्गों द्वारा भी आलोचना की गई है क्योंकि इसके आविष्कार विभिन्न सामाजिक, राजनीतिक, पर्यावरणीय और स्वास्थ्य मुद्दों को रास्ता दे रहे हैं।

परमाणु हथियार जैसे वैज्ञानिक आविष्कार मानव जाति के लिए खतरा पैदा करते हैं। इसके अलावा, तैयारी की प्रक्रियाओं के साथ-साथ अधिकांश वैज्ञानिक रूप से डिज़ाइन किए गए उपकरणों का उपयोग प्रदूषण को जोड़ रहा है, जिससे सभी के लिए जीवन कठिन हो गया है।

विज्ञान के चमत्कार पर निबंध, essay on wonder of science in hindi (600 शब्द)

पिछले कुछ दशकों में कई वैज्ञानिक खोजें और आविष्कार हुए हैं जिन्होंने जीवन को बहुत आसान बना दिया है। पिछले दशक कोई अपवाद नहीं था। काफी महत्वपूर्ण वैज्ञानिक आविष्कार हुए जिन्हें सराहना मिली। यहाँ 10 सबसे उल्लेखनीय हाल के वैज्ञानिक आविष्कारों पर एक नज़र है।

हाल ही में वैज्ञानिक आविष्कार और खोजें:

माइंड के माध्यम से बायोमेकेनिकल हैंड पर नियंत्रण: Amputee Pierpaolo Petruzziello, एक व्यक्ति जो एक दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना में अपनी जान गंवा बैठा, उसने अपने विचारों से अपने हाथ से जुड़े जैव-रासायनिक हाथ को नियंत्रित करना सीख लिया। हाथ इलेक्ट्रोड और तारों के माध्यम से उसकी बांह की नसों से जुड़ा हुआ है। वह पहले व्यक्ति बन गए, जिन्होंने उंगली पकड़ने, वस्तुओं को हथियाने और अपने विचारों के साथ मुट्ठी बांधने जैसे आंदोलनों को बनाने की कला में महारत हासिल की।

ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम: ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम, जिसे लोकप्रिय रूप से जीपीएस के रूप में जाना जाता है, वर्ष 2005 में व्यावसायिक रूप से व्यवहार्य हो गया। यह मोबाइल उपकरणों में एम्बेडेड था और दुनिया भर में यात्रियों के लिए एक वरदान साबित हुआ। नए स्थानों की यात्रा करते समय दिशाओं की तलाश करना आसान नहीं होगा।

Prius – सेल्फ ड्राइविंग कार: Google ने वर्ष 2008 में सेल्फ ड्राइविंग कार परियोजना शुरू की और जल्द ही टोयोटा ने Prius को पेश किया। इस कार में ब्रेक पैडल, स्टीयरिंग व्हील या एक्सिलरेटर नहीं है। यह एक इलेक्ट्रिक मोटर द्वारा संचालित है और इसे संचालित करने के लिए किसी भी उपयोगकर्ता के इंटरैक्शन की आवश्यकता नहीं है। यह विशेष सॉफ्टवेयर, सेंसर का एक सेट और सटीक डिजिटल मैप्स के साथ एम्बेडेड है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ड्राइवरलेस अनुभव सहज और सुरक्षित है।

एंड्रॉयड: दशक के सबसे उल्लेखनीय आविष्कारों में से एक के रूप में जाना जाता है, एंड्रॉइड एक क्रांति के रूप में आया और उस बाजार पर कब्जा कर लिया जो पहले सिम्बियन और जावा संचालित उपकरणों से भरा था। इन दिनों ज्यादातर स्मार्ट फोन एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलते हैं। यह लाखों एप्लिकेशन का समर्थन करता है।

कंप्यूटर दृष्टी: कंप्यूटर विज़न में कई सब-डोमेन शामिल होते हैं जैसे कि इवेंट डिटेक्शन, इंडेक्सिंग, ऑब्जेक्ट रिकॉग्निशन, ऑब्जेक्ट पोज़ एस्टीमेशन, मोशन एस्टीमेशन, इमेज रिस्टोरेशन, सीन रिकंस्ट्रक्शन, लर्निंग और वीडियो ट्रैकिंग। यह क्षेत्र वास्तविक दुनिया से उच्च-आयामी डेटा में प्रसंस्करण, विश्लेषण, अधिग्रहण और चित्रण की तकनीकों को शामिल करता है ताकि प्रतीकात्मक जानकारी प्राप्त हो सके।

टच स्क्रीन टेक्नोलॉजी: लगता है कि टच स्क्रीन तकनीक दुनिया भर में ले ली गई है। टच स्क्रीन उपकरणों की लोकप्रियता के लिए संचालन में आसानी बनाता है। ये उपकरण दुनिया भर में एक रोष बन गए हैं।

3 डी प्रिंटिंग तकनीक: 3 डी प्रिंटिंग डिवाइस विभिन्न प्रकार के सामान बना सकती है जिसमें बरतन, सामान, लैंप और बहुत कुछ शामिल है। इसे एडिटिव मैन्युफैक्चरिंग के रूप में भी जाना जाता है, यह तकनीक इलेक्ट्रॉनिक डेटा सोर्स =से डिजिटल मॉडल डेटा के उपयोग के साथ किसी भी आकार की तीन आयामी वस्तुओं का निर्माण करती है।

जीआईटी हब: वर्ष 2008 में लॉन्च किया गया, यह एक वर्जन कंट्रोल रिपॉजिटरी रिविजन कंट्रोल और इंटरनेट होस्टिंग सर्विस है, जो बग ट्रैकिंग, टास्क मैनेजमेंट, फीचर रिक्वेस्ट और कोड, एप्स को शेयर करने आदि जैसे फीचर्स प्रदान करता है। GitHub प्लेटफॉर्म का विकास 2007 में शुरू हुआ था। साइट को 2008 में लॉन्च किया गया था।

स्मार्ट घड़ियाँ: स्मार्ट घड़ियों बाजार में काफी समय से हैं। हालाँकि, जैसे कि Apple द्वारा लॉन्च किए गए नए फीचर कई अतिरिक्त सुविधाओं के साथ आए हैं और अपार लोकप्रियता हासिल की है। ये घड़ियाँ स्मार्ट फोन की लगभग सभी विशेषताओं के साथ आती हैं और ले जाने और संचालित करने में आसान होती हैं।

क्राउड फंडिंग साइटें: GoFundMe, Kickstarter और Indiegogo जैसी भीड़-फ़ंडिंग साइटों की शुरूआत रचनात्मक दिमाग के लिए वरदान रही है। इन साइटों के माध्यम से, आविष्कारकों, कलाकारों और अन्य रचनात्मक लोगों को अपने विचारों को साझा करने और उन्हें लागू करने के लिए आवश्यक वित्तीय सहायता प्राप्त करने का मौका मिलता है।

दुनिया भर के वैज्ञानिक नए वैज्ञानिक आविष्कारों को लाने के लिए लगातार निरीक्षण करते हैं और प्रयोग करते हैं, जिससे लोगों का जीवन आसान हो जाता है। वे न केवल नए आविष्कारों के साथ आते रहते हैं, बल्कि जहां भी गुंजाइश है, मौजूदा लोगों को भी सुधारते हैं। जबकि इन आविष्कारों ने आदमी के लिए जीवन आसान बना दिया है; हालाँकि, इनसे होने वाले पर्यावरणीय, सामाजिक और राजनीतिक खतरों की मात्रा आप सभी से छिपी नहीं है।

[ratemypost]

इस लेख से सम्बंधित अपने सवाल और सुझाव आप नीचे कमेंट में लिख सकते हैं।

विकास नें वाणिज्य में स्नातक किया है और उन्हें भाषा और खेल-कूद में काफी शौक है. दा इंडियन वायर के लिए विकास हिंदी व्याकरण एवं अन्य भाषाओं के बारे में लिख रहे हैं.

Related Post

Paper leak: लाचार व्यवस्था, हताश युवा… पर्चा लीक का ‘अमृत काल’, केंद्र ने पीएचडी और पोस्ट-डॉक्टोरल फ़ेलोशिप के लिए वन-स्टॉप पोर्टल किया लॉन्च, एडसिल विद्यांजलि छात्रवृत्ति कार्यक्रम का हुआ शुभारंभ, 70 छात्रों को मिलेगी 5 करोड़ की छात्रवृत्ति, leave a reply cancel reply.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

पूर्व न्यायाधीशों ने प्रभावी लोकतंत्र के लिए लोकसभा 2024 की चुनावी बहस के लिए पीएम मोदी और राहुल गांधी को आमंत्रित किया

चुनाव आयोग मतदान डेटा: मल्लिकार्जुन खड़गे ने ‘विसंगतियों’ पर विपक्षी नेताओं को लिखा पत्र; डेरेक ओ’ब्रायन ने ec को “पक्षपातपूर्ण अंपायर” कहा, इशाक डार बने पाकिस्तान के डिप्टी पीएम, climate change: जलवायु-परिवर्तन के कुप्रभावों से संरक्षण का अधिकार भी मौलिक अधिकार.

Nayichetana.com

Best Hindi Site, nayichetana, nayichetana.com, slogan in hindi

भारत के 7 महान वैज्ञानिक जो है पूरी दुनिया में मशहूर

March 26, 2017 By Surendra Mahara 14 Comments

भारत के 7 महान वैज्ञानिकों की सूची – Top 7 Greatest Indian Scientists in Hindi

Table of Contents

Top 7 Great Indian Scientists Info In Hindi

हमारे देश में समय – समय पर ऐसे महान लोगो (Greatest Persons) ने जन्म लिया है जिन्होंने हमारे देश का नाम पूरे विश्व में ऊँचा किया है. इन महान लोगो ने न सिर्फ भारत को बल्कि पूरे विश्व को अपनी प्रतिभा का परिचय दिया है.

ऐसे ही महान लोगो में शुमार है हमारे देश के 7 प्रसिद्ध महान वैज्ञानिक (Top 7 Great Indian Scientists), जिन्होंने विज्ञान (Science) के क्षेत्र में इस दुनिया को नयी खोज दी.

इस Article में हम आपके साथ उन 7 महान वैज्ञानिको के बारे में जानकारी दे रहे है, जो अपनी Telent के कारण पूरे विश्व में मशहूर है.

Top 7 Greatest Indian Scientists in Hindi

Top 7 Great Indian Scientists Info In Hindi

             Great Indian Scientists

1. चंद्रशेखर वेंकट रमन (C. V. Raman) –

1. चंद्रशेखर वेंकट रमन (C. V. Raman) -

   C. V. Raman

भौतिकी में नोबेल पुरस्कार ( Nobel Prize ) पाने वाले सर चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली शहर में 7 नवम्बर सन 1888 को हुआ था.

इनके पिता का नाम चंद्रशेखर अय्यर व माता का नाम पार्वती अम्मा था। रमन के पिता भौतिक विज्ञान व गणित के टीचर थे जिस कारण उनकी कई किताबें रमन ने पढना शुरू कर दिया.

जिसका फल इन्हें आगे जाकर मिला और इन्होने स्पेक्ट्रम (Spectrum) से संबंधित रमन प्रभाव (Raman effect) का आविष्कार किया. इसी के चलते इन्हें सन 1930 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिला. 

भारत सरकार ने विज्ञान के क्षेत्र में बहुमूल्य योगदान के लिए देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ भारत रत्न ’ दिया. साथ ही संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी भी उन्हें प्रतिष्ठित ‘लेनिन शांति पुरस्कार’ से सम्मानित किया.

सर रमन ने प्रमुख रूप से प्रकाश के प्रकीर्णन, रमण प्रभाव, तबले और मृदंगम के संनादी (हार्मोनिक) की प्रकृति की खोज की. बेंगलुरू में सर सी. वी रमन ने रमन रिसर्च इंस्टीटयूट की स्थापना की.

Read More On Wikepedia

2. हरगोविंद खुराना (Har Gobind Khorana) –

हरगोविंद खुराना (Har Gobind Khorana) -

  Har Gobind Khorana

चिकित्सा में नोबेल पुरस्कार विजेता डॉ हरगोविंद खुराना को जीन की संश्लेषण (Gene Synthesis) के लिए पूरे विश्व में जाना जाता है.

इसका जन्म 9 जनवरी 1922, रायपुर, मुल्तान (अब पाकिस्तान में) में हुआ था.

हरगोविंद खुराना का जन्म एक गरीब परिवार में हुआ था पर हरगोविंद खुराना ने हमेशा ही अपनी पढाई पर ध्यान दिया.

जेनेटिक कोड को समझने और प्रोटीन संश्लेषण में महत्वपूर्ण भूमिका के लिए सन 1968 में डॉ खुराना को चिकित्सा विज्ञान का नोबल पुरस्कार प्रदान किया गया.

यह पुरस्कार डॉ खुराना को दो अमेरिकी वैज्ञानिकों डॉ. राबर्ट होले और डॉ. मार्शल निरेनबर्ग के साथ साझा दिया गया. इनको बताया था की डी. एन. ए. प्रोटीन्स का संश्लेषण किस प्रकार से करता है.

अमेरिका ने उन्हें ‘नेशनल एकेडमी ऑफ़ साइंस’ की सदस्यता भी प्रदान की है. इनका निधन 9 नवम्बर 2011 को हुआ.

3. सुब्रमण्‍यम चंद्रशेखर (Subrahmanyan Chandrasekhar) –

सुब्रमण्‍यम चंद्रशेखर Subrahmanyan Chandrasekhar

   Subrahmanyan Chandrasekhar

सन 1983 में भौतिकी में नोबल पुरस्कार से सम्मानित बीसवीं सदी के महानतम वैज्ञानिकों में शुमार सुब्रमण्‍यम चंद्रशेखर का जन्म 10 अक्टूबर सन 1910 को लाहौर में हुआ था.

सुब्रमण्‍यम चंद्रशेखर को तारों पर की गयी अपनी खोज के लिये जाना जाता है. इन्होने खगोलशास्त्र, भौतिकी और मैथ के क्षेत्र में बहुत ही बेहतरीन कार्य किये.

सुब्रमण्‍यम चंद्रशेखर भारत के महान वैज्ञानिक व नोबल पुरस्कार विजेता सी. वी. रमन के भतीजे थे.

इन्होने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अपने माता – पिता से ही ली तथा बारह वर्ष में हिन्दू हाई स्कूल में एडमिशन लिया.

इन्होने भौतिकी में स्नातक की डिग्री सन 1930 में पूरी की और आगे की पढाई के लिए इंग्लैंड चले गये. चन्द्रशेखर ” चंद्रशेखर लिमिट ” की खोज के लिए हमेशा ही याद रखा जाए. इनकी मृत्यु 21 अगस्त सन 1995 को हुई.

4. ए. पी. जे. अब्‍दुल कलाम (APJ Abdul Kalam) –

Dr. A.P.J. Abdul Kalam

     Dr. A.P.J. Abdul Kalam

मिसाइल मैन (Missile Man) के नाम से प्रसिद्ध और भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ ए. पी. जे. अब्‍दुल कलाम का जन्म 15 October सन 1931 को रामेश्वरम, तमिलनाडु में हुआ था.

सन 1962 में डॉ कलाम ‘ भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ‘ में शामिल हुए.

डॉ कलाम को प्रोजेक्ट डायरेक्टर के रूप में भारत का पहला स्वदेशी उपग्रह (एस.एल.वी. तृतीय) प्रक्षेपास्त्र बनाने का श्रेय दिया जाता है. इनके प्रयासों के कारण ही भारत अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष क्लब का सदस्य बन पाया.

सन 1998 के पोखरण द्वितीय परमाणु परिक्षण में इनकी प्रमुख भूमिका थी. डॉ. कलाम ने स्वदेशी लक्ष्य भेदी (गाइडेड मिसाइल्स) को डिजाइन किया था व अग्नि एवं पृथ्वी जैसी मिसाइल्स को सिर्फ स्वदेशी तकनीक से बनाया.

डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम को समाज व देश के लिए किये गये अपने सराहनीय कार्यो के लिए कई पुरस्कार मिले जिसमे भारत सरकार द्वारा दिए गये भारत के सबसे बड़े नागरिक सम्मान भारत रत्न, पद्म भूषण व पद्म विभूषण शामिल है. इनका निधन 27 जुलाई सन 2015 को शिलोंग, मेघालय में हुआ.

5. जगदीश चंद्र बसु (Jagdish Chandra Basu) –

जगदीश चंद्र बसु Jagdish Chandra Basu

   Jagdish Chandra Basu

डॉ॰ जगदीश चंद्र बोस का जन्म 30 नवंबर सन 1858 को बंगाल में हुआ था.

सर जगदीश चंद्र बोस को भारत के प्रमुख वैज्ञानिको में गिना जाता है. इन्हें भौतिकी, जीवविज्ञान, वनस्पतिविज्ञान तथा पुरातत्व का बहुत ज्यादा ज्ञान था.

बोस पहले ऐसे वैज्ञानिक थे जिन्होंने रेडियो और सूक्ष्म तरंगों की प्रकाशिकी पर कार्य किया और वनस्पति विज्ञान में कई महत्त्वपूर्ण खोजें की.

इन्होने अपने स्नातक की शिक्षा ब्रिटिश भारत के बंगाल प्रान्त में सेन्ट ज़ैवियर महाविद्यालय, कलकत्ता से की.

चिकित्सा की शिक्षा लेने के लिए बोस लन्दन विश्वविद्यालय गये लेकिन वहां स्वास्थ्य बिगड़ जाने के कारण वे भारत लौट आये.

भारत आने के बाद उन्होंने प्रेसिडेंसी महाविद्यालय में भौतिकी के प्राध्यापक का पद संभाला और साथ में वैज्ञानिक प्रयोग करते रहे.

इन्होने इसके बाद एक यन्त्र क्रेस्कोग्राफ़ का आविष्कार किया जिससे विभिन्न उत्तेजकों के प्रति पौधों की प्रतिक्रिया का अध्ययन किया. जिससे इन्होने यह खोजा की वनस्पतियों और पशुओं के ऊतकों में काफी समानता होती है.

वे सर बोस ही थे जिन्होंने पहली बार इस दुनिया को बताया की पौंधों में भी जीवन होता है. डॉ॰ जगदीश चंद्र बोस को रेडियो विज्ञान व बंगाली विज्ञान कथा-साहित्य का पिता माना जाता है. इनकी मृत्यु 23 नवंबर सन 1937 को हुई.

Read Full Biography Of Jagdish Chandra Basu

6. होमा जहाँगीर भाभा (Homa Jahangir Bhabha) –

होमा जहाँगीर भाभा Homa Jahangir Bhabh

    Homa Jahangir Bhabha

होमी जहांगीर भाभा भारत के महान परमाणु (Atom) वैज्ञानिक थे जिन्हें भारत के परमाणु उर्जा कार्यक्रम का जनक कहा जाता है.

वे भाभा ही थे जिनके प्रयासों के कारण ही भारत आज विश्व के प्रमुख परमाणु संपन्न देशों में शामिल है.

होमी जहांगीर भाभा का जन्म 30 अक्टूबर सन 1909 को मुम्बई के एक सभ्रांत पारसी परिवार में हुआ था. होमी जहांगीर भाभा ने कॉस्केट थ्योरी ऑफ इलेक्ट्रान का प्रतिपादन किया व इसके साथ ही कॉस्मिक किरणों पर भी काम किया जो पृथ्वी की ओर आते हुए वायुमंडल में प्रवेश करती है.

उन्होंने ‘टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ़ फंडामेंटल रिसर्च’ (टीआइएफआर) और ‘भाभा एटॉमिक रिसर्च सेण्टर’ की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

वे भाभा ही थे जिन्होंने मुम्बई में भाभा परमाणु शोध संस्थान (Bhabha Atomic Research Institute) की स्थापना की थी. भाभा की एक विमान दुर्घटना में 24 जनवरी, 1966 को मृत्यु हो गई.

Read Full Biography Of Homa Jahangir Bhabha

7. बीरबल साहनी (Birbal Sahni) –

Birbal Sahni

    Birbal Sahni

भारत के बेस्ट पेलियो-जियोबॉटनिस्ट (Paleo-Jiobotnist) डॉ बीरबल साहनी का जन्म 14 नवम्बर 1891 में शाहपुर जिले (अब पाकिस्तान में) के भेड़ा नामक गॉव में हुआ था. इनके पिता का नाम प्रो. रुची राम साहनी था.

इनके पिता एक शिक्षा शास्त्री, विद्वान और समाज सेवी थे जिन्होंने बचपन से ही बीरबल के अंदर विज्ञान को बढ़ावा दिया.

डॉ बीरबल साहनी एक भारतीय पुरावनस्पती वैज्ञानिक बने, जिन्होंने भारतीय उपमहाद्वीप के जीव अवशेषों का अध्ययन किया और इस क्षेत्र में बहुत सफलता पाई.

डॉ बीरबल ने लखनऊ में ‘बीरबल साहनी इंस्टिट्यूट ऑफ़ पैलियोबॉटनी’ की स्थापना की. पुरावनस्पति के क्षेत्र में इनका योगदान बहुमूल्य है. बीरबल साहनी की ख्याति पूरे विश्व में है.

Read Full Biography Of Birbal Sahni

दोस्तों ! हमें उम्मीद है की भारत के 7 महान वैज्ञानिको के बारे में लिखी गयी यह पोस्ट आपको जरुर पसंद आई होगी. भारत के और महान लोगो की जीवनी पढने के लिए Click करे : महान लोगो की जीवनी का विशाल संग्रह

निवेदन- आपको Top 7 Great Indian Scientists Info In Hindi, All Information About Top 7 Indian Scientist In Hindi – Bharat Ke 7 Mahan Vagyanik ये आर्टिकल  कैसा  लगा  हमे  अपने  कमेन्ट के माध्यम से जरूर बताये.

आपका एक Comment हमें और बेहतर लिखने के लिए प्रोत्साहित करेगा और हमारे Facebook Page को जरूर LIKE करे. आप हमसे Youtube पर भी जुड़ सकते हो.

Similar Articles:

  • महान ऋषि दधीचि जिन्होंने धर्म को बचाने के लिए दिये अपने प्राण
  • महान शिक्षाविद सर सैयद अहमद खां की जीवनी !
  • भीमराव अम्बेडकर की प्रेरणादायक जीवनी
  • वीर कुँवर सिंह की प्रेरक जीवनी और कहानी !
  • महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइन्स्टीन की जीवनी ! Albert Einstein In Hindi

'  data-srcset=

January 6, 2021 at 11:11 pm

Ihe information is short and enough really good info. 👍

'  data-srcset=

May 1, 2020 at 6:59 pm

A.P.J Abdul kalam sir is my favorite

'  data-srcset=

December 4, 2019 at 9:26 pm

8nambarhamra hoga

December 4, 2019 at 9:21 pm

Namsskar Sar mera nam Surya pratap singh ma farst Ham apni india ke Lia do A P J abdoul klaam ji ki thry new karnaama krna chate he

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Home » Essay Hindi » विज्ञान का महत्व पर निबंध | Essay On Science In Hindi

विज्ञान का महत्व पर निबंध | Essay On Science In Hindi

इस लेख Long Essay On Science In Hindi Language में विज्ञान का महत्व पर निबंध और विज्ञान अभिशाप या वरदान को बताया गया है। विज्ञान वर्तमान में हमे अपने आगोश में समेटे हुए है। भविष्य की बुनियाद भी विज्ञान पर ही टिकी हुई है। विज्ञान को बदलने का हुनर वैज्ञानिकों में है। पिछले 100 सालों में मनुष्य जीवन में काफी बदलाव आए है।

नित नए आविष्कारों के चलते हमारी जीवनशैली बदली है। अगर हमारे जीवन में विज्ञान की मौजूदगी देखे तो यह हर जगह है। आज का युग विज्ञान का युग है। मानव की धरती पर प्रथम मौजूदगी से लेकर आज तक विज्ञान ने मानव जीवन मे कई परिवर्तन किए है।

आदिमानव की जीवनशैली और आधुनिक मानव की जीवनशैली में रात दिन का अंतर है। यह विज्ञान ने ही सम्भव किया है। जिस चीज का हम उपयोग करते है उसमें विज्ञान है। विज्ञान का महत्व पर निबंध ( Essay Importance Of Science In Hindi Language For Class 6, 7, 8, 9, 10 ) विद्यार्थीओ के लिए बेहद उपयोगी है।

विज्ञान का महत्व पर निबंध – Essay On Science In Hindi

विज्ञान (Science) ने दुनिया के हर क्षेत्र में अपने पैर पसारे है। चाहे वो चिकित्सा का क्षेत्र हो या फिर अंतरिक्ष का क्षेत्र हो, विज्ञान हर जगह है। पुराने समय मे अगर कोई यह कहता कि इंसान ऊंचे आकाश में उड़ेगा, तो उसे हंसी का पात्र बनाकर मूर्ख कह दिया जाता था। परन्तु विज्ञान ने यह सम्भव कर दिखाया और हम आज हवाई जहाज को उड़ते हुए देखते है।

विज्ञान अपने आप उत्पन्न नही हुआ है। मनुष्य ने जरूरत के मुताबिक विज्ञान को सम्भव किया है। विज्ञान के पीछे एक क्रमिक विकास है। मनुष्य को जिस चीज की जरूरत हुई जो उसके कार्य को आसान बना दे। उसका आविष्कार और खोज मनुष्य ने की है। कहा जा सकता है की विज्ञान की खोज मनुष्य ने की है।

हम हमारे आसपास जो भी उपकरण देखते है वो सब विज्ञान की देन है। जिस मोबाइल से आप यह ब्लॉग आर्टिकल पढ़ रहे है वो भी विज्ञान का एक आविष्कार है। वैज्ञानिकों ने मानव जीवन को आधुनिक बनाने के लिए कई आविष्कार किये है। कुछ आविष्कारों ने मनुष्य जीवन में अच्छा बदलाव किया तो कुछ ने विध्वंसक परिणाम दिए है। हवाई जहाज, टेलीविजन, मोबाईल जैसे विज्ञान के चमत्कारों ने मनुष्य जीवन पर अच्छा प्रभाव डाला है।

  • यह भी पढ़े – टेलीविजन का आविष्कार किसने किया?

परमाणु बम भी एक वैज्ञानिक आविष्कार ही है लेकिन यह मानवता को धरती से समाप्त कर सकता है। हिरोशिमा और नागासाकी पर अमेरिका ने एटम बम गिराए थे जिससे जापान के दोनों शहर तबाह हो गए थे। इस तरह से हम कह सकते है कि विज्ञान वरदान और अभिशाप दोनों ही है।

विज्ञान का महत्व (Importance Of Science In Hindi)

विज्ञान Science के क्षेत्र में पिछले 100 सालों से काफी तरक्की हुई है। वैज्ञानिकों ने कई महत्वपूर्ण आविष्कार किये है जिनसे दैनिक जीवन में क्रांति आयी है। विज्ञान ने हमारे कई अंधविश्वासों को दूर किया है और कई सच्चाइयों को हमारे सामने लाया है।

1. संचार में विज्ञान का महत्व

पुराने जमाने में लोग आपस में बात करने के लिए पत्र लिखा करते थे। इन पत्रों को कबूतर के द्वारा भेजा जाता था। इसके बाद डाकिये ने हमारा यह कार्य किया। विज्ञान की तरक्की के साथ कम्युनिकेशन में भी आधुनिकता आयी। टेलीफोन के विकास के साथ ही लोगो को सन्देश पहुंचाना आसान हो गया। उसके बाद आये मोबाइल फोन ने तो क्रांति ला दी। कही से भी कभी भी किसी से भी बात करने का आसान जरिया हो गया।

रेडियो का आविष्कार भी विज्ञान का चमत्कार ही था। दुनिया में कही पर कुछ भी घटित होता है तो वह हमें न्यूज़ चैनल्स और इंटरनेट के माध्यम से मालूम पढ़ जाता है। पहले के जमाने में खबरे काफी मुश्किल से पहुंचा करती थी। आज हम दूर बैठे किसी को भी लाइव देख सकते है। क्रिकेट मैच का लाइव प्रसारण इसका एक उदाहरण है।

2. इंटरनेट और कंप्यूटर में विज्ञान

कंप्यूटर भी विज्ञान की एक बड़ी उपलब्धि है। कंप्यूटर ने कई कामो को आसान बना दिया है। किसी भी तरह का डॉक्यूमेंट बनाना हो, एक्सेल शीट बनानी हो या फिर प्रेजेंटेशन बनाना हो, कंप्यूटर के माध्यम से सब आसान है। इंटरनेट का आविष्कार भी विज्ञान की एक बहुत बड़ी क्रांति है। इंटरनेट के माध्यम से सन्देश को ईमेल के माध्यम से, व्हाट्सएप के जरिये या किसी भी चैट सेवा के जरिये भेजना और भी आसान हो गया है। वीडियो कॉलिंग के जरिये फेस टू फेस बात करना भी बहुत आसान है।

3. चिकित्सा में विज्ञान का महत्व

चिकित्सा के क्षेत्र में हुए आविष्कारों ने इस क्षेत्र में क्रांति लाने का कार्य किया है। कई प्रकार के रोगों को खत्म करने के लिए विज्ञान में काफी खोजे की गई और नई प्रकार की कारगर दवाइयां बनाई गई। पेनिसिलिन का आविष्कार इस क्षेत्र में पहला कदम था। यह एक एंटीबायोटिक औषधि थी। अंग प्रत्यारोपण का कार्य विज्ञान ने सम्भव कर दिखाया है।

एक्स रे , ईसीजी, एमआरआई जैसी जांच विज्ञान से सम्भव हुई है। कैंसर जैसे गम्भीर रोगों में शल्य चिकित्सा विज्ञान के द्वारा ही सम्भव हो पाई है। प्लेग, हैजा जैसी महामारियों से लाखों लोग मारे जाते थे लेकिन मेडिकल क्षेत्र में की गई खोजो से इनका इलाज संभव हो पाया है। विज्ञान की मदद से इन्सान ने वर्ष 1978 में लुइस जॉय ब्राउन नामक टेस्ट ट्यूब बेबी को जन्म दिया।

4. पुराने समय में किसी भी प्रोडक्ट को बनाने में समय और मेहनत ज्यादा लगती थी लेकिन आज कम समय और मेहनत में उसी कार्य को आसानी से मशीनों की सहायता से किया जा सकता है। उद्योगों में मशीनरी का प्रयोग विज्ञान की वजह से ही सम्भव हो पाया है।

5. वर्तमान में सभी विद्युत उपकरण विद्युत की मदद से वर्क करते है। बेंजामिन फ्रेंकलिन ने विद्युत की खोज की थी। इसकी खोज के बाद विज्ञान में नए आयाम स्थापित हुए थे। इलेक्ट्रिसिटी को विज्ञान का चमत्कार भी कहे तो कम नही है। चाहे टेलीविजन हो या फैन हो बिना विद्युत के इनका कोई कार्य नही है।

6. पुराने समय में लोग रोशनी के लिए दिये और लालटेन का उपयोग करते थे। थॉमस एडिसन ने बल्ब का आविष्कार किया था जिसने रात को रोशनी से ढक दिया गया। बर्फ जमाने के लिए रेफ्रिजरेटर, कपड़े धोने के लिए वॉशिंग मशीन, मनोरंजन के लिए टीवी, गर्मी से बचने के लिए कूलर जैसे उपकरणों ने घरेलू कार्यो को आसान कर दिया है। पहले खाना बनाने के लिए चूल्हा जलाया जाता था। आज के समय में गैस की सहायता से खाना बनाया जाता है।

7. पुराने समय में लोग आवाजाही के लिए ऊंट गाड़ी, बैल गाड़ी, घोड़ा गाड़ी का इस्तेमाल किया करते थे। इसके बाद साइकिल का आविष्कार हुआ जिससे यात्रा करना और आसान हो गया। इंजन लगाकर कार का आविष्कार किया गया। इससे दो जगहों के बीच में दूरियां सिमट गई। रेलगाड़ी का आविष्कार भी इस क्षेत्र में विज्ञान का बहुत बड़ा कदम था।

पहले यात्रा करने में कई दिन और महीने लग जाते थे। आज कुछ घण्टो और दिनों में किसी भी जगह पहुंचा जा सकता है। हवाई जहाज, हेलीकॉप्टर के आविष्कार ने विज्ञान के क्षेत्र में क्रांति का काम किया। एक देश से दूसरे देश कुछ घण्टो में पहुंचना मुमकिन हुआ।

विज्ञान एक वरदान पर निबंध – Long Essay On Science In Hindi Language

1. आज के समय में विज्ञान ने अथाह उन्नति कर ली है। मनुष्य मंगल ग्रह पर जाने का प्लान कर रहा है। ब्रह्मांड के बारे में जानना आसान हो गया है। वर्ष 1969 की 20 जुलाई के दिन मनुष्य ने चांद की धरती पर कदम रखा था। विज्ञान की बदौलत ही ऐसे यान का आविष्कार हो सका जो चांद पर जा सके।

2. धरती गोल है, यह उत्तर विज्ञान से ही सम्भव हो पाया है। कोपरनिकस ने धरती गोल है कि पहेली को सुलझाया था। गणित की वजह से ही अंतरिक्ष से सम्बंधित गणनाएं करना आसान हुआ है। विज्ञान ने ब्रह्मांड के कई रहस्यों की परते खोली है। विज्ञान के बदौलत ही मनुष्य ब्रह्मांड में पृथ्वी जैसे ग्रहों की खोज कर रहा है जिससे भविष्य में मनुष्य को वहां बसाया जा सके।

10. रोबोट का आविष्कार भी विज्ञान का एक बड़ा चमत्कार है। उद्योगों में काम आने वाली मशीनरी एक तरह से रोबोट ही है। इससे प्रोडक्ट उत्पादन में तेजी आई है।

11. बढ़ती आबादी की वजह से खाद्यान्न की समस्या होती है। परम्परागत तरीके से की जाने वाली खेती से जनसंख्या के अनुरूप खाद्यान्न उत्पादन नही हो पाता है। वैज्ञानिक तरीके से कृषि करने से खाद्यान्न के उत्पादन में बढ़ौतरी हुई है।

12. विज्ञान Science की खोजो और आविष्कारों ने पृथ्वी के बारे में कई रहस्यों को खोला है। मनुष्य विज्ञान की मदद से महासागर की तह में जा चुका है। समुद्री जीवन के बारे में जानकारी और कई नई प्रजातियों की खोज विज्ञान के द्वारा की गई है।

धरती पर शुरुआती जीवन की खोज हो या फिर पेड़ पौधों के विकास का इतिहास हो, धरती पर डायनासोर की उत्पत्ति और पतन का रहस्य विज्ञान ने ही उजागर किया है। विज्ञान ने हमे पृथ्वी का इतिहास बताया है।

विज्ञान एक अभिशाप – Essay On Science In Hindi

वर्तमान में दुनिया के कई देशों के बीच महाशक्ति बनने की प्रतिस्पर्धा चल रही है। इस हौड़ में मनुष्य इतना अंधा हो चुका है कि उसे विज्ञान के खतरे नही दिख रहे है। मनुष्य विज्ञान की मदद से परमाणु बम और हाइड्रोजन बम बना रहा है। अल्बर्ट आइंस्टीन के दिये ऊर्जा नियम से धरती को खत्म करने के हथियार बना  लिए गए है। जिनका भयानक अंजाम जापान में दुनिया देख चुकी है।

1. प्राचीन समय में तलवारों और तीरों से युद्ध लड़े जाते थे लेकिन आज बारूद, टैंकों, मिसाइलों, बन्दूकों ने यह स्थान ले लिया है। युद्ध के कारण लाखों लोग मारे जाते है।

2. विज्ञान ने आधुनिकता दी है और मनुष्य ने आधुनिकता की दौड़ में बेतहाशा प्राकृतिक संसाधनों का उपभोग किया है। पैट्रोल और कोयला ( Coal ) जैसे संसाधन सीमित है और इन्हें एक दिन खत्म होना ही है।

3. मनुष्य आवाजाही के लिए पेट्रोल और डीजल से चलने वाले वाहनों का इस्तेमाल करता है। इससे प्रदूषण फैलता है। धरती का तापमान बढ़ने से ग्लोबल वार्मिंग की समस्या उतपन्न हो गयी है।

4. विज्ञान का इस्तेमाल करने से प्रकति को काफी नुकसान पहुँचा है। बढ़ते वाहन, उद्योगों से निकला प्रदूषण, लगातार होता खनन जैसे कई कारण है जो वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण पैदा करते है।

विज्ञान Science वरदान है या अभिशाप, यह आप पर ही निर्भर करता है। विज्ञान के चमत्कारों का आप किस तरीके से इस्तेमाल करते है और कैसे आप सहयोग करते है। मनुष्य जीवन की कल्पना विज्ञान के बिना करना सम्भव नही है।

विज्ञान का महत्व पर निबंध ( Essay On Science In Hindi ) में विज्ञान एक वरदान या अभिशाप और महत्व की जानकारी आपको कैसी लगी? विज्ञान के बारे में निबंध “ Essay Importance Of Science In Hindi Language For Class 6, 7, 8, 9, 10″  पर आपके विचारो का कमेंट सेक्शन में स्वागत है। यह पोस्ट “Importance Of Science In Hindi” अच्छी लगी हो तो इसे शेयर भी करे।

यह भी पढ़े –

  • सोशल मिडिया पर निबंध
  • इंटरनेट पर निबंध 
  • जनसँख्या विस्फोट पर निबंध 

Related Posts

महत्वपूर्ण विषयों पर निबंध लेखन | Essay In Hindi Nibandh Collection

ऑनलाइन शिक्षा पर निबंध | डिजिटल एजुकेशन

समय का सदुपयोग पर निबंध (समय प्रबंधन)

राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध लेखन | Essay On Peacock In Hindi

ईद का त्यौहार पर निबंध | Essay On Eid In Hindi

चिड़ियाघर पर निबंध लेखन | Long Essay On Zoo In Hindi

मेरा परिवार विषय पर निबंध | Essay On Family In Hindi

' src=

Knowledge Dabba

नॉलेज डब्बा ब्लॉग टीम आपको विज्ञान, जीव जंतु, इतिहास, तकनीक, जीवनी, निबंध इत्यादि विषयों पर हिंदी में उपयोगी जानकारी देती है। हमारा पूरा प्रयास है की आपको उपरोक्त विषयों के बारे में विस्तारपूर्वक सही ज्ञान मिले।

7 thoughts on “विज्ञान का महत्व पर निबंध | Essay On Science In Hindi”

Nice informations

Very knowledgeable and absolutely correct info. …. very nice post

Very helpful link.

Leave a comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Happy Hindi

  • Stock Market
  • Inspiration
  • Personal Finance
  • Govt Scheme
  • Web Stories
  • Private Policy

Indian Scientist Who Changed The World – महान भारतीय वैज्ञानिक

a scientist essay in hindi

भारत एक अद्भुत् इतिहास वाला देश है और हमारे देश ने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में आविष्कारों द्वारा विश्व में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। विज्ञान हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा है और हमारी जीवनशैली में प्राचीन कल से ही विज्ञान की महत्ता रही है। भारत के ऋषि मुनियों द्वारा बताई गयी कई बातें आज विज्ञान भी स्वीकार कर रहा है|

भारत में आर्यभट्ट जैसे महान महान गणितज्ञ और वैज्ञानिक ने जन्म लिया हैं जिन्होंने शून्य का अविष्कार कर विश्व को पहली बार संख्या के ज्ञान से परिचित करवाया| आइये हम इस लेख द्वारा प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिकों और उनके अद्भुत योगदान के बारे में जानते हैं:

Great Indian Scientist and Thier Inventions

महान भारतीय वैज्ञानिक और उनके अविष्कार , c. v. raman –  चंद्रशेखर वेंकट रमन.

सी.वी. रमन का जन्म 7 नवंबर, 1888 को तिरुचिरापल्ली में हुआ| रमन कम उम्र में ही विशाखापत्तनम शहर में आ गए और 11 साल की उम्र में अपनी मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की| उन्होंने अपनी एफ.ए. परीक्षा (आज के इंटरमीडिएट परीक्षा, के बराबर) को मात्रा 13 साल की उम्र में छात्रवृत्ति के साथ उत्तीर्ण कर लिया था।

वह पहले एशियाई और पहली गैर-श्वेत व्यक्ति थे जिन्हें विज्ञान के किसी भी क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने के लिए चुना गया था। 1954 में, इन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया। उन्हें उनके अविष्कार “रमन प्रभाव” के लिए 1930 में नोबेल पुरस्कार जीता था।

रमन ने संगीत वाद्ययंत्र की ध्वनिकी पर भी काम किया। वे तबला और मृदंगम जैसे भारतीय वाद्यों की ध्वनि की हार्मोनिक प्रकृति को जांच करने वाले पहले व्यक्ति थे।

रमन का मानना था की हमे प्रश्न पूछने में कोई हिचक या भय नहीं होना चाहिए वे कहते थे

“Ask the right questions, and nature will open the doors to her secrets”

Homi Jehangir Bhabha – होमी जहाँगीर भाभा

मुंबई में अक्टूबर 1909 को जन्मे होमी जहांगीर भाभा ने क्वांटम थ्योरी (Quantum Theory) में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। भाभा भारतीय परमाणु ऊर्जा के पिता के रूप में भी विख्यात हुए हैं। इसके अलावा, उन्हें अल्प यूरेनियम भंडार के बजाय देश के विशाल थोरियम भंडार से ऊर्जा बनाने पर ध्यान केंद्रित करने की रणनीति तैयार करने का श्रेय जाता है।

भारत के परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष बनने वाले वे पहले व्यक्ति थे। उन्होंने भारत में, भाभा परमाणु अनुसंधान संस्थान (Bhabha Atomic Research Institute) और टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान (Tata Institute of Fundamental Research) जैसे वैज्ञानिक संस्थानों की स्थापना करके देश की वैज्ञानिक प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

एम विश्वेस्वर्या – M. Visvesvaraya

1955 में भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित एम विस्वेस्वर्या, भारतीय इंजीनियर, विद्वान और एक कुशल राजनेता थे। किंग जॉर्ज V ने जनता की भलाई के लिए उनके योगदान के लिए उन्हें ब्रिटिश भारतीय साम्राज्य के एक नाइट कमांडर (KCIE के रूप में नाइट) की उपाधि दी थी। 1918 से 1912 के दौरान वे मैसूर के दीवान भी थे।

उनके दो आविष्कार प्रसिद्ध हुए हैं -‘Automatic Sluice Gates’ और Block Irrigation System’, इन्हें अभी भी इंजीनियरिंग के क्षेत्र में चमत्कार माना जाता है। चूंकि रिवर बेड्स महंगा थे, तो उन्होंने 1895 में ‘कलेक्टर’ वेल्स के माध्यम से पानी फिल्टर करने का एक कारगर तरीका खोज लिया जो शायद ही कभी दुनिया में कहीं  देखा गया था।

उन्होंने हैदराबाद के शहर के लिए एक बाढ़ सुरक्षा प्रणाली तैयार की जिससे उनको विशिष्ट सम्मान मिला। उनके जन्म दिवस पर 15 सितंबर को उनकी स्मृति में भारत में अभियंता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

Srinivasa Ramanujan – श्रीनिवास रामानुजन

श्रीनिवास रामानुजन ने गणित में लगभग कोई औपचारिक प्रशिक्षण नहीं लिया था लेकिन उन्होंने गणितीय विश्लेषण, संख्या सिद्धांत और अनंत श्रृंखला, के क्षेत्र में असाधारण योगदान दिया। रामानुजन ने शुरू में अपने ही गणितीय शोध विकसित की और इसे जल्द ही भारतीय गणितज्ञों द्वारा मान्यता दी गई थी।

अपने अल्प जीवन काल के दौरान, रामानुजन ने स्वतंत्र रूप से लगभग 3,900 परिणाम प्राप्त किये, उनके लगभग सभी दावे सही सिद्ध हुए है। रामानुजन ने अपने मूल और अत्यधिक अपरंपरागत परिणाम जैसे रामानुज प्राइम और रामानुजन थीटा फंक्शन, से आगे के अनुसंधान को प्रेरित किया है।

रामानुजन के स्कूल के प्रधानाध्यापक, कृष्णास्वामी अय्यर के अनुसार रामानुज एक ऐसा उत्कृष्ट छात्र था जो अधिकतम से भी अधिक अंक प्राप्त करने का हकदार था। रामानुज का मानना था:

“An equation means nothing to me unless it expresses a thought of god.”

रेवेन्यू विभाग में नौकरी की इच्छा लिए रामानुज, रामास्वामी एयर से मिले| रामानुज ने उन्हें अपनी गणित की नोटबुक दिखाई, एयर ने रामानुज को याद करते हुए कहा है कि –

“मैं रामानुजन के गणितीय परिणामों से इतना प्रभावित था कि रेवेन्यू डिपार्टमेंट के निचले पद पर रामानुजन को नियुक्त कर उनकी प्रतिभा का अपमान करना नहीं चाहता था “

“I was struck by the extraordinary mathematical results contained in it (the notebooks). I had no mind to smother his genius by an appointment in the lowest rungs of the revenue department”.

Subrahmanyan Chandrasekhar – एस . चंद्रशेखर

भारतीय मूल के अमेरिकी खगोल वैज्ञानिक, प्रोफेसर चंद्रशेखर को संरचना और सितारों के विकास की महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं पर अपने अध्ययन के लिए 1983 में भौतिकी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया| उन्होंने विलियम ए. फ्लावर के साथ इसे साझा किया था।

चंद्रशेखर ने गणित के माध्यम से सितारों विकास के अध्ययन किये, जिनके माध्यम से बड़े पैमाने पर सितारों और ब्लैक होल के वर्तमान सैद्धांतिक मॉडल बनाये गए। चंद्रशेखर सीमा का नाम उनके नाम पर ही रखा गया है।

Jagadish Chandra Bose – जगदीश चंद्र बोस:

30 नवंबर, 1858 को बिक्रमपुर, पश्चिम बंगाल में जन्मे जगदीश चन्द्र बोस बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वे एक बहुश्रुत (Polymath), भौतिक विज्ञानी (physicist), जीवविज्ञानी(biologist), वनस्पतिशास्त्री (botanist) और पुरातत्त्ववेत्ता(archaeologist) थे। इन्होंने भारत में  रेडियो और माइक्रोवेव प्रकाशिकी की नींव रखी| उन्होंने पौधों के अध्ययन के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया और उन्होंने भारतीय उप-महाद्वीप में प्रायोगिक विज्ञान की शुरुआत की।

वह पहले व्यक्ति थे जिन्होंने पहली बार रेडियो संकेतों का पता लगाने के लिए Semiconductor Junctions उपयोग कर वायरलेस कम्युनिकेशन को प्रदर्शित किया। वे ओपन टेक्नोलॉजी के पिता के रूप में जाने गए हैं क्योंकि उन्होंने अपने आविष्कार और कार्यों को स्वतंत्र रूप से दूसरों के लिए उपलब्ध कराया। अपने काम के लिए पेटेंट के प्रति उनकी अनिच्छा विश्वप्रसिद्ध है।

उनके प्रसिद्ध अविष्कारों में से एक क्रेस्कोग्राफ (crescograph) है जिसके माध्यम से विभिन्न उत्तेजनाओं के प्रति पौधों की प्रतिक्रिया को मापा और यह धारणा स्थापित कि पौधे दर्द महसूस कर सकते हैं और स्नेह को समझ सकते हैं।

Vikram Sarabhai – विक्रम साराभाई

विक्रम साराभाई भारत के प्रसिद्ध साराभाई परिवार से थे जो उन प्रमुख उद्योगपतियों में से थे जिन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में मुख्य भूमिका निभाई थी। वे एक भारतीय वैज्ञानिक और प्रर्वतक थे तथा व्यापक रूप से भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक के रूप में माने जाते हैं।

विक्रम  ए. साराभाई  कम्युनिटी  विज्ञान केंद्र (VASCSC), जिसकी संस्थापना 1960 में साराभाई द्वारा कि गयी थी जो कि विज्ञानं तथा गणित शिक्षा का प्रसार करने के प्रति कार्यरत है। हर किसी को इसरो की स्थापना में उनकी प्राथमिक भूमिका के बारे में पता है। परंतु, शायद हम में से कई लोग यह नहीं जानते है कि उन्होंने कई अन्य भारतीय संस्थानों कि स्थापना में भूमिका निभाई है, सबसे विशेष रूप से भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद (IIMA की स्थापना) और विकास के लिए नेहरू फाउंडेशन।

विक्रम साराभाई को राष्ट्रीय सम्मान पद्म भूषण से 1966 में और 1972 में पद्म विभूषण (मरणोपरांत) से सम्मानित किया गया।

Har Gobind Khorana –  हर गोबिंद खुराना

हर गोबिंद खुराना भारतीय मूल के एक बायोकेमिस्ट थे जिन्होने मार्शल डब्ल्यू नीरेनबेर्ग और रॉबर्ट डब्ल्यू होली के साथ फिजियोलॉजी में अपने अनुसंधान के लिए 1968 में नोबेल पुरस्कार मिला था।

उन्हें आनुवंशिक कोड की व्याख्या पर अपने काम के लिए उसी वर्ष में कोलंबिया विश्वविद्यालय से लुइसा सकल होर्वीत्ज़ पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

Salim Ali – सलीम अली :

सलीम अली एक भारतीय पक्षी विज्ञानी और प्रकृतिवादी थे जो “भारत के बर्डमैन” के रूप लोकप्रिय हुए| सलीम अली पहले भारतीयों में से एक थे जिन्होंनेव्यवस्थित पक्षी सर्वेक्षण किये और कई किताबें लिखी|

बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसायटी के लिए अपने व्यक्तिगत प्रभाव का इस्तेमाल किया, और संगठन के लिए सरकार का समर्थन जुटाने में सक्षम रहे तथा भरतपुर पक्षी अभयारण्य बनवाया। उन्हें 1958 में पद्मभूषण और 1976 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया।

APJ Abdul Kalam – ए . पी . जे . अब्दुल कलाम :

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम एक साधारण व्यक्तित्व वाले आसाधारण व्यक्ति थे। वे 2002 से 2007 तक भारत के 11वें राष्ट्रपति रहे। कलाम का जन्म रामेश्वरम, तमिलनाडु में एक माध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। उन्होंने भौतिकी और एयरोस्पेस इंजीनियरिंग का अध्ययन किया।

कलाम ने भारतीय सेना के लिए एक छोटी सी हेलीकाप्टर डिजाइन द्वारा अपना करियर शुरू किया और बाद में उन्होंने भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जिनके कारण उन्हें मिसाइल मैन के रूप जाना जाता हैं|

18 जुलाई 1980 को ए पी जे अब्दुल कलाम के नेतृत्व में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) द्वारा भारत के प्रथम स्वदेशी प्रक्षेपण यान एसएलवी -3 का शुभारम्भ किया गया  एसएलवी -3 का प्रक्षेपण, भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक ऐतिहासिक मील का पत्थर था।

अब्दुल कलाम के विनम्र स्वभाव और अद्भुत व्यक्तित्व के कारण आज भी वे करोड़ों भारतीयों के दिलों में रहते हैं|

Nobel Prize Winners of India (Hindi) – नोबेल पुरुस्कार प्राप्त करने वाले भारतीय

Inspirational Stories From The Life of Abdul Kalam – अब्दुल कलाम की महानता का साबित करने वाले प्रेरक प्रसंग

Posted by Abhishek

 alt=

forgot password

अभी डीमेट अकाउंट खोलकर इन्वेस्टिंग शुरू करें!

HindiSwaraj

विज्ञान पर निबंध | Essay on Science in Hindi

By: Amit Singh

Essay on Science in Hindi FAQ

विज्ञान पर संक्षिप्त निबंध हिंदी में | vigyan ka chamatkaar – best short essay on science in hindi.

प्राचीन काल से आधुनिक काल तक बदलते समय और नित नए अविष्कारों के साथ विज्ञान न सिर्फ अस्तित्व में आया है बल्कि दिन दोगुनी और रात चौगुनी तरक्की भी की है। जिंदगी की इस भागदौड़ में क्या हमने कभी ध्यान दिया है कि विज्ञान किस प्रकार हमारी जिंदगी में अहमियत रखता है। सुबह के समय मोबाइल फोन के अलार्म से लेकर रोजमर्रा की दिनचर्या तक, टेलीविजन के रिमोट से लेकर गाड़ी के गेयर तक हर तरफ विज्ञान का ही वर्चस्व कायम है। आलम यह है कि आदिमानवों के काल से शुरु हुआ मनुष्यों का सफर मशीनों तक जा पहुंचा है।

बचपन में हम अकसर मां की लोरी सुनते हुए तारों को तकते थे। कभी इन तारों को गिनने की नाकाम कोशिश होती थी तो कभी चंदा मामा की चमक में झलक रही लकीरों को समझने का प्रयास। नतीजतन मन में कई सवाल गोते लगाना शुरु कर देते थे जैसे कि – आसमान की ऊंचाई कितनी है? चन्द्रमा और पृथ्वी की दूरी कितनी है? आसमान में कुल कितने तारे हैं? क्या एलियन्स सच में होते हैं और होते हैं तो कहा रहते हैं? टूटते तारे का रहस्य क्या है? इत्यादि…।

 कुछ सालों पहले इन सभी सवालों से न सिर्फ बच्चे बल्कि बड़े भी अंजान थे। हालांकि विज्ञान के विस्तार के साथ इन रहस्यों की गांठें धीरे-धीरे खुलती चली गयीं और आज जहन में उठे सभी सवालों का जवाब इंटरनेट पर मौजूद है, जोकि विज्ञान की ही देन है। आज सवालों के जवाब को ढूंढने के लिए जद्दोजहद करने की आवश्यकता भी बिल्कुल नहीं है बल्कि विज्ञान की महत्वपूर्ण सौगात मोबाइल फोन पर सभी सवालों के जवाब उपलब्ध हैं। विज्ञान के विषय में किसी ने बहुत सही कहा है कि-

#सम्बंधित : Hindi Essay, Hindi Paragraph, हिंदी निबंध।

भ्रष्टाचार पर निबंध गणतंत्र दिवस पर निबंध मेरा विद्यालय पर निबन्ध मेरी माँ पर निबंध शरद ऋतु पर निबंध

“ इंसानी दिमाग को आश्चर्य में खुशी मिलती है, इसीलिए वह विज्ञान से प्रेम करता है। ”

वास्तव में विज्ञान का अस्तित्व 1200 ईसा पूर्व मिस्त्र में देखने को मिलता है। जिसके बाद विज्ञान ने पश्चिमी देशों में दस्तक दी और देखते ही देखते समूचे विश्व में फैल गया। दरअसल धरती पर विज्ञान की शुरुआत जिंदगी के आगाज के साथ ही हो गयी थी। फिर चाहे वो आग का आविष्कार हो, पहिए का आविष्कार हो, खेती की शुरुआत हो या फिर शिकार करने के लिए पत्थरों का हथियार हो।

जहां एक तरफ आग के आविष्कार ने मानव सभ्यता को नई ऊचाईयों पर पंहुचा दिया, वहीं खेती की शुरुआत के चलते लोगों ने एक जगह पर बस कर नई सभ्याताओं को जन्म दिया।

प्राचीन काल में भी सिंधु घाटी सभ्यता सहित वैदिक काल तक में कई वैज्ञानिक आविष्कारों के प्रमाण मिलते हैं। यही नहीं प्राचीन काल में पंतजलि और सुश्रत जैसे गुरुओं ने स्वास्थय के क्षेत्र में विज्ञान का सदुपयोग कर प्लास्टिक सर्जरी और लेजर ट्रीटमेंट जैसे कई अविश्वसनीय इलाजों का आविष्कार किया।

इसके अलावा कई मशहूर हस्तियों ने विज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में योगदान दिया। आर्यभट्ट द्वारा जीरो की खोज और नालंदा विश्वविद्यालय में खगोलशास्त्र और अतंरिक्ष की शिक्षा इसका एक बड़ा उदाहरण है। मशहूर वैज्ञानिक न्यूटन ने विज्ञान को महत्व देते हुए कहा था-

Essay on Science in Hindi

“ मेरे लिए भौतिक सम्मान और गौरव के साधन कभी भी विज्ञान के क्षेत्र में प्रगति से ज्यादा नहीं रहे हैं। “

आज हमारे पास विज्ञान के असंख्य उदाहरण मौजूद हैं। रेलगाड़ी से लेकर हवाई जहाज तक हर तरफ विज्ञान का बोलबाला है।

वहीं आधुनिक काल की लगभग 17वीं शताब्दी में पहली औद्योगिक क्रांति ने विज्ञान को मानव जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण और आसान बना दिया। मशीनों के आविष्कार के साथ शुरु हुआ ये सिलसिला इंटरनेट तक जा पहुंचा। जिसके जरिए एक ही जगह पर बैठ कर समूची दुनिया की जानकारी हासिल करना बेहद आसान हो गया।

विज्ञान के बढ़ते महत्व के मद्देनजर संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनेस्को ने 2001 में 10 नवम्बर को विश्व विज्ञान दिवस घोषित किया था। वहीं भारत में हर साल 28 फरवरी को प्रख्यात वैज्ञानिक डॉ सी.वी रमन के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है।

हालांकि इस तथ्य को भी नकारा नहीं जा सकता कि विज्ञान की तरक्की जितनी महत्वपूर्ण और उपयोगी है, उतनी ही खतरनाक भी है। विज्ञान के विषय में अंग्रेजी में एक कहावत है – science is a good servant but a bad master…जिसका अर्थ है कि विज्ञान एक अच्छा नौकर तो है, लेकिन यह उतना ही बुरा अध्यापक भी है। आधुनिक काल में यह कहावत बिल्कुल सटीक बैठती है।

दरअसल वर्तमान में विज्ञान के कई दुर्पयोग भी हो रहे हैं। जिस मानव जीवन को आसान बनाने के लिए विज्ञान अस्तित्व में आया था, आज वही विज्ञान जीवन को अस्त-व्यस्त करने का कारण भी बन गया है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण मोबाइल फोन है। जिसका इस्तेमाल अमूमन संचार सुविधा को सुगम बनाने के लिए किया जाना चाहिए आज उसी का इस्तेमाल कई गलत कामों मसलन आतंकवाद, भ्रष्टाचार, परमाणु हथियार और साइबर अपराध जैसे कामों के लिए इस्तेमाल हो रहा है।

विज्ञान की ही बदौलत वर्तमान में आधुनिक हथियारों से लेस आतंकवाद से आज दुनिया का कोई भी देश अछूता नहीं है। वहीं कई बड़े देशों में परमाणु हथियार बनाने की होड़ लगी है, तो कहीं साइबर अपराध आधुनिक जंग का रुप अख्तियार कर चुकी है। पर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बाराक ओबामा के शब्दों में-

“ एक राष्ट्र जो अपने ऊर्जा के स्त्रोंतों को काबू में नहीं रख सकता है, ऐसा राष्ट्र अपने भविष्य को भी काबू में नहीं कर सकता है। “

बावजूद इसके तमाम उतार-चढ़ावों के बाद भी विज्ञान और तकनीकि के इस दौर में कुछ भी असम्भव नहीं रहा है। जलवायु परिवर्तन इसका एक बड़ा उदाहरण है। वर्तमान में सभी देशों के सामने जलवायु परिवर्तन सबसे बड़ा खतरा बनकर उभर रहा है, जिसका एकमात्र उपाय भी विज्ञान ही है। विज्ञान के विषय में मुंशी प्रेमचन्द्र ने कहा था- “विज्ञान में इतनी विभूति है कि वह काल चिन्हों को भी मिटा दे”

सतत् विकास लक्ष्यों से लेकर पैरिस समझौते कर जहां दुनिया के सभी देश वैश्विक मंचों पर जलवायु परिवर्तन के खतरे से निपटने का बिगुल फूंक रहे हैं, वहीं प्रदूषण पर काबू पाने के लिए आर्टिफीशियल बारिश इत्यादि उपाय विज्ञान की ही देन है।

इसके अलावा ग्रीन हाउस गैसों को कम करने के लिए हरित ऊर्जा के रुप में सौर्य पैनल से लेकर ईलैक्ट्रिक वाहनों तक में विज्ञान ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

इसी के मद्देनजर भारत सरकार ने भी विश्व गुरु बनने की तरफ कई अहम कदम उठाए हैं। भारत द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सौर्य संगठन की स्थापना और 2022 तक दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्क भारतीय रेलवे को पूरी तरह से ईलैक्ट्रिक बना देने का लक्ष्य विज्ञान की भूमिका पर ही निर्भर करता है। वहीं भारत सरकार द्वारा 2025 तक देश को पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य में विज्ञान ही मुख्य भूमिका में नजर आएगा।

विज्ञान के महत्व का उदाहरण हाल ही में समूचे विश्व में देखने को मिला। कोरोना वायरस की भयंकर त्रासदी पर विजय हासिल कर विज्ञान एक बार फिर सूर्खियों में आ गया। कोरोना वायरस की वैक्सीन से लेकर इलाज के तमाम नुस्खों तक, फेस मास्क से लेकर सैनिटाइजर, योगाभ्यास, आनलाइन कक्षाएं, घर से ऑफिस का काम करने तक विज्ञान शिक्षा से स्वास्थय तक हर क्षेत्र में मुख्य भूमिका में बना रहा।

ऐसे में जाहिर है विज्ञान का यह सफर बस यहीं थमने वाला नहीं है। विज्ञान अगर कुछ समस्याओं का कारण है तो उनका उपाय भी कहीं न कहीं विज्ञान में छुपा है। मशहूर वैज्ञानिक स्टीफिन हॉकिन्स के शब्दों में-

“ विज्ञान इंसान को बिमारी से निकाल सकता है, मगर वो बदले में इंसान की सामाजिक अशांति खत्म कर सकता है। “

विज्ञान दिवस कब मनाया जाता है और क्यों

संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनेस्को (unesco) ने 2001 में 10 नवम्बर को विश्व विज्ञान दिवस घोषित किया था। जिसके बाद पहली बार 10 नवम्बर 2002 को पहली बार अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया गया था।

साइंस दिवस क्यों मनाया जाता है?

भारत में हर साल 28 फरवरी को प्रख्यात वैज्ञानिक डॉ सी.वी रमन के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है।

विश्व विज्ञान दिवस कब मनाया जाता है

विश्व विज्ञान दिवस हर साल 10 नवंबर को मनाया जाता है

Related Education Post

a scientist essay in hindi

I am a technology enthusiast and write about everything technical. However, I am a SAN storage specialist with 15 years of experience in this field. I am also co-founder of Hindiswaraj and contribute actively on this blog.

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

HiHindi.Com

HiHindi Evolution of media

अंतरिक्ष में विज्ञान पर निबंध | Essay On Science In Space In Hindi

Hello In this article, we are providing about Essay On Science In Space In Hindi. अंतरिक्ष में विज्ञान पर निबंध Essay On Science In Space In Hindi, Antariksh Mein Vigyan Par Nibandh class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,12 Students.

Essay On Science In Space In Hindi

शुरुआत से ही इंसानों को अंतरिक्ष में जाने का काफी अट्रैक्शन रहा हुआ है। पहले के समय में जब टेक्नोलॉजी इतनी एडवांस नहीं थी, तब इंसान अपनी कल्पना और कहानियों के जरिए अंतरिक्ष की सैर करता था.

परंतु अपनी कल्पना को वास्तविक जिंदगी में साकार करने के लिए इंसान ने स्पेस रिसर्च की फील्ड में शोध करने के बारे में सोचा और इस प्रकार इंसानों ने बीसवीं सदी के बीच में अंतरिक्ष की फील्ड में काफी शानदार सफलता हासिल की।

वर्तमान के समय में इंसान अंतरिक्ष तक तो पहुंच ही गया है, साथ ही वह अंतरिक्ष के कई गूढ़ रहस्य के बारे में भी जान गया है और वह अंतरिक्ष की सैर करने के अपने सपने को भी साकार कर चुका है।

अंतरिक्ष में इंसानों के सफर की स्टार्टिंग साल 1957 में हुई थी और उस दिन 4 अक्टूबर था। 4 अक्टूबर के दिन स्पुतनिक नाम के एक अंतरिक्ष यान को अंतरिक्ष की कक्षा में सोवियत संघ के द्वारा भेजा गया था और इस प्रकार अंतरिक्ष युग की स्टार्टिंग हो गई थी। सोवियत संघ ने जिस यान को भेजा था, उसमें एक कुत्तिया भी भेजी गई थी, जिसका नाम “लाइका” था।

इस कुत्तिया को इसलिए भेजा गया था ताकि अंतरिक्ष में जीव के ऊपर कैसे प्रभाव पड़ते हैं, इसकी जानकारी हासिल की जा सके। इसके बाद आगे बढ़ते हुए साल 1958 में 31 जनवरी के दिन अमेरिका देश ने “एक्सप्लोरर” नाम के अंतरिक्ष यान को छोड़ा।

इसे इसलिए छोड़ा गया था ताकि यह पृथ्वी के ऊपर मौजूद चुंबकीय क्षेत्र और पृथ्वी पर उसके इफेक्ट की स्टडी कर सकें। अंतरिक्ष यान को इसीलिए अंतरिक्ष में भेजा जाता है ताकि वह अंतरिक्ष में जो भी रहस्य मौजूद है, उनके बारे में जानकारी हासिल कर सके और अंतरिक्ष के गूढ़ रहस्यों से पर्दा उठाए।

इसलिए जितने भी अंतरिक्ष यान भेजे जाते हैं, उसमें कैमरा भी लगाया जाता है ताकि वह अंतरिक्ष के सभी दृश्य को रिकॉर्ड कर सकें। 

साल 1959 में अक्टूबर के महीने में लूना 3 नाम का एक अंतरिक्ष यान सोवियत संघ के द्वारा भेजा गया था। इस यान ने सबसे पहली बार चंद्रमा की फोटो को कैप्चर किया था।

इसके बाद आगे बढ़ते हुए साल 1962 में ‘मैराइनर-2’यान को अमेरिका ने भेजा था जिसने शुक्र ग्रह के बारे में बहुत ही इंपॉर्टेंट जानकारी प्रदान की।

इसके बाद तो दुनिया के कई देशों ने अंतरिक्ष में अपने यान भेजा चालू कर दिया। यहां तक कि हमारे भारत देश ने भी अंतरिक्ष में अपने यान को भेजा है।

500 शब्द : अंतरिक्ष में विज्ञान पर निबंध

यह मनुज जिसका गगन में जा रहा है यान कांपते जिसके करों को देखकर परमाणु यह मनुज विज्ञान में निष्णात जो करेगा, स्यात् मंडल और विधु से बात

“इसरो(ISRO) में नौकरी पाने के लिए आप Sarkari Result पर विजिट कर सकते है”

प्रस्तावना – प्रस्तुत शताब्दी विज्ञान के नित नवीन प्रयोगों और आविष्कारों की हैं. विज्ञान ने पृथ्वी की पुस्तक के सभी पृष्ट खोलकर पढ़ डाले हैं. अब वह धरती पर अपनी उपलब्धियों से संतुष्ट नहीं हैं. अब उनका ध्यान अंतरिक्ष की ओर हैं.

धरती एक परिवार – यह विज्ञान की ही देन है कि अमेरिका आदि दूरस्थ स्थानों पर घटित घटना का पता भारत को चंद मिनटों में ही चल पाता हैं.

मोबाइल फोन, इंटरनेट आदि यंत्रों से हम बातें कर सकते हैं. तथा सब कुछ जान सकते हैं. विज्ञान ने धरती को एक परिवार बना दिया हैं.

अन्य ग्रहों का ज्ञान – आज मनुष्य का ध्यान धरती से बाहर अन्य ग्रहों की ओर जा पहुंचा है, जो इसी सौरमंडल में स्थित हैं. पहले वह धरती के उपग्रह चन्द्रमा पर पहुंचा.

अब तो चन्द्रमा पर बस्ती बसाने की योजनायें बनने लगी हैं. अमेरिका, यूरोप आदि के देशों में चन्द्रमा पर कॉलोनी बसाने के लिए भूमि की बुकिंग भी हो रही हैं.

वर्तमान में वैज्ञानिकों का ध्यान अंतरिक्ष में सुदूर स्थित ग्रहों की ओर हैं इसके रॉकेटयान शनि तथा मंगल ग्रहों तक पहुँच चुके हैं. मंगल पर जल होने का विश्वास व्यक्त किया जा रहा हैं. शनि के उपग्रह टाईटनिक का अध्ययन भी आरम्भ हो चुका हैं.

कल्पना का यथार्थ में परिवर्तन – अंग्रेजी भाषा के लेखक एच जी वेल्स ने धरती पर मंगलग्रह के निवासियों के काल्पनिक आक्रमण का वर्णन अपने उपन्यास में किया था.

यह कल्पना इंग्लैंड तथा यूरोप के लोगों के मस्तिष्क में सजीव रही हैं. आज विज्ञान इस कल्पना को यथार्थ में परिवर्तित करने में लगा हैं.

इसका राकेटयान मंगल की धरती पर उतर चुका हैं. और वहां के चित्र पृथ्वी पर प्राप्त हो रहे हैं. वैज्ञानिक इनका  अध्ययन  कर रहे हैं. उनका विचार है कि मंगल की जलवायु पृथ्वी के निवासियों के रहने के लिए उपयुक्त हो सकती हैं. मंगल ग्रह पर पानी की उपस्थिति तो नहीं मिली है. परन्तु रेत पर बनी हुई लकीरों से उनको वहां पानी होने का विश्वास हो रहा हैं.

अंतरिक्ष में अध्ययन – अंतरिक्ष में हमारा सौरमंडल है, जिसमें नौ ग्रह तथा उनके उपग्रह स्थित हैं. वैज्ञानिक नौ से अधिक ग्रहों की खोज कर चुके हैं.

यूरेनस ग्रह भी खोजा जा चुका है. विज्ञान धरती पर बढ़ती जनसंख्या के लिए चन्द्रमा तथा मंगल आदि ग्रहों पर आवास बनाने की दिशा में काम कर रहा हैं.

अंतरिक्ष बहुत विस्तृत तथा विशाल हैं. हमारे सौरमंडल तथा आकाशगंगा के समान अनेक सौरमंडल तथा आकाशगंगाएं हैं. ये हमारी पृथ्वी से बहुत दूर स्थित हैं. अभी वहां तक पहुंचना संभव नहीं हैं.

किन्तु विज्ञान उनके बारे में जानने का प्रयास कर रहा हैं. अत्यंत विशाल और शक्तिशाली दूरबीनों के आविष्कार से इनका अध्ययन संभव हो सका हैं. विज्ञान ने इन ग्रह नक्षत्रों की पृथ्वी से दूरी को नापने के लिए प्रकाश वर्ष का आविष्कार किया हैं.

विज्ञान और अंतरिक्ष में यातायात – विज्ञान ने अंतरिक्ष में यात्रा करने की कल्पना ही नहीं की हैं. अपितु उसे यथार्थ रूप देने में भी वह लगा हैं.

आकाश में उड़ने का पहला साधन वायुयान था. चन्द्रमा में स्थित अन्य ग्रहों में अध्ययन के उपकरण भेजने के लिए राकेट मिसाइल आदि का सहारा लिया गया हैं.

उपसंहार – विज्ञान का अंतरिक्ष के अध्ययन का पूरा ध्यान हैं. उसने ऐसे अनेक उपकरण बनाये हैं. जिनसे अंतरिक्ष का ज्ञान प्राप्त करना सम्भव हो सका हैं. उसने शक्तिशाली दूरबीनों तथा कैमरों का निर्माण किया है, जो अंतरिक्ष को जानने में मनुष्य के सहायक हैं.

  • प्राचीन भारत के विज्ञान आविष्कार
  • भारत में विज्ञान का इतिहास
  • विश्व विज्ञान दिवस पर निबंध
  • राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर निबंध
  • विज्ञान का अर्थ एवं परिभाषा
  • राष्ट्रीय सुरक्षा और विज्ञान पर निबंध

दोस्तों यदि आपकों Essay On Science In Space In Hindi Language  का यह लेख आपकों पसंद आया हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

यदि मैं वैज्ञानिक होता तो पर निबंध (If I Were A Scientist Essay In Hindi)

यदि मैं वैज्ञानिक होता तो पर निबंध (If I Were A Scientist Essay In Hindi)

आज हम यदि मैं वैज्ञानिक होता तो पर निबंध (Essay On If I Were A Scientist In Hindi) लिखेंगे। यदि मैं वैज्ञानिक होता पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

यदि मैं वैज्ञानिक होता विषय पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On If I Was A Scientist In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।

यदि मैं वैज्ञानिक होता पर निबंध (If I Were A Scientist Essay In Hindi)

आज के समय में कोई भी काम करना आसान नहीं होता। यहाँ पर कई सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है और रोज नए नए खतरे उठाने पड़ते हैं। कई बार ऐसा होता है कि हमें समझ नहीं आता कि जो काम हम कर रहे हैं, वह हमारे लिए बना है या नहीं?

इस वजह से जीवन में हमेशा कोई ना कोई उथल-पुथल मची रहती है। ऐसे में मेरे मन में भी कई प्रकार के विचार आते हैं। इन विचारों को शब्दों में बयां करना बड़ा ही मुश्किल जान पड़ता है। लेकिन दिल में एक तमन्ना है कि मैं एक सफल वैज्ञानिक बनु।

अपनी रुचि पर ध्यान दें

कई बार हम कई सारी ऐसी चीजें करते हैं, जो हमें कोई दूसरा करने के लिए कहता है और हमें ऐसा लगता है कि दूसरों के द्वारा कही गई बातें हमारे लिए सही होंगी। ऐसे में हमें हमेशा खुद की रूचि के बारे में सोचना चाहिए। ऐसी बातें या चीजें करनी चाहिए जो हमें अच्छी लगती है, ना कि दूसरों को।

जीवन में अगर कोई भी उतार-चढ़ाव आता है, तो हमें किसी भी प्रकार का दुःख नहीं होना चाहिए कि आखिर हमने ऐसा किया ही क्यों? ऐसे में अगर निर्णय हमारा हो, तो सोने पर सुहागा होगा। जीवन में आ रही कई अड़चनों को हम किसी के ऊपर नहीं डाल सकते और यह तभी संभव है, जब हम अपनी रुचि के हिसाब से काम करेंगे।

मैं एक अच्छा वैज्ञानिक बनना चाहता हूं और इसीलिए मैंने बचपन से ही इस तरफ ध्यान देना शुरू कर दिया और विज्ञान पर अच्छा ज्ञान भी हासिल किया है।

वैज्ञानिक बनने की ओर मेरा कदम

स्कूल जाते ही मेरे मन में यह विचार आने लगा कि मुझे वैज्ञानिक बनना है। मैंने इस बारे में अपने घर में बात की। शुरु शुरु में तो मेरी बात को हवा में उड़ा दि गयी। जैसे-जैसे मेरी उम्र बढ़ती चली गई, तो घर के लोगों को भी भरोसा होता गया कि मैंने कोई मजाक नहीं किया बल्कि जीवन के प्रति अपने नजरिए को लोगों के सामने बयां किया है।

वैज्ञानिक बनने की होड़ में सबसे पहला साथी मेरा परिवार बना। जिसने हमेशा मेरा साथ दिया। मैंने कई सारे वैज्ञानिकों के बारे में जानना शुरू किया और साथ ही साथ उनके बारे में लिखी गई किताबों का अध्ययन किया। इन सब में मेरी मदद इंटरनेट ने की।

मैंने जब विज्ञान की किताब उठाई और उसमें बने हुए टेलीस्कोप को देखा, तो मेरे मन में ख्याल आया कि आखिर इसका निर्माण कैसे हुआ होगा? तभी से मेरे अंदर एक अभूतपूर्व वैज्ञानिक ने जन्म लिया था। जिसने जाने अनजाने ही कई सारी चीजों का पता लगाना शुरू कर दिया और यहीं से मेरे वैज्ञानिक बनने के ओर मेरा पहला कदम माना गया।

यदि मैं वैज्ञानिक होता तो

वैज्ञानिक एक ऐसा इंसान होता है, जो अपनी सोच को अपने काम में पिरो कर रख देता है। बेशक इस काम में मेहनत बहुत है, लेकिन यदि मैं वैज्ञानिक होता तो अपनी जीत और मेहनत से कुछ ऐसी चीजों का निर्माण करता, जिनके माध्यम से लोगों को अपना काम निपटाने में और भी आसानी होती।

यदि मैं वैज्ञानिक होता तो मैं एक ऐसी मशीन बनाता, जिसमें बैठकर इंसान सही गलत का फैसला कर पाता। जहां पर भी किसी को अपने फैसलों को लेकर असमंजस होता, तो यह मशीन उसे सही तरीके से फैसला लेने के लिए मदद करती।

यदि मैं वैज्ञानिक होता तो मैं ऐसी मशीन बनाता, जिससे इंसान के आंसू बहने रुक जाते। क्योंकि आज के समय में आंसू की कोई कीमत नहीं है, सिर्फ हम ही अपने आंसुओं की कीमत जानते हैं। सामने वाला तो बस मजाक बना देता है।

यदि मैं वैज्ञानिक होता तो मैं किसानो के लिए ऐसे यंत्रो का अविष्कार करता की जिनका उपयोग करके उन्हें खेती में बहुत सी परेशानियों से निजात मिल जाती। यदि मैं वैज्ञानिक होता तो देश के सिपाहियों के लिए ऐसे हथियार बनाता, जिससे वे देश को हमेशा दुश्मनों से सुरक्षित रखते और दुश्मनों के छक्के छुड़ा पाते।

यदि मैं वैज्ञानिक होता तो देश के आने वाली पीढ़ी के लिए ज्ञान के भंडार को संजोकर रखता, जो मैंने सीखा और जाना है। जिससे की वे भी आगे नयी बातो को सीखते और नए अविष्कार करते।

मेरी कल्पनाएं

जिस दिन से हम इस पृथ्वी पर जन्म लेते हैं, उस दिन से ही हमारे मन में कई प्रकार की कल्पनाओ का समावेश हो जाता है। जिसके माध्यम से हम अपने अंदर के वैज्ञानिक को बाहर ला पाते हैं। अगर मैं वैज्ञानिक होता तो मेरे अंदर भी कई सारी कल्पनाओं का जन्म होता।

वैज्ञानिक बनना एक बहुत बड़ी बात है, जहां पर अपने अंदर की प्रतिभा को लोगों के सामने लाना और साबित करना मुश्किलों भरा काम जान पड़ता है। ऐसे में सच्ची मेहनत और कल्पनाशीलता के माध्यम से हम अपने वैज्ञानिक बनने के सपने को पूरा कर सकते हैं।

वैज्ञानिक बने मेरे आदर्श

मेरे वैज्ञानिक बनने के पीछे कई सारे ऐसे आदर्श नजर आते हैं, जिनके काम से मैं प्रभावित हुआ। प्राचीन काल की बात की जाए तो आज हमारे पास कई ऐसे मशीनें हैं, जिनके बारे में हम कभी सोच भी नहीं सकते थे।

इनमें से मुख्य मोबाइल, लैपटॉप, कंप्यूटर, वॉशिंग मशीन, रेफ्रिजरेटर, टेलीविजन, माइक्रोवेव, कूलर, एसी जैसी मशीन है। जिनके बिना आज जीवन की कल्पना करना मुश्किल होता है। ऐसे में हर वह वैज्ञानिक मेरा आदर्श है, जिसने जीवन के पहलुओं को सही तरीके से आगे बढ़ाने में हम सभी की भरपूर मदद की है और निष्ठा के साथ काम किया है।

इस प्रकार से आज मैंने अपने दिल की अभिव्यक्ति को आपके सामने प्रस्तुत किया है। जिसमें मैंने बताया कि मेरे वैज्ञानिक बनने का आखिर आधार क्या है? मेरे हिसाब से जिन चीजों के बारे में आप दिल और दिमाग दोनों से सोचते हैं, उनके लिए काम करने में कोई बुराई नहीं है।

मैं वैज्ञानिक जीवन से परिचित होना चाहता हूं और अपने भावी पीढ़ी को कुछ नया देना चाहता हूं। उम्मीद करता हूं की मैं देश हित में काम आ सकूंगा और खुद को साबित करने के लिए पीछे मुड़कर नहीं देखूंगा।

वैज्ञानिक हमारे देश का आधार है और उस आधार का हिस्सा बनने में मुझे गर्व महसूस होगा। ऐसी उम्मीद है कि मेरी तरह आप भी अपने सपनों को उड़ान दे सकेंगे।

इन्हे भी पढ़े :-

  • यदि मैं शिक्षा मंत्री होता पर निबंध (If I Were A Education Minister Essay In Hindi)
  • यदि मैं प्रधानमंत्री होता पर निबंध (If I Were A Prime Minister Essay In Hindi)
  • यदि मैं डॉक्टर होता पर निबंध (If I Am A Doctor Essay In Hindi)
  • विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Wonders Of Science Essay In Hindi)
  • यदि मैं अंतरिक्ष यात्री होता तो निबंध (Yadi Main Antariksh Yatri Hota Hindi Essay)

तो यह था, अगर मैं वैज्ञानिक होता तो पर निबंध, आशा करता हूं कि यदि मैं वैज्ञानिक होता  पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On If I Am A Scientist) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Related Posts

इंद्रधनुष पर निबंध (Rainbow Essay In Hindi Language)

इंद्रधनुष पर निबंध (Rainbow Essay In Hindi)

ओणम त्यौहार पर निबंध (Onam Festival Essay In Hindi)

ओणम त्यौहार पर निबंध (Onam Festival Essay In Hindi)

ध्वनि प्रदूषण पर निबंध (Noise Pollution Essay In Hindi Language)

ध्वनि प्रदूषण पर निबंध (Noise Pollution Essay In Hindi)

Hindi Grammar by Sushil

विज्ञान पर निबंध | Essay on Science in Hindi

Essay on Science in Hindi: आज का यह आधुनिक और चमत्कारिक युग विज्ञान का युग है। छोटे से छोटे गांव से लेकर देश-विदेश हर जगह विज्ञान की अलग ही झलक देखने को मिलती है एक छोटे से पेन से लेकर हर वो वस्तु जो मानव अपने उपयोग में लाता है वह सब विज्ञान की ही देन है। वर्तमान में हम हर छोटे से लेकर बड़े – बड़े कार्यों के लिए विज्ञान पर आश्रित हो चुके हैं।

विज्ञान अपने नए-नए आविष्कारों को करके मानव जीवन को सरल और सहज बनाने के कार्य में लगा रहता है। उसे वीडियो कॉलिंग पर देखना हो आदि ऐसे कई कार्य है जो विज्ञान के द्वारा ही संभव हो पाया है। विज्ञान ने मानव को जीवन को बहुत ही सरल और तकनीकी बना दिया है।

विज्ञान पर निबंध | Essay on Science in Hindi

Table of Contents

विज्ञान पर निबंध (Essay on Science in Hindi)

विज्ञान, मानव के जीवन में दिन – प्रतिदिन उसका एक महत्वपूर्ण अंग बनती जा रही है। प्रत्येक मनुष्य सुबह उठने के लिए अलार्म घड़ी से लेकर पूरे दिन में जो भी वस्तु उपयोग में लाता है वह विज्ञान के द्वारा ही बनाई जाती है।चाहे वह कूलर ,फ्रिज , कंप्यूटर, फोन,पंखा, टीवी ,लैपटॉप आदि अनेक चीज हैं जो एक मनुष्य अपने पूरे दिन में किसी ने किसी तरह उपयोग में लाता है।

जिससे मानव जीवन प्रत्येक कार्य बड़ी ही आसानी से और बिना कोई कष्ट और आनंद दायक तरीके से हो जाता है। यह सब विज्ञान से ही संभव है। आज का जो युग जिसे हम (मॉडर्न दुनिया)के नाम से भी जानते है। उसमे तो बिना विज्ञान के जीवन संभव ही नहीं है। विज्ञान में मानव जीवन को बहुत ही सरल एवं आसान बना दिया है। अब मानव पूर्णतः विज्ञान पर ही निर्भर हो गया है ।

विज्ञान का अर्थ

विज्ञान दो शब्दों से मिलकर बना है। विज्ञान यानी ‘ वि+ज्ञान’। होता है किसी भी” वस्तु का विशेष ज्ञान “होना। मनुष्य अपने दैनिक जीवन के सभी कार्यों के लिए विज्ञान का आदि हो चुका है। विज्ञान के अद्भुत चमत्कारों ने मानव जीवन को पूरी तरह से बदल दिया है।

विज्ञान आज है पूरी दुनिया भर को अचंभित कर रहा है देश – दुनिया के हर कोने-कोने पर विज्ञान की झलक देखने को मिलती है। हमारे जीवन से जुड़ी छोटी से छोटी चीज या वस्तु से लेकर बड़े-बड़े हवाई जहाज, ट्रेन यह सब विज्ञान की ही देन है। पहले जहा आने जाने के लिए सप्ताह/महीने लग जाते थे, अब वहां कुछ ही घंटों और मिनटों में वह दूरी तय कर लेते हैं।

मानव के दैनिक जीवन में विज्ञान का उपयोग

विज्ञान हमारे दैनिक जीवन में एक बहुत महत्वपूर्ण अंग बन चुका है बिना विज्ञान के तो जीवन की कल्पना भी करना संभव नहीं है लेकिन विभिन्न क्षेत्रों में विज्ञान के अविष्कार का महत्व निम्नानुसार है-

1. कृषि के क्षेत्र में –

मानव ,विज्ञान का उपयोग कृषि के क्षेत्र में भी के फसल की नई किस्म को विकसित करने और इसकी पैदावार में सुधार करने के लिए उपयोग में ला रहा है। कृषि के क्षेत्र में ऐसी ऐसी मशीनों और वाहनों का निर्माण हुआ है, जिससे खेती करने में बहुत ही सरलता हो गई है। खेतों में बीज डालना हो कटाई करना हो यह सब कार्य बड़े ही सरलता के साथ मशीनों द्वारा काम समय में हो जाते हैं।

2. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में –

चिकित्सा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में विज्ञान द्वारा ऐसी उपकरण ,यंत्रों और बड़ी-बड़ी मशीनों का निर्माण किया गया जिससे बड़ी ही आसानी से रोगों की पहचान और जल्द से जल्द उसका इलाज संभव हो सके।

3. संचार के क्षेत्र में –

संचार के क्षेत्र में मोबाइल, टेलीफोन, रेडियो ,टेप रिकॉर्डर ,इंटरनेट ,फैक्स मशीन आदि ऐसे उपकरणों का प्रयोग करके मनुष्य कम से कम समय में अधिक से अधिक सूचनाओं को प्राप्त कर सकता है।

4. अंतरिक्ष के क्षेत्र में –

विज्ञान ने अंतरिक्ष के क्षेत्र में बहुत अधिक सफलता प्राप्त किया आज मनुष्य विज्ञान के कारण ही चंद्रमा और अन्य ग्रहों तक सफलता से पहुंच पाया है ,विज्ञान के बिना इसकी कल्पना भी करना संभव नहीं था।

5. बैंकों एवं मॉल के क्षेत्र में –

विज्ञान का दिन – प्रतिदिन बढ़ता आविष्कार, बैंकों और मॉल में भी देखने को मिलता है। बैंकों में बड़ी-बड़ी एटीएम मशीनों के द्वारा लेन देन बड़ी आसानी से हो जाता है।और वही मॉल में भी बिलिंग काउंटर में एटीएम कार्ड या अन्य डेबिट, क्रेडिट कार्ड के द्वारा आप खरीदारी कर सकते हैं और कैश ले जाने की भी कोई आवश्यकता नहीं होती है।

6. शिक्षा के क्षेत्र में –

विज्ञान का प्रयोग शिक्षा के क्षेत्र में सबसे अधिक किया जाता है। विज्ञान के आविष्कार के बाद से शिक्षा के क्षेत्र में काफी उन्नति देखने के मिली है। दुनिया की कोई भी खबर ,कोई भी सवाल हो कंप्यूटर के माध्यम से छात्र बड़ी आसानी से उसका उत्तर प्राप्त कर सकता है। स्कूलों में भी अब टेक्नोलॉजी का विस्तार देखने को मिलता है वर्तमान में तो कंप्यूटर के माध्यम से ऑनलाइन क्लासों के द्वारा ही घर में रह कर आप अपनी पढाई कर सकते हैं।

7. यातायात के क्षेत्र में

पहले के समय में किसी यात्रा के लिए मनुष्य को काफी समय लग जाता था विज्ञान के आविष्कार के द्वारा लंबी से लंबी यात्रा को ही कुछ ही घंटे में मनुष्य ट्रेन , बस, कार ,मोटरसाइकिल और हवाई जहाज ,आदि के द्वारा कम से कम समय में पूरा कर लेता है।

विज्ञान के प्रकार

प्राकृतिक और भौतिकी विज्ञान में दुनिया का व्यवस्थित ज्ञान होता है। विज्ञान के प्रकार निम्नानुसार है-

1. भौतिक विज्ञान (Physics)

भौतिक विज्ञान, विज्ञान की एक सबसे बड़ी शाखा होती है। विद्वानों का यह मानना है कि इसमें ऊर्जा का रूपांतरण द्रव के अवयव तथा प्राकृतिक जगत एवं उसकी सभी आंतरिक क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है।

जैसे -स्थान, काल ,गति,द्रव्य ,विद्युत, प्रकाश तथा ध्वनि।

2. रसायन विज्ञान (Chemistry)

रसायन विज्ञान के अंतर्गत पदार्थों के संगठन ,उनकी संरचना, गुणों एवं रासायनिक अभिक्रियाओं में हुए परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता है।

3. खगोल विज्ञान (Geography)

खगोल विज्ञान के अंतर्गत अंतरिक्ष और आकाशीय पिंडों का अध्ययन किया जाता है खगोल विज्ञान के अंतर्गत प्राकृतिक विज्ञान से जुड़े अन्य विज्ञान जैसे , जियोलॉजी इकोलॉजी, एस्ट्रोनॉमी और ओशेयनोग्राफी आदि का अध्ययन किया जाता है।

विज्ञान एक वरदान

विज्ञान, मानव जीवन में एक वरदान के रूप में प्राप्त हुआ है वर्तमान में मानव का पूरा जीवन है विज्ञान पर ही टिका हुआ है । सुबह से लेकर रात तक हम जितने भी कार्य करते हैं वह सब विज्ञान के साधनों और उपकरणों के द्वारा ही पूर्ण करते हैं। कहीं जाना हो, पढ़ाई करनी हो या मनोरंजन करना हो,ये अब विज्ञान के माध्यम से ही करते है।

विज्ञान एक अभिशाप

मानव जीवन में विज्ञान जितना उपयोगी है वह उतना ही अभिशाप के रूप में भी देखा जा सकता है। मनोज साहब हर चीज के लिए वैज्ञानिक उपकरणों पर ही आश्रित हो गया है। मनुष्य दिन प्रतिदिन आलसी होता जा रहा है वह हर काम के लिए वैज्ञानिक मशीनों का ही उपयोग करता है।

मशीनों के प्रयोग से मजदूरों को कम मिलना बंद हो गया है। विज्ञान जितनी अधिक तेजी से विकसित हो रहा है, उसका नुकसान भी बहुत अधिक देखने को मिलता है। आजकल जितनी अधिक मशीनों का उपयोग किया जा रहा है उससे पूरा पर्यावरण प्रदूषण हो रहा है , जंगलों की कटाई, पहाड़ों को काटना और जगह-जगह खनन करके हम अपनी प्रकृति के साथ खिलवाड़ कर रहे है । जिससे भविष्य में बाढ़, भूकंप का खतरा बढ़ सकता है ।

वर्तमान में मानव जीवन का अस्तित्व विज्ञान पर ही निर्भर करता है। वैज्ञानिकों द्वारा हर दिन कोई ना कोई नई तकनीकी का आविष्कार किया जाता ,जो मानव जीवन को सरल एवं आसान बना रही है। विज्ञान मानव को शारीरिक रूप से अचल बना रहा है। विज्ञान के दो पहलू हैं जिसमें एक तरफ है मनुष्य को तमाम है सुख प्राप्त करवाता है, और आगे बढ़ाने में मदद करता है।

वहीं दूसरी ओर ऐसे – ऐसे विनाशकारी हथियारों का निर्माण करता है ,जिससे पूरी दुनियां का कुछ ही मिनटों और सेकंडो विनाश हो जाए। अब यह तो मनुष्य को ही तय करना है कि उसे विज्ञान का उपयोग है अच्छे कार्यों में करना है या विनाशकारी कार्यों में करना है।

प्रश्न 1- विज्ञान के जनक कौन है ?

उत्तर – विज्ञान के जनक “गैलीलियो गलिली” को कहा जाता है।

प्रश्न 2 विज्ञान का सबसे बड़ा चमत्कार क्या है?

उत्तर – विज्ञान का सबसे बड़ा चमत्कार: ईंधन , कंप्यूटर उपकरण,सूचना आदि ऐसे कई अनोखे चमत्कार विज्ञान द्वारा किए गए , जिससे मानव जीवन बेहद सरल और संपन्न हो गया है।

प्रश्न 3- विज्ञान के लाभ क्या है ?

उत्तर – विज्ञान के द्वारा मनुष्य का जीवन में पहले से बहुत अधिक सरल एवं आरामदायक हो गया है।

प्रश्न 4- विज्ञान की चार शाखाएं कौन सी है?

उत्तर – विज्ञान की चार प्रमुख शाखाएं- गणित और तर्क,जैविक विज्ञान, भौतिक विज्ञान और सामाजिक विज्ञान है।

इन्हे भी पढ़े

  • नवरात्रि पर निबंध
  • आदर्श विद्यार्थी पर निबंध
  • शिक्षा के क्षेत्र मे कंप्यूटर का महत्व

Neha

नमस्‍कार दोस्‍तों! Hindigrammar.in.net ब्‍लॉग पर आपका हार्दिक स्‍वागत हैं। मेरा नाम नेहा हैं और मुझे हिंदी में लेख लिखना और पढ़ना बहुत पसंद हैं और मैं इस वेबसाइट के माध्‍यम से हिंदी में निबंध लेखन से संबंधित जानकारी शेयर करती हूँ।

Share this:

Leave a reply cancel reply.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Notify me of follow-up comments by email.

Notify me of new posts by email.

Easy Hindi

केंद्र एव राज्य की सरकारी योजनाओं की जानकारी in Hindi

विज्ञान दिवस पर निबंध हिंदी में | Essay On Science Day in Hindi (Download PDF)

Essay On Science Day in Hindi

Science Day Essay in Hindi: राष्ट्रीय विज्ञान दिवस ( National Science day) हर साल 28 फरवरी को मनाया जाता है। यह दिन प्रसिद्ध भारतीय भौतिक विज्ञानी सर सीवी रमन की ‘रमन प्रभाव’ की खोज का जश्न मनाने का दिन है। इसके अलावा, विज्ञान दिवस एक ऐसा दिन हैं। जहां लोग विज्ञान और हमारे जीवन पर इसके प्रभाव के बारे में जान सकते हैं।  विज्ञान दिवस पर, विज्ञान को बढ़ावा देने और लोगों को व्यावहारिक प्रयोगों में भाग लेने का अवसर देने के लिए दुनिया भर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। पहली बार विज्ञान दिवस 1987 में मनाया गया था। विज्ञान दिवस पूरे देश में स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में मनाया जाता है। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस अनुसंधान संस्थानों, मेडिकल कॉलेजों और विज्ञान संस्थानों में भी मनाया जाता है।

ऐसे में यदि आप एक छात्र हैं और विज्ञान दिवस के ऊपर एक बेहतरीन निबंध लिखना चाहते हैं लेकिन आपको समझ में नहीं आ रहा है कि आप Science Day Essay in Hindi कैसे लिखेंगे उससे संबंधित जानकारी आज के आर्टिकल में Science Day Essay in Hindi  से जुड़ी जानकारी आपके साथ साझा करेंगे आईए जानते हैं:- 

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर निबंध | National Science Day Essay

हर साल 28 फरवरी को भारत राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाता है। यह दिन 28 फरवरी 1928 को “रमन प्रभाव” की खोज की याद दिलाता है। सीवी रमन ने ‘रमन प्रभाव’ की खोज की और 1930 में नोबेल पुरस्कार प्राप्त किया। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) के अनुरोध पर मनाया जाता है। स्कूलों ने विज्ञान से संबंधित विभिन्न कार्यक्रम आयोजित करके इस दिन को मनाया।इंजीनियरिंग और साइंस कॉलेजों में यह दिन महत्वपूर्ण स्थान रखता है।  इस दिन सरकार विज्ञान के प्रति उत्साही लोगों को पुरस्कार और पुरस्कार भी वितरित करती है। 1987 में भारत ने पहला राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया। National Science Day हमारे दैनिक जीवन में विज्ञान के महत्व को भी बढ़ावा देता है। विज्ञान दिवस लोगों को वैज्ञानिक अनुसंधान में अधिक योगदान देने के लिए भी प्रोत्साहित करता है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस निबंध | National Science Day Nibandh

प्रस्तावना: .

1928 में सर सीवी रमन द्वारा ‘रमन प्रभाव’ की खोज की याद में हर साल 28 फरवरी को भारत में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। इस खोज के लिए सर सीवी रमन को भौतिकी में 1930 का नोबेल पुरस्कार भी मिला

विज्ञान दिवस क्यों मनाया जाता है?

Science Day Kyu Mananya Jata Hai: 28 फरवरी 1928 को, महानतम भारतीय भौतिकविदों में से एक, सर सीवी रमन ने प्रकाश के प्रकीर्णन पर अपनी उपन्यास खोज की घोषणा की, जिसे ‘रमन प्रभाव’ के रूप में जाना जाता है। यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण खोज थी | जिसके कारण उन्हें 1930 में नोबेल पुरस्कार मिला। राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) ने 1986 में भारत सरकार से 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाने का अनुरोध किया। 

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का इतिहास क्या है? (Science Day History)

पहला राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 1987 में मनाया गया था। सर सीवी रमन की महत्वपूर्ण खोज के लगभग छह दशक बाद, राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) ने 1986 में सरकार से 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में घोषित करने का अनुरोध किया था। इसलिए, 1987 से शुरू होकर, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हर साल भारतीय स्कूलों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों और अन्य प्रासंगिक स्थानों में मनाया जाता है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस कैसे मनाया जाता है?

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पूरे भारत में व्यापक रूप से मनाया जाता है। स्कूल और कॉलेज अत्यधिक उत्साह और जोश के साथ भाग लेते हैं। मुख्यतः इंजीनियरिंग और विज्ञान महाविद्यालयों में प्रदर्शनियाँ आयोजित की जाती हैं और छात्र विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास और उपयोग पर चर्चा करते हैं।सरकार किसी न किसी तरह से विज्ञान और प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने में शामिल व्यक्तियों और संगठनों को  विज्ञान संबंधित पुरस्कार उन्हें प्रदान करती हैं।

विज्ञान दिवस पर संक्षिप्त भाषण | Short Speech On Science Day

विज्ञान दिवस भारत में विज्ञान और प्रौद्योगिकी का एक वार्षिक उत्सव है। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पहली बार भारत में 1987 में मनाया गया था। इसके अतिरिक्त, विज्ञान दिवस देश भर में स्कूलों, कॉलेजों, सरकारी एजेंसियों, विश्वविद्यालयों आदि सहित विभिन्न सेटिंग्स में मनाया जाता है। अनुसंधान संस्थान, मेडिकल स्कूल और विज्ञान संस्थान सभी राष्ट्रीय विज्ञान में भाग लेते हैं। इस दिन स्कूल और विश्वविद्यालय में विज्ञान दिवस से संबंधित कई प्रकार के प्रतियोगिता आयोजित किए जाते हैं जिसमें अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्रों को पुरस्कार दिया जाता हैं। 

Also Read: राष्ट्रीय बालिका दिवस कब, क्यों, कैसे मनाया जाता है?

विज्ञान दिवस भाषण | Science Day Speech 

प्रिय विशिष्ट अतिथियों, सम्मानित वैज्ञानिकों और मेरे साथी नागरिकों,

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के इस महत्वपूर्ण अवसर पर आपको संबोधित करते हुए मुझे गर्व महसूस हो रहा है। इस दिन, हम भारत के सबसे प्रसिद्ध भौतिकविदों में से एक, सर सीवी रमन द्वारा रमन प्रभाव की खोज का जश्न मनाते हैं, जिनके काम ने हमारे देश और उसके बाहर वैज्ञानिकों की पीढ़ियों को  विज्ञान के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित किया था।  रमन प्रभाव एक अभूतपूर्व खोज थीं।  जिसने आधुनिक भौतिकी के विकास का मार्ग प्रशस्त किया और वैज्ञानिक अनुसंधान की दिशा बदल दी। इस खोज ने   सर सीवी रमन को भौतिकी में नोबेल पुरस्कार दिलाया बल्कि भारत को वैश्विक वैज्ञानिक मानचित्र पर स्थापित करने का भी काम किया था।

 जो हर एक भारतीयों के लिए गौरव की बात थीं। विज्ञान हमारे समाज और अर्थव्यवस्था के विकास के लिए आवश्यक है। यह वह इंजन है जो स्वास्थ्य देखभाल, कृषि, ऊर्जा और शिक्षा सहित विभिन्न क्षेत्रों में नवाचार और प्रगति को संचालित करता है। वैज्ञानिक अनुसंधान में जलवायु परिवर्तन से लेकर गरीबी और असमानता तक, आज हमारी दुनिया के सामने आने वाली कुछ सबसे गंभीर चुनौतियों का समाधान करने की शक्ति है।

इस राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर, आइए हम वैज्ञानिक अनुसंधान और नवाचार समर्थन करें आइए हम युवाओं को विज्ञान और प्रौद्योगिकी में करियर बनाने के लिए प्रोत्साहित करें और उन्हें उत्कृष्टता हासिल करने के लिए आवश्यक संसाधन और बुनियादी ढांचा प्रदान करें।  अंत में, मैं इस राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर सभी वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं और नवप्रवर्तकों को अपनी हार्दिक शुभकामनाएं देना चाहता हूं। आपका कार्य हम सभी के लिए बेहतर भविष्य के निर्माण के लिए  महत्वपूर्ण हैं। इन शब्दों के माध्यम से मैं अपने भाषण का समापन कर रहा हूं |

विज्ञान दिवस पर भाषण | Speech On Science Day 

आदरणीय प्रधानाचार्य, शिक्षकगण और मेरे प्यारे दोस्तों, सभी को सुप्रभात

माननीय अतिथियों और मेरे प्यारे दोस्तों, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के बारे में बोलने का इतना बड़ा अवसर पाकर मैं बेहद सम्मानित महसूस कर रहा हूँ। सबसे पहले सभी वैज्ञानिकों एवं विज्ञान प्रेमियों को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। भारत में हर साल 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। लेकिन सवाल यह है कि हम यह दिवस क्यों मनाते हैं? इसका उद्देश्य क्या है? दोस्तों, यह दिन विज्ञान के क्षेत्र में सर चंद्र शेखर वेंकट रमन के समृद्ध और चिरस्थायी योगदान को बड़े गर्व के साथ याद करने के लिए मनाया जाता है। इसी दिन सर सीवी रमन ने वर्ष 1928 में  रमन प्रभाव की खोज की थी सीवी रमन युवा दिमागों के लिए एक महान प्रेरणा हैं, सर सीबी रमन द्वारा किए गए आविष्कार का सम्मान करने के लिए, हर साल 28 फरवरी को पूरे देश में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाया जाता है। विज्ञान के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए सर रमन को वर्ष 1930 में भौतिकी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हमारे वैज्ञानिकों की प्रतिभा और दृढ़ता को सलाम करने का एक अवसर है।  यह दिन लोगों को विज्ञान से जुड़े सभी मुद्दों पर चर्चा करने और विज्ञान के क्षेत्र में विकास के लिए नई तकनीकों को लागू करने के लिए प्रोत्साहित करता है। हर साल राष्ट्रीय विज्ञान दिवस एक थीम के अनुसार मनाया जाता है जो विज्ञान के महत्व के बारे में संदेश फैलाता है। 2024 में विज्ञान दिवस का थीम Science for a Sustainable Future” . घोषित किया गया है उसके अनुरूपी 2024 में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाएगा। मैं अपने भाषण का समापन विज्ञान दिवस संबंधित Quote किसी भी देश की उन्नति के लिए सबसे ज्यादा योगदान विज्ञान का होता है।

विज्ञान दिवस पर निबंध PDF Download:

शिक्षण संस्थानों में विज्ञान दिवस 2024 पर निबंध लेखन प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं। ऐसे में निबंध PDF फॉर्मेट में उपलब्ध हो तो बहुत अच्छा हो। प्रस्तुत है आपके लिए राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर निबंध PDF फॉर्मेंट में आप इसे डाउनलोड कर सकते है।

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आएगा आर्टिकल संबंधित अगर आपका कोई भी सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं। तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में 

FAQ’s: Science Day Nibandh in Hindi

Q. राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 28 फरवरी को क्यों मनाया जाता है?

Ans.भारत सरकार ने 1986 में 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस (एनएसडी) के रूप में नामित किया था। इस दिन सर सीवी रमन ने ‘रमन प्रभाव’ की खोज की घोषणा की थी जिसके लिए उन्हें 1930 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इस अवसर पर विषय-आधारित विज्ञान पूरे देश में संचार गतिविधियाँ चलायी जाती हैं। 

Q. पहला राष्ट्रीय विज्ञान दिवस कब मनाया गया था?

1986 में, राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) ने केंद्र से 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में नामित करने का अनुरोध किया। यह दिन पहली बार 28 फरवरी 1987 को मनाया गया था। इसी दिन वैज्ञानिक चन्द्रशेखर वेंकट रमन ने रमन प्रभाव की खोज की थी।

Q. 2024 में विज्ञान दिवस कब मनाया जाएगा? 

Ans. 2024 में विज्ञान दिवस 28 फरवरी को मनाया जाएगा।

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a reply cancel reply.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Related News

Blood Donation day। रक्त दान

Blood Donation day। रक्त दान दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ?

Shivaji Maharaj Jayanti

Chhatrapati Shivaji Maharaj Jayanti 2024 | छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती कब मनाई जाती है?

Guru Ravidas Jayanti 2024

Guru Ravidas Jayanti 2024: संत रविदास जयंती पर पाएं ढ़ेरों शुभकामनाएं, अपनों को भेजें संत रविदास के कोट्स

Saraswati Puja Muhurat

Saraswati Puja Muhurat 2024 | सरस्वती पूजा शुभ मुहूर्त व विधि जाने

Photo Essay: My Spring 2024 Semester at CDS

a scientist essay in hindi

Hi there! My name is Isabella Boncser, and I'm currently a sophomore in the six-year Accelerated BS/DPT program in Boston University's Sargent College (2026/2028). In addition to my academic pursuits, I have a passion for photography, and am currently the CDS student event photographer. I love capturing student life within CDS, whether that be taking pictures of students studying in the building on a rainy day, attending 24-hour civic tech hackathon on the 17th floor, or a faculty and staff appreciation event. Over this past semester, I had the honor of working with the CDS communications team, led by Maureen McCarthy , director, and Alessandra Augusto , events & communications manager.

I was asked to highlight some of my best and brightest work from the semester. The following images were captured this spring, and are some of my favorite images. They showcase the versatility of student life within CDS and BU Spark !

a scientist essay in hindi

BU Spark! hosted a Tech For Change Civic Tech Hackathon , where students spent 24 hours at BU to developed a new project with teamwork and technical skills at the forefront. I had the opportunity to meet students from 19 different schools, all of whom spent (literally) day and night on the 17th floor of the Center for Computing & Data Sciences working together and using their hacking skills to create a difference in the world. Pictured here are two students celebrating after discussing their individual projects and asking for some advice regarding their presentations.

a scientist essay in hindi

CDS serves as home for a variety of people and their furry friends! This image shows Miss Belle, the beautiful English Setter (who loves birds) who shares office space with her owner, Chris DeVits, CDS Director of Administration.

a scientist essay in hindi

The Center for Computing & Data Sciences truly has a place for everyone at BU. The main level has become the campus living room, where students can meet to chat over coffee, or catch up on emails on the staircase. On a rainy day, students can find a " cozy corner " and focus on their work in a relaxing environment. This is a glimpse of the "sit steps" - the large staircase with over two dozen conversation spaces that has become popular for students to relax and get some work done between classes.

a scientist essay in hindi

You may have heard people refer to the Center for Computing & Data Sciences as the "Jenga Building" because of its Jenga-like architecture. The building, which is home to the Faculty of Computing & Data Sciences, the Departments of Mathematics & Statistics and Computer Sciences, and the renowned Rafik B. Hariri Institute for Computing and Computation Science & Engineering, embraces its beautiful yet fun architecture while focusing on community! Next time you are craving a fun study break, join the CDS Events Team for a night of Jenga and try some delicious popcorn!

a scientist essay in hindi

Driving down Commonwealth Avenue, the building stands out amongst its peers and shines bright along the Boston city skyline. Illuminating the streets during dusk, the building is one of my favorites the photograph. The 17th floor is home to many events hosted by CDS faculty and staff, as well as the general BU community.

a scientist essay in hindi

The students pictured had been working tirelessly on their TFC Civic Tech Hackathon project. This photo exemplifies teamwork, collaboration, and partnership. Although students were working on their projects for 24 hours on the 17th floor of CDS, they were all smiles for the camera during final presentations!

a scientist essay in hindi

Yoga at the Top of BU has become a staple for students to come and enjoy a one-hour yoga session. The class is open to all students across BU, and is a great way to take a study break and get your body moving. If you are a zen master, or have never taken a yoga class before, come join us for the next session!

a scientist essay in hindi

The BU Spark! team gathered for a group picture during the Civic Tech Hackathon which took place on the 17th floor in February. Over the Spring 2024 semester, I've had the pleasure of getting to know the ambassadors from each track, and their passion for their work within the BU community is truly inspiring. BU Spark! hosts numerous events, talks, and community-building programs like Cookie O'clock, town halls, and much more. Visit the BU Spark! space on the second floor to learn more about their involvement on campus!

a scientist essay in hindi

Computational Humanities, Arts & Social Sciences ( CHASS ) hosted a variety of tutorials ranging from "An Analysis on Emerson's Work" to large language model discussions throughout the Spring 2024 semester. These sessions are a great way to learn about the data science industry and how your skills will be used in the real world. Check out the CHASS video tutorial library on YouTube .

I am heading to Dublin, Ireland to live and study abroad for the Fall 2024 semester! I am so thankful to Maureen McCarthy who gave me the opportunity to work with and celebrate the CDS community. I would also like to shoutout Sebastian Bak (QST'25) who recommended the position to me, and spoke so highly of the CDS community!

Share this:

  • Share on Facebook (Opens in new window)
  • Click to share on LinkedIn (Opens in new window)
  • Click to share on Twitter (Opens in new window)

View all posts

TOI logo

  • Education News

Calicut University Results 2024 announced for 1st, 2nd, 3rd and 4th semesters at results.uoc.ac.in: Direct links here

Calicut University Results 2024 announced for 1st, 2nd, 3rd and 4th semesters at results.uoc.ac.in: Direct links here

Here are the direct links to check Calicut University Semester Results 2024:

  • Direct Link to check Calicut University Semester Results 2024
  • Direct Link to check Calicut University Revaluation Results 2024

Visual Stories

a scientist essay in hindi

राष्ट्रिय विज्ञान दिवस पर निबंध (National Science Day Essay in Hindi)

भारत में, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस को हर साल 28 फरवरी को बड़े भौतिक विज्ञानी, सर सी.वी. रमन द्वारा वर्ष 1928 में ‘रमन इफेक्ट’ की खोज के लिए जाना जाता है। यहां पर मैंने अपने पाठकों के लिए राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर आधारित कुछ आसान शब्दों में लिखे गए निबंधों को नीचे साझा किया है। इस सम्बन्ध में अपने ज्ञान को बढ़ने के लिए और इस विषय में विस्तार से जानने के लिए आप इन निबंधों को से पढ़ सकते हैं।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर लघु और दीर्घ निबंध (Short and Long Essay on National Science Day in Hindi, Rashtriya Vigyan Divas par Nibandh Hindi mein)

निबंध 1 (250 शब्द).

सर सी.वी.रमन द्वारा वर्ष 1928 में “रमन इफेक्ट” की खोज को मनाने के लिए भारत में हर साल राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 28 फरवरी को मनाया जाता है। सर सी.वी. रमन को उनके इस अभूतपूर्व खोज के लिए वर्ष 1930 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार भी मिला है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस क्यों मनाया जाता है ?

28 फरवरी, 1928 को, सबसे महान भारतीय भौतिकविदों में से एक, सर सी.वी. रमन ने प्रकाश के प्रकीर्णन पर अपनी आधुनिक खोज की घोषणा की, जिसे ‘रमन इफ़ेक्ट’ के रूप में जाना जाता है। यह एक बहुत महत्वपूर्ण खोज थी जिसने उन्हें 1930 में नोबेल पुरस्कार दिलाया।

तद्पश्चात राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (NCSTC) ने भारत सरकार से 1986 में 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाने का अनुरोध किया।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस कैसे मनाया जाता है ?

पूरे भारत में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस व्यापक रूप से मनाया जाता है। स्कूल और कॉलेज अति उत्साह और जोश के साथ कई कार्यक्रमों में भाग लेते हैं। मुख्य रूप से इंजीनियरिंग और विज्ञान महाविद्यालयों में, प्रदर्शनियां आयोजित की जाती हैं तथा छात्र विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास और उपयोग पर चर्चा करते हैं।

सरकार किसी न किसी तरह से विज्ञान और प्रौद्योगिकी के प्रचार में शामिल व्यक्तियों और संगठनों को स्मारक और पुरस्कार राशि प्रदान करती है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हमारे दैनिक जीवन में विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा इसकी व्यवहार्यता को बढ़ावा देता है। यह वैज्ञानिकों, लेखकों, छात्रों और अन्य लोगों को भी प्रोत्साहित करता है जो विज्ञान और प्रौद्योगिकी के प्रचार में शामिल हैं।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस को प्रत्येक वर्ष समान परिश्रम के साथ मनाया जाना चाहिए। यह केवल विज्ञान से सम्बंधित लोगों तक ही सीमित नहीं होना चाहिए, बल्कि इसमें विभिन्न क्षेत्रों के प्रतिभागी भी शामिल होने चाहिए।

निबंध 2 (400 शब्द)

महान भारतीय वैज्ञानिक डॉ. चंद्रशेखर वेंकट रमन या सी.वी. रमन द्वारा “रमन इफेक्ट” की खोज को मनाने के लिए भारत प्रतिवर्ष 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाता है। उन्होंने 28 फरवरी, 1928 को ‘रमन इफेक्ट’ का आविष्कार किया था।

रमन इफेक्ट – एक महान खोज

रमन इफेक्ट, प्रकाश के प्रकीर्णन के क्षेत्र में एक बेहद ही महत्वपूर्ण खोज थी। यह खोज बताता है कि जब प्रकाश एक पारदर्शी वस्तु से गुजरता है तो उसमें से कुछ किरणें फैल जाती है और छितरी हुई ये रोशनी की किरणें अपनी तरंग दैर्ध्य और आयाम को बदल देती है, हालांकि यह थोड़ा बहुत ही होता है। इस खोज को सर सी.वी. रमन ने 26 फरवरी, 1928 को अस्तित्व में लाया था और इस महत्वपूर्ण खोज के लिए उन्हें भौतिकी में वर्ष 1930 का नोबेल पुरस्कार भी दिया गया था। सर सी.वी. रमन को स्मरण करने के लिए और उनकी खोज, ‘रमन इफेक्ट’ का सम्मान करने के लिए हम इस दिन को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में मनाते हैं।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस – इतिहास

पहला राष्ट्रीय विज्ञान दिवस 1987 में मनाया गया था। सर सी.वी.रमन द्वारा इस महत्वपूर्ण खोज के लगभग छह दशक बाद, नेशनल काउंसिल फॉर साइंस एंड टेक्नोलॉजी कम्युनिकेशन (NCSTC) ने 1986 में सरकार से 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में नामित करने का अनुरोध किया। इसलिए, 1987 से, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हर साल भारतीय स्कूलों, कॉलेजों, विश्वविद्यालयों और अन्य प्रासंगिक स्थानों पर मनाया जाता है।

विशेष कार्यक्रम/गतिविधियाँ

इस ख़ास दिन की मुख्य घटनाओं में से एक ‘राष्ट्रीय विज्ञान लोक-प्रचार पुरस्कार’ शामिल हैं, जो लोगों को और विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए या विज्ञान और संचार को लोकप्रिय बनाने के लिए संस्थानों को भी दिया जाता है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाने के लिए कई गतिविधियाँ जैसे डिबेट, टॉक शो, विज्ञान प्रदर्शनियाँ, आदि आयोजित की जाती हैं।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का महत्व

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का उत्सव इस दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है कि यह विज्ञान संस्थाओं और हमारे दैनिक जीवन में इसके कार्यान्वयन को बढ़ावा देता है। यह उन लोगों, वैज्ञानिकों, लेखकों, आदि को भी प्रोत्साहित करता है जो विज्ञान को बढ़ावा देने और शोध करने का सराहनीय काम कर रहे हैं।

यह वैज्ञानिक समाज के लोगों के साथ-साथ, सरकार के साथ बातचीत करने और उन्हें विज्ञान की उपयोगिता और इसके विकास के संभावित विस्तार के बारे में सूचित करने के लिए एक मंच प्रदान करता है। विज्ञान विकास की असीम संभावनाओं को प्रस्तुत करता है और हमारे दिन-प्रतिदिन के जीवन को अधिक आरामदायक और सुविधाजनक बनाता है।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस न केवल एक महान भारतीय वैज्ञानिक और उनकी महान खोजों में से एक है, बल्कि हमारे रोजमर्रा के जीवन का एक भाग के रूप में विज्ञान को बढ़ावा देता है। जब समाज का दृष्टिकोण हर पहलू में वैज्ञानिक हो जाएगा – विकास और समृद्धि, परिणाम के रूप में स्वतः ही इसका अनुसरण करेंगे। इसलिए, इस दिन को सरकार और संबंधित विभागों से पूर्ण समर्थन के साथ देखा जाना चाहिए।

Essay on National Science Day

निबंध 3 (600 शब्द)

भारत में हर साल 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया जाता है। यह एक महान भारतीय वैज्ञानिक डॉ. सी.वी. रमन द्वारा की गई महत्वपूर्ण खोज का दिन है। यह स्कूलों और कॉलेजों के साथ-साथ वैज्ञानिक समाज से सम्बंधित लोगों और सरकार द्वारा व्यापक रूप से मनाया जाता है।

जश्न के पीछे का कारण

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस डॉ. सी.वी.रमन द्वारा प्रकाश के प्रकीर्णन की घटना की खोज का स्मरण कराता है। इस प्रभाव को ‘रमन इफ़ेक्ट’ के रूप में जाना जाता है। इस खोज को डॉ. सी.वी. रमन और उनके एक छात्र के.एस.कृष्णन द्वारा 28 फरवरी, 1928 को अविष्कार किया गया था।

रमन इफ़ेक्ट, प्रकाश प्रकीर्णन के क्षेत्र में एक बेहद ही महत्वपूर्ण खोज थी। यह बताता है कि जब प्रकाश एक पारदर्शी सामग्री से गुजरता है, तो कुछ विक्षेपित प्रकाश आयाम और तरंग दैर्ध्य को बदल देता है।

इस खोज ने उन्हें 1930 में भौतिकी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित होने वाला पहला गैर-श्वेत भारतीय बना दिया था।

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस हर वर्ष 28 फरवरी को भारत में व्यापक रूप से मनाया जाता है। इस दौरान देश भर के स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में कई तरह के आयोजन किये जाते है। कार्यक्रमों को व्यापक रूप से प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया – समाचार पत्रों, रेडियो, टेलीविज़न, सोशल मीडिया, आदि में कवर किया जाता है। हर साल एक नयी थीम तय की जाती है और कार्यक्रम उसी थीम पर केंद्रित होते हैं।

भारत में विज्ञान को लोकप्रिय बनाने के लिए व्यक्तियों और संस्थानों को पुरस्कार दिए जाते हैं। विज्ञान और नवाचारों को बढ़ावा देने के लिए विज्ञान मेले और प्रदर्शनियां आयोजित की जाती हैं। साथ ही, विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर पुस्तकों और पत्रिकाओं को प्रकाशित और प्रचारित भी किया जाता है।

विज्ञान को बढ़ावा देने में शामिल व्यक्तियों और संस्थानों को पुरस्कार राशि भी प्रदान किया जाता है।

इस दिन का मुख्य उद्देश्य विज्ञान को बढ़ावा देना और लोगों को दैनिक उपयोग में वैज्ञानिक तरीकों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना है, ताकि उनके जीवन को सुविधाजनक और आरामदायक बनाया जा सके।

यह विज्ञान को समग्र रूप से जनता और मानवता के विकास और कल्याण के उपकरण के रूप में देखना चाहता है। विज्ञान के क्षेत्र में यह किसी व्यक्ति के प्रयासों को बढ़ावा देने और उसे याद रखने में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

इस खास दिन युवा वैज्ञानिकों, अन्वेषकों, लेखकों को सम्मानित किया जाता है और उनके अच्छे काम को जारी रखने के लिए कई तरह की सुविधाएँ भी प्रदान की जाती हैं। राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के सभी मुख्य उद्देश्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी से संबंधित लोगों को प्रोत्साहित करना और जहाँ तक संभव हो सके विज्ञान को बढ़ावा देना है।

हर वर्ष राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाने के लिए एक विषय तय किया जाता है। कार्यक्रम के उत्सव में थीम एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। पिछले कुछ वर्षों के थीम नीचे दिए गए हैं-

1999 का थीम – “हमारी बदलती धरती”

2000 का थीम – “बुनियादी विज्ञान में रुचि को फिर से बनाना”

2001 की थीम- “विज्ञान शिक्षा के लिए सूचना प्रौद्योगिकी”

2002 का थीम – “कचरे से धन”

2003 का थीम – “50 साल का डीएनए और 25 साल का आईवीएफ-द ब्लू प्रिंट ऑफ लाइफ”

2004 का थीम- “समुदाय में वैज्ञानिक जागरूकता को बढ़ावा देना”

2005 का थीम – “भौतिकी का जश्न”

2006 का विषय – “हमारे भविष्य के लिए प्रकृति का पोषण”

2007 का थीम – “प्रति बूंद अधिक फसल”

2008 का विषय – “पृथ्वी ग्रह को समझना”

2009 का थीम – “विज्ञान के क्षितिज का विस्तार करना”

2010 का थीम – “स्थायी विकास के लिए लिंग समानता, विज्ञान और प्रौद्योगिकी”

2011 का थीम – “दैनिक जीवन में रसायन विज्ञान”

2012 का थीम – “स्वच्छ ऊर्जा विकल्प और परमाणु सुरक्षा”

2013 का थीम – “आनुवंशिक रूप से संशोधित फसलें और खाद्य सुरक्षा”

2014 का थीम – “विज्ञान स्वभाव को बढ़ावा देना”

2015 का थीम – “राष्ट्र निर्माण के लिए विज्ञान”

2016 का थीम – “राष्ट्र के विकास के लिए वैज्ञानिक मुद्दे”

2017 का थीम – “विशेष रूप से विकलांग व्यक्तियों के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी”

2018 का थीम – “स्थायी भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी”

2019 का थीम – “लोगों के लिए विज्ञान, और विज्ञान के लिए लोग”

2020 का थीम – “विज्ञान में महिलाएं”

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस एक महत्वपूर्ण घटना है जो एक महान वैज्ञानिक को याद करती है और भारत के बेहतर भविष्य के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देती है।

संबंधित पोस्ट

मेरी रुचि

मेरी रुचि पर निबंध (My Hobby Essay in Hindi)

धन

धन पर निबंध (Money Essay in Hindi)

समाचार पत्र

समाचार पत्र पर निबंध (Newspaper Essay in Hindi)

मेरा स्कूल

मेरा स्कूल पर निबंध (My School Essay in Hindi)

शिक्षा का महत्व

शिक्षा का महत्व पर निबंध (Importance of Education Essay in Hindi)

बाघ

बाघ पर निबंध (Tiger Essay in Hindi)

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  • Share full article

Advertisement

Supported by

Guest Essay

Why Losing Political Power Now Feels Like ‘Losing Your Country’

A man with his head bowed is wearing a red hat with only the words “great again” visible in the light.

By Thomas B. Edsall

Mr. Edsall contributes a weekly column from Washington, D.C., on politics, demographics and inequality.

Is partisan hostility so deeply enmeshed in American politics that it cannot be rooted out?

Will Donald Trump institutionalize democratic backsliding — the rejection of adverse election results, the demonization of minorities and the use of the federal government to punish opponents — as a fixture of American politics?

The literature of polarization suggests that partisan antipathy has become deeply entrenched and increasingly resistant to amelioration.

“Human brains are constantly scanning for threats to in-groups,” Rachel Kleinfeld , a senior fellow at the Carnegie Endowment for International Peace, wrote in a September 2023 essay, “ Polarization, Democracy, and Political Violence in the United States: What the Research Says .”

“As people affectively polarize, they appear to blow out-group threats out of proportion, exaggerating the out-group’s dislike and disgust for their own group, and getting ready to defend their in-group, sometimes aggressively,” Kleinfeld argued.

Kleinfeld acknowledged that “a number of interventions have been shown in lab settings, games and short experiments to reduce affective intervention in the short term,” but, she was quick to caution, “reducing affective polarization through these lab experiments and games has not been shown to affect regular Americans’ support for antidemocratic candidates, support for antidemocratic behaviors, voting behavior or support for political violence.”

Taking her argument a step further, Kleinfeld wrote:

Interventions to reduce affective polarization will be ineffective if they operate only at the individual, emotional level. Ignoring the role of polarizing politicians and political incentives to instrumentalize affective polarization for political gain will fail to generate change while enhancing cynicism when polite conversations among willing participants do not generate prodemocratic change.

Yphtach Lelkes , a political scientist at the University of Pennsylvania, succinctly described by email the hurdles facing proposed remedies for polarization and antidemocratic trends:

I don’t think any bottom-up intervention is going to solve a problem that is structural. You could reduce misperceptions for a day or two or put diverse groups together for an hour, but these people will be polarized again as soon as they are exposed once more to campaign rhetoric.

The reality, Lelkes continued, is that “a fish rots from the head, and political elites are driving any democratic backsliding that is occurring in America. Most Republican voters do not support the antidemocratic policies and practices of their elected officials.”

In their March 2024 paper, “ Uncommon and Nonpartisan: Antidemocratic Attitudes in the American Public ,” Lelkes, Derek E. Holliday and Shanto Iyengar , both of Stanford, and Sean J. Westwood of Dartmouth found that public opposition to antidemocratic policies is not adequate to prevent their adoption:

More ominous implications of our results are that 1) public support is not a necessary precondition for backsliding behavior by elites, and 2) Americans, despite their distaste for norm violations, continue to elect representatives whose policies and actions threaten democracy. One explanation is that when partisanship is strong, voters place party and policy goals over democratic values. Indeed, one of the least-supported norm violations — removing polling places in outparty-dominated areas — has already been violated by elected officials in Texas, and there are concerns about pending similar laws in other states. Such unconstrained elite behavior suggests that threats to democracy could well manifest themselves in both parties in the future.

The level of public support for democratic institutions will be a crucial factor in the 2024 elections. President Biden is campaigning on the theme that Trump and his MAGA allies are intent on strengthening authoritarian leadership at the expense of democracy.

Political scientists and reform groups seeking to restore collegiality to political debate and elections have experimented with a wide variety of techniques to reduce partisan hostility and support for antidemocratic policies.

These efforts have raised doubts among other election experts, both about their effectiveness and durability. Such experts cite the virulence of the conflicts over race, ethnicity and values and the determination of Trump and other politicians to keep divisive issues in the forefront of campaigns.

I have written before about the largest study of techniques to lessen polarization, which was conducted by Jan G. Voelkel and Robb Willer , sociologists at Stanford, along with many other colleagues. Voelkel and Willer are the primary authors of “ Megastudy Identifying Effective Interventions to Strengthen Americans’ Democratic Attitudes .” Given the heightened importance of the coming election and the potential effects of polarization on it, their study is worth re-evaluating.

Voelkel, Willer and 83 others

conducted a megastudy (n=32,059) testing 25 interventions designed by academics and practitioners to reduce Americans’ partisan animosity and antidemocratic attitudes. We find nearly every intervention reduced partisan animosity, most strongly by highlighting sympathetic and relatable individuals with different political beliefs. We also identify several interventions that reduced support for undemocratic practices and partisan violence, most strongly by correcting misperceptions of outpartisans’ views — showing that antidemocratic attitudes, although difficult to move, are not intractable.

Their own data and their responses to my inquiries suggest, however, that the optimism of their paper needs to be tempered.

In the case of the “six interventions that significantly reduced partisan animosity,” the authors reported that two weeks later “the average effect size in the durability survey amounted to 29 percent of the average effect size in the main survey.”

I asked Voelkel to explain this further, posing the question: “If the initial reduction in the level of partisan animosity was 10 percentage points, does the 29 percent figure indicate that after two weeks the reduction in partisan animosity was 2.9 percentage points?” Voelkel wrote back to say yes.

In an email responding to some of my follow-up questions about the paper, Voelkel wrote:

I do not want to overstate the success of the interventions that we tested in our study. Our contribution is that we identify psychological strategies for intervening on partisan animosity and antidemocratic attitudes in the context of a survey experiment. We still need to test how big the effects could be in a large-scale campaign in which the psychological mechanisms for reducing partisan animosity and antidemocratic attitudes get triggered not once (as in our study) but ideally many times and over a longer period.

Voelkel cautioned that “one-time interventions might not be enough to sustainably reduce affective polarization in the mass public. Thus, successful efforts would need to be applied widely and repeatedly to trigger the psychological mechanisms that are associated with reductions in affective polarization.”

Willer sent a detailed response to my queries by email:

First, to be clear, we do not claim that the interventions we tested have large enough effects that they would cure the problems they target. We do not find evidence for that. Far from it. I would characterize the results of the Strengthening Democracy Challenge in a more measured way. We find that many of the interventions we tested reliably, meaningfully and durably reduce both survey and behavioral indicators of partisan animosity.

Willer wrote that “the interventions we tested were pretty effective in reducing animosity toward rival partisans, particularly in the short term. However, we found that the interventions we tested were substantially less effective in reducing antidemocratic attitudes, like support for undemocratic practices and candidates.”

Other scholars were more skeptical.

I asked Lilliana Mason , a political scientist at Johns Hopkins and a leading scholar of affective polarization: “Are there methods to directly lessen polarization? Are they possible on a large, populationwide scale?”

“If we knew that,” she replied by email, “we would have definitely told people already.”

There is evidence, Mason continued, that

it is possible to correct misperceptions about politics by simply providing correct information. The problem is that this new correct information doesn’t change people’s feelings about political candidates or issues. For example, you can correct a lie told by Donald Trump, and people will believe the new correct information, but that won’t change their feelings about Trump at all.

“We think of affective polarization as being extremely loyal to one side and feeling strong animosity toward the other side,” Mason wrote, adding:

This can be rooted in substantive disagreements on policy, identity-based status threat, safe versus dangerous worldview, historical and contemporary patterns of oppression, violations of political norms, vilifying rhetoric, propagandistic media and/or a number of other influences. But once we are polarized, it’s very difficult to use reason and logic to convince us to think otherwise.

Similarly, “there are methods that reduce polarization in academic research settings,” Westwood, an author of the March paper cited above, wrote by email. He continued:

The fundamental problems are that none “cure” polarization (i.e., move the population from negative to neutral attitudes toward the opposing party), none last more than a short period of time and none have a plausible path to societywide deployment. It is impossible to reach every American in need of treatment, and many would balk at the idea of having their political attitudes manipulated by social scientists or community groups.

More important, in Westwood’s view, is that

whatever techniques might exist to reduce citizen animosity must be accompanied by efforts to reduce hostility among elected officials. It doesn’t matter if we can make someone more positive toward the other party if that effect is quickly undone by watching cable news, reading social media or otherwise listening to divisive political elites.

Referring to the Voelkel-Willer paper, Westwood wrote:

It is a critically important scientific study, but it, like nearly all social science research, does not demonstrate that the studied approaches work in the real world. Participants in this study were paid volunteers, and the effects were large but not curative. (They reduced partisan hatred and did not cure it.) To fix America’s problems, we need to reach everyone from fringe white nationalists to single moms in Chicago, which is so costly and logistically complicated that there isn’t a clear path toward implementation.

One problem with proposals designed to reduce partisan animosity and antidemocratic beliefs, which at least three of the scholars I contacted mentioned, is that positive effects are almost immediately nullified by the hostile language in contemporary politics.

“The moralized political environment is a core problem,” Peter Ditto , a professor of psychological science at the University of California, Irvine, wrote by email:

Unless we can bring the temperature down in the country, it is going to be hard to make progress on other fronts, like trying to debias citizens’ consumption of political information. The United States is stuck in this outrage spiral. Partisan animosity both fuels and is fueled by a growing fact gap between red and blue America.

Ditto argued that there is “good evidence for the effectiveness of accuracy prompts (correcting falsehoods) to reduce people’s belief in political misinformation,” but “attempting to reduce political polarization with accuracy prompts alone is like trying to start a mediation during a bar fight.”

Attempts to improve political decision making, Ditto added, “are unlikely to have a substantial effect unless we can tamp down the growing animosity felt between red and blue America. The United States has gone from a politics based on disagreement to one based on dislike, distrust, disrespect and often even disgust.”

Citing the Voelkel-Willer paper, Jay Van Bavel , a professor of psychology and neural science at N.Y.U., emailed me to express his belief that “there are solid, well-tested strategies for reducing affective polarization. These are possible on a large scale if there is sufficient political will.”

But Van Bavel quickly added that these strategies “are up against all the other factors that are currently driving conflict and animosity, including divisive leaders like Donald Trump, gerrymandering, hyperpartisan media (including social media), etc. It’s like trying to bail out the Titanic.”

Simply put, it is difficult, if not impossible, to attempt to counter polarization at a time when partisan sectarianism is intense and pervasive.

Bavel described polarization as

both an illness from various problems in our political system and an outcome. As a result, the solution is going to be extremely complex and involve different leadership (once Trump and his inner circle leave the scene, that will help a lot), as well as a number of structural changes (removing gerrymandering and other incentive structures that reinforce extremism).

Affective polarization, Bavel added,

is really just a disdain for the other political party. Political sectarianism seems to be an even worse form because now you see the other party as evil. Both of these are, of course, related to ideological polarization. But affective polarization and political sectarianism are different because they can make it impossible to cooperate with an opponent even when you agree. That’s why they are particularly problematic.

Stanley Feldman , a political scientist at Stony Brook University, pointed to another characteristic of polarization that makes it especially difficult to lower the temperature of the conflict between Republicans and Democrats: There are real, not imaginary, grounds for their mutual animosity.

In an email, Feldman wrote:

There is a reality to this conflict. There has been a great deal of social change in the U.S. over the past few decades. Gay marriage is legal, gender norms are changing, the country is becoming more secular, immigration has increased.

Because of this, Feldman added:

it’s a mistake to suggest this is like an illness or disease. We’re talking about people’s worldviews and beliefs. As much as we may see one side or the other to be misguided and a threat to democracy, it’s still important to try to understand and take seriously their perspective. And analogies to illness or pathology will not help to reduce conflict.

There are, in Feldman’s view,

two major factors that have contributed to this. First, national elections are extremely competitive now. Partisan control of the House and Senate could change at every election. Presidential elections are decided on razor-thin margins. This means that supporters of each party constantly see the possibility of losing power every election. This magnifies the perceived threat from the opposing party and increases negative attitudes toward the out-party.

The second factor?

The issues dividing the parties have changed. When the two parties fought over the size of government, taxes and social welfare programs, it was possible for partisans to imagine a compromise that is more or less acceptable even if not ideal. Compromise on issues like abortion, gender roles, L.G.B.T.Q. rights and the role of religion is much more difficult, so losing feels like more of a threat to people’s values. Feldman continued:

From a broader perspective, these issues, as well as immigration and the declining white majority, reflect very different ideas of what sort of society the United States should be. This makes partisan conflict feel like an existential threat to an “American” way of life. Losing political power then feels like losing your country. And the opposing parties become seen as dangers to society.

These legitimately felt fears and anxieties in the electorate provide a fertile environment for elected officials, their challengers and other institutional forces to exacerbate division.

As Feldman put it:

It’s also important to recognize the extent to which politicians, the media, social media influencers and others have exacerbated perceptions of threat from social change. Take immigration, for example. People could be reminded of the history of immigration in the U.S.: how immigrants have contributed to American society, how second and third generations have assimilated, how previous fears of immigration have been unfounded. Instead there are voices increasing people’s fear of immigration, suggesting that immigrants are a threat to the country, dangerous and even less than human. Discussions of a “great replacement” theory, supposed attacks on religion, dangers of immigration and changing gender norms undermining men’s place in society magnify perceptions of threat from social change. Cynical politicians have learned that they can use fear and partisan hostility to their political advantage. As long as they think this is a useful strategy, it will be difficult to begin to reduce polarization and partisan hostility.

In other words, as long as Trump is the Republican nominee for president and as long as the prospect of a majority-minority country continues to propel right-wing populism, the odds of reducing the bitter animosity that now characterizes American politics remain slim.

The Times is committed to publishing a diversity of letters to the editor. We’d like to hear what you think about this or any of our articles. Here are some tips . And here's our email: [email protected] .

Follow the New York Times Opinion section on Facebook , Instagram , TikTok , WhatsApp , X and Threads .

Thomas B. Edsall has been a contributor to the Times Opinion section since 2011. His column on strategic and demographic trends in American politics appears every Wednesday. He previously covered politics for The Washington Post. @ edsall

IMAGES

  1. यदि मैं वैज्ञानिक होता हिंदी निबंध

    a scientist essay in hindi

  2. यदि मैं वैज्ञानिक होता निबंध If I Were Scientist Essay Hindi

    a scientist essay in hindi

  3. Essay on my favourite scientist in hindi

    a scientist essay in hindi

  4. Thomas Alva Edison in Hindi: एडीसन एक जन्मजात वैज्ञानिक

    a scientist essay in hindi

  5. essay on science in hindi

    a scientist essay in hindi

  6. Stephen Hawking's Biography in Hindi. {A True story of a Great

    a scientist essay in hindi

VIDEO

  1. मेरे प्रिय वैज्ञानिक हिंदी निबंध || my favourite scientist || hindi essay

  2. Essay on If I were a Scientist / If I were a Scientist speech in english

  3. Scientist essay in Nepali

  4. Essay Writing Tips for Beginners📝✨ #writing #shorts #EssayWritingTips #BeginnersGuide #greekwriting

  5. मेरे प्रिय वैज्ञानिक निबंध हिंदी |mere priya vaigyanik hindi nibandh

  6. विज्ञान के चमत्कार पर निबंध l Essay On Wonder Of Science l Essay On Wonder Of Science In Hindi l

COMMENTS

  1. विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Wonder of Science Essay in Hindi)

    विज्ञान के चमत्कार पर निबंध (Essay on Vigyan ke chamatkar in Hindi) - प्रस्तावना (Introduction) हमेशा से कहा जाता रहा है कि 'आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है', जैसे ...

  2. Scientist Essay in Hindi: वैज्ञानिक ...

    कई बार छात्रों को वैज्ञानिक पर निबंध तैयार करने को दिया जाता है। Scientist Essay in Hindi के बारे में जानने के लिए इस ब्लॉग को अंत तक पढ़ें।

  3. विज्ञान पर निबंध (Science Essay in Hindi)

    विज्ञान पर निबंध (Science Essay in Hindi) By मीनू पाण्डेय / January 24, 2020. आज का युग विज्ञान का युग है। आज हर जगह सिर्फ विज्ञान का ही बोलबाला है। कलम से लेकर ...

  4. यदि मैं वैज्ञानिक होता हिंदी निबंध

    Here We Know About Essay on If I Were/ Was Or Happen Scientist in Hindi Language Short & Long Essay In 5, 10 Lines, 100, 150, 200, 250, 300, 400, and 500 Words I Want To Become Scientist Essay in Hindi. यदि मैं वैज्ञानिक होता निबंध - 1. प्रस्तावना

  5. My Favourite Scientist Essay In Hindi

    अब्दुल कलाम (My Favourite Scientist Essay In Hindi) वैज्ञानिक डॉ. अब्दुल कलाम वह नाम है जिसे भारत का बच्चा-बच्चा जानता है और देश में डॉ. अब्दुल कलाम को सबसे ...

  6. Wonders of Science

    हिन्दी निबंध : विज्ञान के चमत्कार. - परिधि वर्मा. wonders of scienc e. प्रस्तावना : आज पूरी दुनिया में विज्ञान की पताका लहरा रही है। जीवन तथा ...

  7. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध (Abdul Kalam Essay in Hindi)

    ए.पी.जे. अब्दुल कलाम पर निबंध (Abdul Kalam Essay in Hindi) By अर्चना सिंह / July 20, 2023. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम जनसाधारण में डॉ ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के रुप में जाने ...

  8. विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर निबंध (Essay Science And Technology in Hindi

    Essay Science And Technology in Hindi - विज्ञान और प्रौद्योगिकी इस समय की परम आवश्यकता ...

  9. विज्ञान के चमत्कार निबंध

    विज्ञान के चमत्कार निबंध | Miracle of Science Essay in Hindi . विज्ञान के ज्ञान ने मानव जीवन को बहुत कुछ दिया है। आज हम जैसा भी जीवन जी रहे हैं उसका कारण विज्ञान ही है। हमारे ...

  10. Essay on science in hindi, importance, wonders: विज्ञान पर निबंध

    विज्ञान पर निबंध, Essay on science in hindi (200 शब्द) विज्ञान में प्राकृतिक और भौतिक दुनिया के व्यवहार का व्यापक अध्ययन शामिल है। अध्ययन का संचालन ...

  11. भारत के 7 महान वैज्ञानिक की कहानी ! Great Indian Scientists Info In Hindi

    Filed Under: Biography, Great Scientist of India, Hindi Essay, प्रेरक जीवन, हिन्दी जीवनी, हिन्दी निबन्ध Tagged With: apj abdul kalam, bharat ke 7 mahan vaigyanik, bharat ke mahan scientists, bharat ke vaigyanik, birbal sahni, c.v.raman, chandrashekhar subrahmnayam, Famous indian ...

  12. विज्ञान का महत्व पर निबंध

    विज्ञान एक वरदान पर निबंध - Long Essay On Science In Hindi Language. 1. आज के समय में विज्ञान ने अथाह उन्नति कर ली है। मनुष्य मंगल ग्रह पर जाने का प्लान कर रहा है ...

  13. Wonder Of Science Essay In Hindi

    विज्ञान के चमत्कार पर निबंध Wonder Of Science Essay In Hindi पढ़ेगे. विज्ञान ने हमें क्या नही दिया, उनके बढ़ते कदम चमत्कारों के कारण साइंस

  14. Indian Scientists and Inventions (Hindi)

    Indian Scientists information and inventions Essay and Small Biography in Hindi - महान भारतीय वैज्ञानिकों की ...

  15. विज्ञान पर निबंध

    Essay on Science in Hindi विज्ञान पर निबंध 300 शब्दों में, विज्ञान के चमत्कार पर निबंध, विज्ञान पर निबंध 10 लाइन, विज्ञान पर निबंध 200 शब्दों में, विज्ञान पर निबंध 1000 शब्दों ...

  16. विज्ञान

    विज्ञान वह व्यवस्थित ज्ञान या विद्या है जो विचार, अवलोकन, अध्ययन और प्रयोग से मिलती है, जो किसी अध्ययन के विषय की प्रकृति या ...

  17. अंतरिक्ष में विज्ञान पर निबंध

    दोस्तों यदि आपकों Essay On Science In Space In Hindi Language का यह लेख आपकों पसंद आया हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

  18. यदि मैं वैज्ञानिक होता तो पर निबंध (If I Were A Scientist Essay In Hindi)

    यदि मैं वैज्ञानिक होता विषय पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On If I Was A Scientist In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट ...

  19. विज्ञान वरदान है या अभिशाप पर निबंध

    विज्ञान वरदान है या अभिशाप पर लघु व दीर्घ निबंध (Short and Long Essay on Science is a Boon or Curse in Hindi, Vigyan Vardan ya Abhishap par Nibandh Hindi mein) मैंने इस निबंध के माध्यम से विज्ञान के सभी ...

  20. विज्ञान पर निबंध

    Essay on Science in Hindi: आज का यह आधुनिक और चमत्कारिक युग विज्ञान का युग है। छोटे से छोटे गांव से लेकर देश-विदेश हर जगह विज्ञान की अलग ही झलक देखने को मिलती

  21. मेरा प्रिय वैज्ञानिक निबंध, Essay On My Favourite Scientist in Hindi

    मेरा प्रिय वैज्ञानिक पर निबंध, Essay On My Favourite Scientist in Hindi. आपके जीवन में किसी का रोल मॉडल के रूप में होना बहुत महत्वपूर्ण है जो आपको भविष्य में कुछ बनने के लिए ...

  22. विज्ञान दिवस पर निबंध हिंदी में

    Science Day Essay in Hindi: राष्ट्रीय विज्ञान दिवस ( National Science day) हर साल 28 फरवरी को मनाया जाता है। यह दिन प्रसिद्ध भारतीय भौतिक विज्ञानी सर सीवी रमन की 'रमन प्रभाव' की खोज का ...

  23. Photo Essay: My Spring 2024 Semester at CDS

    Computational Humanities, Arts & Social Sciences hosted a variety of tutorials ranging from "An Analysis on Emerson's Work" to large language model discussions throughout the Spring 2024 semester.These sessions are a great way to learn about the data science industry and how your skills will be used in the real world.

  24. Honeybees Don't Need Saving, I Learned When They Invaded My House

    Responding to fears of a "honeybee collapse," 30 states have passed laws to protect the pollinators. But when they invaded my house, I learned that the honeybees didn't need saving.

  25. Calicut University Results 2024 announced for 1st, 2nd, 3rd and 4th

    Calicut University announced semester results for 2023 exams, including MA English, Sanskrit, Arabic, Hindi, Political Science, B.Arch 6th sem, and Bachelor of Fine Arts first-year results.

  26. राष्ट्रिय विज्ञान दिवस पर निबंध (National Science Day Essay in Hindi)

    राष्ट्रिय विज्ञान दिवस पर निबंध (National Science Day Essay in Hindi) By Kumar Gourav / October 17, 2020. भारत में, राष्ट्रीय विज्ञान दिवस को हर साल 28 फरवरी को बड़े भौतिक ...

  27. The Happiness Gap Between Left and Right Isn't Closing

    Mr. Edsall contributes a weekly column from Washington, D.C., on politics, demographics and inequality. Why is it that a substantial body of social science research finds that conservatives are ...

  28. Why Losing Political Power Now Feels Like 'Losing Your Country'

    "Human brains are constantly scanning for threats to in-groups," Rachel Kleinfeld, a senior fellow at the Carnegie Endowment for International Peace, wrote in a September 2023 essay ...

  29. Harvard scientists, with Google, unveil the most detailed brain map

    Harvard researchers, with Google and other partners, spent a decade deciphering 1 cubic millimeter of brain tissue to build the most detailed map ever of the organ.